Breaking News
Home / नीतीशाय: नमन्, जनताय: नमन्

नीतीशाय: नमन्, जनताय: नमन्

खेल का रहस्य मैंने गरीब परवर ऐयार भूतनाथ से जाना था । लेखन की शैली दुर्गा प्रसाद खत्री से जाना था कि एक वास्तु शास्त्र की चीज होती है तिलिस्म । तिलिस्म में ही एक सत्ता शास्त्र होता है । आज कल सत्ता शास्त्र ह नीतीश कुमार के नाम से जाना जाता है । क्या तिलिस्म की दुनिया बनाई बाबू नीतीश कुमार ने । सारा आयडिया पांच साल पापड़ बेलते बेलते आया था । बिहार को विकास का ताजा बासी खाना खिलाते खिलाते आया था । बिहार में तरह तरह के प्रवास से आया था । दुर्गा प्रसाद  खत्री का चंद्रकांता और चंद्रकांता संतत्ति क्या था । प्रेम कहानी का राजपाट संस्कृति है । राजपाट जब लोकप्रिय हो जाता है तो वह भी राजपाट संत्तति कहलाता है । अब बिहार के राजपाट में नीतीशाय: संत्तति का आगमन हो चुका है । नीतीश कुमार संत्तति में सगी संतान नहीं होती ।   संतान नहीं जनता कहलाते हैं । कभी जो दोस्त कहलाते थे तरक्की कर भूतनाथ कहलाते हैं । भूतनाथ बन चुके दोस्त जो कल तक चंपू कमिटी कहलाते थे ,अब बिना सलाह दिये भी सलाहकार कहलाते हैं । अभी तक उनकी हैसियत के बारे में पता नहीं चला है जो नीतीश कुमार को देसी – विदेसी –अमरेकी प्रमाणपत्र दिलवाते थे । अब नीतीश कुमार ही प्रमाण हैं और वही प्रमाण पत्र । हम अपनी ऐयारी में कहेंगे नीतीशाय: नमन और अपने संपूर्ण अहंकार के साथ नीतीश कुमार कहेंगे जनताय:नमन् ।
हमारा नीतीशाय: नमन् बड़ा मतलबी मतलबी चीज है । अब हमारी यही इच्छा है कि चंपू कमिटी की सदस्यता हमें भी मिल जाए । सदस्यता न भी मिले तो हम विशेष आमंत्रित मान लिए जाएं । विशेष आमंत्रित न भी मानें तो अपनी दहलीज पर खड़े रहने का मौका मिल जाए । अब तो मुश्किल यह भी है कि बिहार के वोटर ने एक सूरमा को बहुत पहले अपने तिलिस्म में बांध दिया था । तिलिस्म की चाबी नीतीश कुमार ने महादलित को सौंप दी । महादलित अपना ही तिलिस्म बना रहा है । इसमें फंसे हैं राम बिलास पासवान । लालू जी जीतते तो वह लालू जी के तिलिस्म में फंसे रहते । लालू जी को कभी अपना जिन्न निकालना होता तो राम बिलास जी को निकाल देते । मुश्किल यह भी है कि लालू जी के जिन्न का समय पूरा हो गया । जाते जाते वह लालू जी को भी अपने तिलिस्म में बांध गया । दोनों फंसे हैं अपने अपने तिलिस्म में । अब दोनों प्रार्थना करें कि नीतीश कुमार संपूर्ण अहंकारी – एकाधिकारवादी हो जाएं तो ही तिलिस्म जनता तोड़ेगी । तब तक लालू जी की पार्टी टूटेगी । नेता चुनाव न जितवा सके , सरकार में न हो तो अपनी यादों के तिलिस्म में बंधा चमकता रहता है । चमक से पार्टी के लोगों की आंख चौंधियाती है और वह अपने से पराये हो जाते हैं।
नीतीश कुमार का जनताय: नमन्  बड़ी ऊंची ऊंची चीज है । इतनी ऊंची है कि नीतीश कुमार ही शिखर पर पहुंच गए हैं । नीतीश कुमार मन्नुभाई मुनीम नहीं हैं कि हैं उनका शिखर की बुनियाद सोनिया गांधी पर टिकी हो । यहां तो बुनियाद भी खुद हैं – शिखर भी स्वंय । यहां मनुष्य अकेला होता है । या फिर होते हैं भूतनाथ । भूतनाथ से अकेला भी नहीं बचता । जनताय: नमन् ही इकलौता मंत्र है जिससे शिखर पुरुष तानाशाह होने से बचता है । पर तुलसी दास ने कहा था “ पर हित सरिस धर्म नहिं भाई ,पर पीड़ा सम नहिं अधमाई ।

About हस्तक्षेप

Check Also

कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य और मनमोहन सिंह सरकार में ग्रामीण विकास और पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय संभाल चुके प्रसिद्ध अर्थशास्त्री जयराम रमेश

जयराम रमेश ने की मोदी की तारीफ, तो सवाल उठा आर्थिक मंदी, किसानों की बदहाली और बेरोजगारी के लिए कौन जिम्मेदार

नई दिल्ली, 23 अगस्त। कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य और मनमोहन सिंह सरकार में ग्रामीण विकास …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: