Breaking News
Home / समाचार / कलह कदम्ब तब होते हैं जब हम इंसानियत को नीचे और धर्म को ऊपर कर देते हैं
Acharya Yugal Kishore आचार्य युगल किशोर शरण शास्त्री

कलह कदम्ब तब होते हैं जब हम इंसानियत को नीचे और धर्म को ऊपर कर देते हैं

फैजाबाद, 23 सितंबर 2013। चिश्ती सद्भावना अवार्ड (Chishti sadbhaavana award) से सम्मानित युगल किशोर शरण शास्त्री (yugal kishor sharan shasti) ने कहा है कि कलह कदम्ब तब होते हैं जब हम इंसानियत को नीचे और मजहब व धर्म को ऊपर कर देते हैं।

श्री शास्त्री अमन पखवाड़ा 2013 के चौथे दिन फार्ब्स इंटर कालेज में बच्चों के बीच व्याख्यान दे रहे थे। अमन पखवाड़ा के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि हम इन्सान हैं और हमारी असली पहचान भी यही हो सकती है। आपसी सौहार्द से विकास के रास्ते भी खुलते हैं।

इस अवसर पर कॉलेज के प्रिंसिपल रियाज़ अहमद खान ने अपने उद्बोधन से शास्त्री और उनके साथियों को धन्यवाद दिया। इस अवसर पर अभियान के साथी वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्त्ता शाह आलम, अफाक, आलोक निगम और शिवम् भी शामिल थे।

कार्यक्रम के बाद कालेज के छात्रों के माध्यम से एक हजार परिवारों में अपील के पर्चे वितरित किये गये। यहाँ के बाद कार्यकर्ताओं की टीम द्र्श्गाह इस्लामिया स्कूल पहुँची। वहाँ पर बच्चों में पाँच सौ अपील वितरित किये गये।

अभियान की टीम ने मोहम्मद हसन साहेब के स्कूल पहुँच कर बच्चो में 500 अपील वितरित कीं।

About हस्तक्षेप

Check Also

Health News

सोने से पहले इन पांच चीजों का करें इस्तेमाल और बनें ड्रीम गर्ल

आजकल व्यस्त ज़िंदगी (fatigue life,) के बीच आप अपनी त्वचा (The skin) का सही तरीके से ख्याल नहीं रख पाती हैं। इसका नतीजा होता है कि आपकी स्किन रूखी और बेजान होकर अपनी चमक खो देती है। आपके चेहरे पर वक्त से पहले बुढ़ापा (Premature aging) नजर आने लगता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: