Breaking News
Home / वोट की चोट से बदला लेंगे हुड्डा
प्रदेश के कर्मचारियों को पहली नवम्बर से पंजाब के समान वेतनमान सभी पेंशनर को पहली नवम्बर से 1500 रुपए पेंशन मिला करेगी कमलजीत अविनाशी चण्डीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने आज विपक्षी दल भाजपा, इनेलो और राजनैतिक विपक्षी नेताओं पर प्रहार करते हुए लोगों से कहा कि आने वाले विधानसभा चुनावों में वोट की चोट से इन लोगों से बदला लिया जाएगा ताकि दल बदलुओं और मलाइदारों को आने वाले विधानसभा चुनावों में सबक सिखाया जाए। दलबदल करने वाले ये कौन लोग हैं, जनता सब जानती है। ये वही मलाईखोर लोग हैं, जो दस साल तक सरकार की प्रशंसा करते रहे। उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि आने दो ऐसे मलाईखोर लोगों को मैदान में, जनता इनको सबक सिखायेगी। मुख्यमंत्री आज पानीपत में एक विशाल विजय संकल्प रैली को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने सत्ता सम्भाली थी तब प्रदेश में अफरातफरी का माहौल था और आज भी मलाईदार नेताओं में अफरातफरी का माहौल है। श्री हुड्डा ने कहा कि सत्ता की अफरातफरी को तो उन्होंने सीधा कर दिया, लेकिन मलाइदार नेताओं की अफरातफरी को आप लोगों ने सीधा कर देना है। उन्होंने पिछले साढ़े नौ वर्ष में राज्य में करवाए गये विकास कार्यों का रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए कहा कि रिपोर्ट कार्ड पेश करने से पहले भूमिका भी बतानी पड़ती है। इस पर उन्होंने उपस्थित जनसमूह से कहा कि वर्ष 2004 में हरियाणा में प्रदेश में गुंडागर्दी का माहौल था, जेल में बैठकर फिरौतियां मांगी जाती थी, रैलियों के नाम पर थैलियां ली जाती थीं, किसानों को गोलियों से भूना जाता था। उन्होंने कहा कि राज्य में हफ्तावसूली और इंस्पैक्टर राज था, सरकारी भूमि और प्लाटों पर कब्जा किया जाता था, कर्मचारियों की छटनी की जाती थी, एमआइटीसी के काफी कर्मचारियों को नौकरी से निकाला गया, हरियाणा के बच्चे 30 से 35 लाख रुपये तक दक्षिण भारत में डोनेशन देकर पढऩे के लिए जाया करते थे, बिजली के नाम पर धरना प्रदर्शन हुआ करते थे, गरीब और पिछड़ा वर्ग श्रेणी के लोगों के बच्चे तीसरी तथा चौथी कक्षा में ही पढ़ाई छोड़ रहे थे, हर तरफ अफरातफरी का माहौल था और शरीफ आदमी भयभीत था। मुख्यमंत्री ने विपक्षी दलों पर हमला करते हुए कहा कि आज भूपेन्द्र सिंह हुड्डा पर भ्रष्टाचार और प्रोपर्टी डीलर का आरोप लगाया जा रहा है, ये वही लोग हैं जो जेल में हैं और चार्जशीटिड हैं। उन्होंने कहा कि एक भी बात साबित करके दिखाओ, राजनीति से बाहर हो जाऊंगा। उन्होंने विपक्षी दलों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि खिसकानी बिल्ली खम्बा नोचे। श्री हुड्डा ने कहा कि भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह दलबदलुओं के बूते सरकार बनाना चाहते हैं ये वहीं लोग हैं जो 10 साल तक कहते थे कि काम नहीं हुआ, लेकिन जनता सब जानती है ये मलाइखोर लोग हैं और स्वार्थी लोग हैं और अपने भले के लिए दल बदल रहे हैं। मलाइखोरों को जनता खुद परख लेगी, आने दो युद्ध में सबक सिखाना है और आप लोगों ने इनको धूल चटा दोगें। श्री हुड्डा ने कहा कि गत 19 अगस्त को कैथल में जो हुआ वह सब आपके सामने है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री किसके निमंत्रण पर उस कार्यक्रम में गया, मुख्यमंत्री एनएचएआई के सरकारी कार्यक्रम में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा गया था, क्या कसूर था, भूपेन्द्र सिंह हुड्डा अपने व्यक्तिगत के लिए नहीं गया था, बल्कि हरियाणा ढाई करोड जनता का नुमायंदा बन कर गया था। इस पर, उन्होंने कहा कि यदि इस कार्यक्रम में मैं किसी को बुला लूं और अपना इशारा कर दूं तो, क्या गरिमा रहेगी, लेकिन मैंने उस कार्यक्रम में भारत के संविधान की गरिमा रखी और अपना फर्ज निभाया, आज हरियाणा में उस बात को लेकर काफी रोष है। यह मेरा अपमान नहीं है, बल्कि पूरे हरियाणा का अपमान है। हरियाणा यह अपमान बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि मुझे पहले से मालूम था और खुफिया विभाग की खबर थी कुछ हो सकता है, मैंने उन पर विश्वास नहीं किया, इन लोगों ने तो प्रधानमंत्री की गरिमा भी नहीं रखी, ये कौन लोग हैं, जनता जानना चाहती है। उन्होंने कहा कि वह एक कार्यक्रम में गये थे तो वहां कुछ लोगों ने कहा कि वह इस अपमान का बदला लेंगे, चौपाल पर चढऩे नहीं देंगे। इस पर श्री हुड्डा ने कहा कि कोई भी भाई आए उसकी बात सुनें परंतु अपमान का बदला वोट की चोट से जरूर लेंगे। उन्होंने कहा कि 10 साल से सरकार चलाई है, आपके आशीर्वाद से अगली बार भी कांग्रेस की सरकार बनेगी, क्योंकि कांग्रेस की नीति स्पष्ट है। मुख्यमंत्री ने विपक्षी दलों को सलाह देते हुए कहा कि लोगों को गुमराह मत करो, उनका अध्यक्ष ये तो कहे कि उनका सीएम उम्मीदवार कौन है, कौन से हल्के से चुनाव  लड़े, क्यों नहीं बताते। उन्होंने कहा कि आज से 10 साल पहले भी भूपेन्द्र सिंह हुड्डा कांग्रेस में था और आज भी कांग्रेस में है। उन्होंने कहा कि जब वर्ष 2005 में उन्होंने सत्ता सम्भाली तो लोग कहते थे कि भई यहां तो ऐसा आदमी है, छ: महीने में सीएम बदला जाएगा, जनसमूह से सीधा सम्वाद करते हुए कहा कि पूरी पांच साल सरकार चलाई। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2009 में उम्मीद से कम सीटें आई 40 विधायक थे, परंतु वगैर किसी लालच के रातोंरात से 40 से 54 बनाए और पूरा राज चलाया। उन्होंने कहा कि मैं राजनैतिक परिवार में पैदा हुआ हूँ और मेरे दादा और पिता भी राजनीति में थे और मुझे तीन बातें सिखाई गई हैं, लोगों की भावना के अनुसार काम करो, लोगों के चेहरे पहचानो और नजरों से नजरें मिलाकर बात करो। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनावों के उपरांत 60 से ज्यादा जनसभाएं कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि जो जनाधार आया है, जनसमर्थन मिल रहा है, और अपने तजुर्बें के आधार पर कहा जा रहा है कि कांग्रेस की सरकार हरियाणा में तीसरी बनने जा रही है उन्होंने कहा कि देश में तो हरियाणा नंबर एक हो गया है अब दुनिया में इसे नंबर एक बनाना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे शिक्षित प्रदेश, विकसित प्रदेश, स्वस्थ, समृद्ध प्रदेश हो को लेकर चलें, इस लिए कर लिया है फैसला करके विचार, कांग्रेस सरकार तीसरी बार। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव में हार का कारण जानना शुरू किया तो यह विशलेषण निकला , कि भाजपा को नीतियों के आधार पर वोट नहीं दिए गए, क्योंकि भाजपा गरीबों की पार्टी नहीं है यह तो धनाढयों की पार्टी है। उन्होंने कहा कि 1 नवम्बर, 2004 को पानीपत से ही विजय बिगुल बजाया था और जनता और सोनिया गांधी के सहयोग और आशीर्वाद से वर्ष 2005 में उन्हें प्रदेश की जनता की सेवा करने का मौका मिला। उन्होंने कहा कि पिछले 9 वर्ष में उन्होंने व्यवस्था बदली है किसी से बदला नहीं लिया। प्रदेश को शिक्षा हब बनाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आगामी पांच सालों में विदशों के बच्चे यहां पढऩे के लिए आया करेंगे। श्री हुड्डा ने कहा कि उनकी सरकार ने किसानों के 1600 करोड़ रुपये के बिजली के बिल माफ किए, 435 करोड़ रुपये के सहकारी ऋ ण और यूपीए सरकार ने 2136 करोड़ रुपये के 7.25 लाख लोगों के ऋण माफ किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हरियाणा में बिजली 10 पैसे प्रति यूनिट किसानो को दी जा रही है और हरियाणा पंजाब में बारिश की भारी कमी है, प्रदेश में अकाल पडऩे जैसे हालात हैं, लेकिन हरियाणा में एक एकड़ भी फसल सूखने नहीं दी जाएगी, चाहे उन्हें कितनी ही मंहगी बिजली खरीदकर देनी क्यों न पड़े। उन्होंने कहा कि प्रदेश में खून के रिश्ते में  सम्पति नाम करवाने पर स्टांप ड्यूटी माफ की गई है, फार्म एसटी 38 समाप्त किया गया है, मनरेगा मजदूरी में 236 रुपये दिए जा रहे हैं। उन्होंने खेल नीति बनाई है, राष्ट्रमण्डल खेलों में जहां भारत को 38 मैडल मिले हंै उनमें से 22 हरियाणा के हैं, ओलंपिक में 6 मैडलों में से 4 हरियाणा के हैं, ग्लास्गो खेलों में 64 मैडलों में से 22 मैडल हरियाणा को प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि गलास्गों खेलों में हरियाणा ने पाकिस्तान से भी ज्यादा मैडल अर्जित किए हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने नीति बनाई है पदक लाओ-पद पाओ।  उन्होंने कहा कि आज हरियाणा 14वें नम्बर से प्रथम स्थान पर है और प्रति व्यक्ति निवेश में भी सबसे आगे हैं। पूर्व की बीजेपी-इनेलो सरकार पर हमला करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान बुजुर्गों को 200 रुपये पेंशन दी जा रही थी और जब उन्होंने सत्ता सम्भाली तो आते ही उन्होंने 300 रुपये पेंशन की और आज बुजुर्गों को 1000 रुपये  प्रतिमहीना पेंशन दी जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 18 लाख लोगों को पेंशन दी जा रही है। इसी प्रकार, पिछड़ा वर्ग और अनुसूचित जाति के 20 लाख बच्चों से पहली कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक वजीफा दिया जा रहा है, जिसमें 225 रुपये बेटी को और 150 रुपये बेटे को दिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 3 लाख 83 हजार लोगों को 100-100 वर्ग गज के मुफ्त प्लाट दिए गये हैं और 10 लाख लोगों को पीने के पानी की टंकी तथा टूटी वितरित की गई है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में गरीब लोगों के लिए दो लाख मकान बनाए जा रहे हैं और शहरी क्षेत्र में डेढ़ लाख मकान बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने कन्यादान योजना के तहत अब तक 300 करोड़ रुपये की राशि शगुन के रूप में वितरित की है। श्री हुड्डा ने कहा कि यूपीए सरकार ने खाद्य सुरक्षा बिल पास किया जिसके तहत हरियाणा प्रथम राज्य था जिसने यह बिल लागू किया, आज हरियाणा में 1 करोड़ 26 लाख लोगों को गेहूं 2 रुपये किलो, चावल 3 रुपये किलों और मोटा आनाज एक रुपये किलो के हिसाब से दिया जाता है। उन्होंने कहा कि हाल ही में केन्द्र में बीजेपी सरकार ने कहा कि वे खाद्य सुरक्षा बिल और मनरेगा की समीक्षा करेंगे, इस पर श्री हुड्डा ने कहा कि यूपीए सरकार ने गरीबों को यह हक दिया है यदि इसके साथ खिलवाड़ करने की कोशिश की गई तो वे र्इंट से ईंट बजा देंगे। मुख्यमंत्री ने सिक्ख भाइयों की प्रसंशा करते हुए कहा कि आज सिक्ख भाइयों ने उन्हें तलवार और सरोपा भेंट किया है और उनकी सरकार ने राज्य के सिक्ख समुदाय के लोगों को गुरुघरों में सेवा करने का अधिकार दिया है। उन्होंने कहा कि हमने जो वादा किया था वह पूरा किया है, चाहे मेवात के विकास की बात हो या अल्पसंख्यक आयोग की बात हो। उन्होंने कहा कि वे मोदी जी से सहमत हैं, क्योंकि लोक सभा चुनावों के दौरान कहा था कि किसी भी प्रदेश के विकास का पैमाना प्रतिव्यक्ति आय से मापा जाता है, वह ठीक थे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय 33000 रुपये सालाना है, जबकि गुजरात की 75000 रुपये सालाना है, इस पर उन्होंने कहा कि हरियाणा की 1 लाख 35 हजार सात रुपये सालाना है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रदेश का विकास प्रतिव्यक्ति आय, प्लान बजट और संसाधन जुटाने से लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आज मेरा परिवार आया हुआ है, मेरी ताकत और पार्टी की शक्ति है। उन्होंने कहा कि मैं गंगा में डूब गया था, जब मैं बच गया तो मैंने संकल्प किया मेरा बचा हुआ जीवन बिना लोभ, लालच के अपने भाइयों की सेवा करूंगा और हर वर्ग के लिए काम करूँगा। इस पर उन्होंने कहा कि आज मैं दोबारा संकल्प ले रहा हूँ कि जब तक मैं जीवित हूँ, मैं प्रदेश के भाइयों की सेवा करता रहूँगा। रैली में उपस्थित जनसमूह से सीधा संवाद करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दस वर्ष पहले गांव एवं शहरों की स्थिति क्या थी और आज क्या है। उन्होंने लोगों से पूछा कि क्या विकास हुआ है? लोगों ने प्रतिउत्तर में हाथ उठाकर मुख्यमंत्री को 'हां' में जवाब दिया। हरियाणा गुरूद्वारा प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष जगदीश सिंह झींडा ने मुख्यमंत्री को तलवार तथा सिरोपा भेंट किया। रैली को संबोधित करते हुए हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ अशोक तंवर ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता पानीपत की यह विजय संकल्प रैली को पानीपत की चौथी लड़ाई के रूप में लें और हरियाणा में कांग्रेस को तीसरी बार जीत दिलाये। उन्होंने कहा कि जो लोग कांग्रेस को छोडक़र दलबदल कर रहे है, उन्हें जल्द ही अहसास हो जायेगा कि ऐसे लोगों ने क्या गलती की है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग चुनाव के बाद पार्टी में लौटने की कोशिश करेंगे लेकिन उनकी कोशिश रहेगी कि ऐसे लोगों की वापसी न हो। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग पार्टी में नये लोगों का उभरने नहीं देते। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सभी कार्यकर्ता एक समान है। लेकिन भाजपा में गये कुछ नेता खुद को बड़ा बताने की कोशिश कर रहे थे। आज जब वे भाजपा में है तो उन्हें अपने से छोटे नेताओं के साथ काम करना पड़ रहा है। उन्होंने लोगों से अपील की कि व्यक्ति विशेष से न जुडक़र पार्टी से जुड़े क्योंकि व्यक्ति आते जाते है लेकिन पार्टी हमेशा रहती है। सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि आज की यह रैली आने वाले समय में प्रदेश को नई दिशा प्रदान करेगी। पिछले 9 वर्षों में प्रदेश में अभूतपूर्व विकास कार्य हुए हैं। उनका लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अच्छे दिनों का सपना दिखाकर वोट बटोरने का कार्य किया परंतु विधानसभा चुनाव बिल्कुल इससे अलग होंगे। विधानसभा चुनाव के बाद इनेलो का अस्तित्व खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में इनेलों ने स्वर्गीय चौ.देवीलाल का नाम न लेकर नरेंद्र मोदी के नाम वोट मांगें। बाद में उनके दो सांसद बीजेपी को समर्थन देने के लिए कहते रहे परंतु उनका समर्थन नहीं लिया इसके क्या कारण है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने जिस प्रकार लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में तथा राजस्थान में श्रीमती वसुंधरा राजे को मुख्यमंत्री के रूप में घोषित किया था। उसी प्रकार वे हरियाणा में भी मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के समक्ष अपनी पार्टी के मुख्यमंत्री के उम्मीदवार का नाम घोषित करें। उन्होंने कहा कि पिछले 9 वर्षों से अधिक के कार्यकाल के दौरान हरियाणा के युवाओं को खेल व शिक्षा के प्रति सकारात्मक दिशा प्रदान की गई है। जबकि पंजाब के युवा नशे की और तथा उत्तरप्रदेश के युवा अपराध की ओर जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा व खेल से तरक्की होती है। आने वाले समय में हरियाणा में शत्-प्रतिशत युवा शिक्षित होंगे और शत-प्रतिशत रोजगारपरक पाठ्यक्रम चलाकर उन्हें शिक्षा उपलब्ध करवाई जाएगी ताकि हरियाणा के लोगों को देश के कोने-कोने में रोजगार मिले और प्रदेश दुनिया में आगे बढ़े। इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री हरमोहिन्द्र सिंह, सिंचाई मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव, आबकारी एवं कराधान मंत्री श्रीमती किरण चौधरी, शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती सावित्री जिंदल, परिवहन मंत्री आफताब अहमद, विधानसभा अध्यक्ष श्री कुलदीप शर्मा, 20 सूत्रीय कार्यक्रम के उपाध्यक्ष श्री फूलचंद मुलाना, पूर्व राज्यसभा सांसद डॉ राम प्रकाश तथा विधायक श्री बलबीर पाल शाह ने भी संबोधित किया।

वोट की चोट से बदला लेंगे हुड्डा

प्रदेश के कर्मचारियों को पहली नवम्बर से पंजाब के समान वेतनमान
सभी पेंशनर को पहली नवम्बर से 1500 रुपए पेंशन मिला करेगी
कमलजीत अविनाशी
चण्डीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने आज विपक्षी दल भाजपा, इनेलो और राजनैतिक विपक्षी नेताओं पर प्रहार करते हुए लोगों से कहा कि आने वाले विधानसभा चुनावों में वोट की चोट से इन लोगों से बदला लिया जाएगा ताकि दल बदलुओं और मलाइदारों को आने वाले विधानसभा चुनावों में सबक सिखाया जाए। दलबदल करने वाले ये कौन लोग हैं, जनता सब जानती है। ये वही मलाईखोर लोग हैं, जो दस साल तक सरकार की प्रशंसा करते रहे। उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि आने दो ऐसे मलाईखोर लोगों को मैदान में, जनता इनको सबक सिखायेगी।

मुख्यमंत्री आज पानीपत में एक विशाल विजय संकल्प रैली को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने सत्ता सम्भाली थी तब प्रदेश में अफरातफरी का माहौल था और आज भी मलाईदार नेताओं में अफरातफरी का माहौल है।

श्री हुड्डा ने कहा कि सत्ता की अफरातफरी को तो उन्होंने सीधा कर दिया, लेकिन मलाइदार नेताओं की अफरातफरी को आप लोगों ने सीधा कर देना है। उन्होंने पिछले साढ़े नौ वर्ष में राज्य में करवाए गये विकास कार्यों का रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए कहा कि रिपोर्ट कार्ड पेश करने से पहले भूमिका भी बतानी पड़ती है। इस पर उन्होंने उपस्थित जनसमूह से कहा कि वर्ष 2004 में हरियाणा में प्रदेश में गुंडागर्दी का माहौल था, जेल में बैठकर फिरौतियां मांगी जाती थी, रैलियों के नाम पर थैलियां ली जाती थीं, किसानों को गोलियों से भूना जाता था। उन्होंने कहा कि राज्य में हफ्तावसूली और इंस्पैक्टर राज था, सरकारी भूमि और प्लाटों पर कब्जा किया जाता था, कर्मचारियों की छटनी की जाती थी, एमआइटीसी के काफी कर्मचारियों को नौकरी से निकाला गया, हरियाणा के बच्चे 30 से 35 लाख रुपये तक दक्षिण भारत में डोनेशन देकर पढऩे के लिए जाया करते थे, बिजली के नाम पर धरना प्रदर्शन हुआ करते थे, गरीब और पिछड़ा वर्ग श्रेणी के लोगों के बच्चे तीसरी तथा चौथी कक्षा में ही पढ़ाई छोड़ रहे थे, हर तरफ अफरातफरी का माहौल था और शरीफ आदमी भयभीत था।

मुख्यमंत्री ने विपक्षी दलों पर हमला करते हुए कहा कि आज भूपेन्द्र सिंह हुड्डा पर भ्रष्टाचार और प्रोपर्टी डीलर का आरोप लगाया जा रहा है, ये वही लोग हैं जो जेल में हैं और चार्जशीटिड हैं। उन्होंने कहा कि एक भी बात साबित करके दिखाओ, राजनीति से बाहर हो जाऊंगा। उन्होंने विपक्षी दलों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि खिसकानी बिल्ली खम्बा नोचे।

श्री हुड्डा ने कहा कि भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह दलबदलुओं के बूते सरकार बनाना चाहते हैं ये वहीं लोग हैं जो 10 साल तक कहते थे कि काम नहीं हुआ, लेकिन जनता सब जानती है ये मलाइखोर लोग हैं और स्वार्थी लोग हैं और अपने भले के लिए दल बदल रहे हैं। मलाइखोरों को जनता खुद परख लेगी, आने दो युद्ध में सबक सिखाना है और आप लोगों ने इनको धूल चटा दोगें।

श्री हुड्डा ने कहा कि गत 19 अगस्त को कैथल में जो हुआ वह सब आपके सामने है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री किसके निमंत्रण पर उस कार्यक्रम में गया, मुख्यमंत्री एनएचएआई के सरकारी कार्यक्रम में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा गया था, क्या कसूर था, भूपेन्द्र सिंह हुड्डा अपने व्यक्तिगत के लिए नहीं गया था, बल्कि हरियाणा ढाई करोड जनता का नुमायंदा बन कर गया था। इस पर, उन्होंने कहा कि यदि इस कार्यक्रम में मैं किसी को बुला लूं और अपना इशारा कर दूं तो, क्या गरिमा रहेगी, लेकिन मैंने उस कार्यक्रम में भारत के संविधान की गरिमा रखी और अपना फर्ज निभाया, आज हरियाणा में उस बात को लेकर काफी रोष है। यह मेरा अपमान नहीं है, बल्कि पूरे हरियाणा का अपमान है। हरियाणा यह अपमान बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि मुझे पहले से मालूम था और खुफिया विभाग की खबर थी कुछ हो सकता है, मैंने उन पर विश्वास नहीं किया, इन लोगों ने तो प्रधानमंत्री की गरिमा भी नहीं रखी, ये कौन लोग हैं, जनता जानना चाहती है। उन्होंने कहा कि वह एक कार्यक्रम में गये थे तो वहां कुछ लोगों ने कहा कि वह इस अपमान का बदला लेंगे, चौपाल पर चढऩे नहीं देंगे। इस पर श्री हुड्डा ने कहा कि कोई भी भाई आए उसकी बात सुनें परंतु अपमान का बदला वोट की चोट से जरूर लेंगे।

उन्होंने कहा कि 10 साल से सरकार चलाई है, आपके आशीर्वाद से अगली बार भी कांग्रेस की सरकार बनेगी, क्योंकि कांग्रेस की नीति स्पष्ट है। मुख्यमंत्री ने विपक्षी दलों को सलाह देते हुए कहा कि लोगों को गुमराह मत करो, उनका अध्यक्ष ये तो कहे कि उनका सीएम उम्मीदवार कौन है, कौन से हल्के से चुनाव  लड़े, क्यों नहीं बताते। उन्होंने कहा कि आज से 10 साल पहले भी भूपेन्द्र सिंह हुड्डा कांग्रेस में था और आज भी कांग्रेस में है। उन्होंने कहा कि जब वर्ष 2005 में उन्होंने सत्ता सम्भाली तो लोग कहते थे कि भई यहां तो ऐसा आदमी है, छ: महीने में सीएम बदला जाएगा, जनसमूह से सीधा सम्वाद करते हुए कहा कि पूरी पांच साल सरकार चलाई। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2009 में उम्मीद से कम सीटें आई 40 विधायक थे, परंतु वगैर किसी लालच के रातोंरात से 40 से 54 बनाए और पूरा राज चलाया। उन्होंने कहा कि मैं राजनैतिक परिवार में पैदा हुआ हूँ और मेरे दादा और पिता भी राजनीति में थे और मुझे तीन बातें सिखाई गई हैं, लोगों की भावना के अनुसार काम करो, लोगों के चेहरे पहचानो और नजरों से नजरें मिलाकर बात करो। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनावों के उपरांत 60 से ज्यादा जनसभाएं कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि जो जनाधार आया है, जनसमर्थन मिल रहा है, और अपने तजुर्बें के आधार पर कहा जा रहा है कि कांग्रेस की सरकार हरियाणा में तीसरी बनने जा रही है उन्होंने कहा कि देश में तो हरियाणा नंबर एक हो गया है अब दुनिया में इसे नंबर एक बनाना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे शिक्षित प्रदेश, विकसित प्रदेश, स्वस्थ, समृद्ध प्रदेश हो को लेकर चलें, इस लिए कर लिया है फैसला करके विचार, कांग्रेस सरकार तीसरी बार। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोकसभा चुनाव में हार का कारण जानना शुरू किया तो यह विशलेषण निकला , कि भाजपा को नीतियों के आधार पर वोट नहीं दिए गए, क्योंकि भाजपा गरीबों की पार्टी नहीं है यह तो धनाढयों की पार्टी है।

उन्होंने कहा कि 1 नवम्बर, 2004 को पानीपत से ही विजय बिगुल बजाया था और जनता और सोनिया गांधी के सहयोग और आशीर्वाद से वर्ष 2005 में उन्हें प्रदेश की जनता की सेवा करने का मौका मिला। उन्होंने कहा कि पिछले 9 वर्ष में उन्होंने व्यवस्था बदली है किसी से बदला नहीं लिया। प्रदेश को शिक्षा हब बनाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आगामी पांच सालों में विदशों के बच्चे यहां पढऩे के लिए आया करेंगे। श्री हुड्डा ने कहा कि उनकी सरकार ने किसानों के 1600 करोड़ रुपये के बिजली के बिल माफ किए, 435 करोड़ रुपये के सहकारी ऋ ण और यूपीए सरकार ने 2136 करोड़ रुपये के 7.25 लाख लोगों के ऋण माफ किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हरियाणा में बिजली 10 पैसे प्रति यूनिट किसानो को दी जा रही है और हरियाणा पंजाब में बारिश की भारी कमी है, प्रदेश में अकाल पडऩे जैसे हालात हैं, लेकिन हरियाणा में एक एकड़ भी फसल सूखने नहीं दी जाएगी, चाहे उन्हें कितनी ही मंहगी बिजली खरीदकर देनी क्यों न पड़े। उन्होंने कहा कि प्रदेश में खून के रिश्ते में  सम्पति नाम करवाने पर स्टांप ड्यूटी माफ की गई है, फार्म एसटी 38 समाप्त किया गया है, मनरेगा मजदूरी में 236 रुपये दिए जा रहे हैं। उन्होंने खेल नीति बनाई है, राष्ट्रमण्डल खेलों में जहां भारत को 38 मैडल मिले हंै उनमें से 22 हरियाणा के हैं, ओलंपिक में 6 मैडलों में से 4 हरियाणा के हैं, ग्लास्गो खेलों में 64 मैडलों में से 22 मैडल हरियाणा को प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि गलास्गों खेलों में हरियाणा ने पाकिस्तान से भी ज्यादा मैडल अर्जित किए हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने नीति बनाई है पदक लाओ-पद पाओ।  उन्होंने कहा कि आज हरियाणा 14वें नम्बर से प्रथम स्थान पर है और प्रति व्यक्ति निवेश में भी सबसे आगे हैं।

पूर्व की बीजेपी-इनेलो सरकार पर हमला करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान बुजुर्गों को 200 रुपये पेंशन दी जा रही थी और जब उन्होंने सत्ता सम्भाली तो आते ही उन्होंने 300 रुपये पेंशन की और आज बुजुर्गों को 1000 रुपये  प्रतिमहीना पेंशन दी जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 18 लाख लोगों को पेंशन दी जा रही है। इसी प्रकार, पिछड़ा वर्ग और अनुसूचित जाति के 20 लाख बच्चों से पहली कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक वजीफा दिया जा रहा है, जिसमें 225 रुपये बेटी को और 150 रुपये बेटे को दिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 3 लाख 83 हजार लोगों को 100-100 वर्ग गज के मुफ्त प्लाट दिए गये हैं और 10 लाख लोगों को पीने के पानी की टंकी तथा टूटी वितरित की गई है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में गरीब लोगों के लिए दो लाख मकान बनाए जा रहे हैं और शहरी क्षेत्र में डेढ़ लाख मकान बनाए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने कन्यादान योजना के तहत अब तक 300 करोड़ रुपये की राशि शगुन के रूप में वितरित की है। श्री हुड्डा ने कहा कि यूपीए सरकार ने खाद्य सुरक्षा बिल पास किया जिसके तहत हरियाणा प्रथम राज्य था जिसने यह बिल लागू किया, आज हरियाणा में 1 करोड़ 26 लाख लोगों को गेहूं 2 रुपये किलो, चावल 3 रुपये किलों और मोटा आनाज एक रुपये किलो के हिसाब से दिया जाता है। उन्होंने कहा कि हाल ही में केन्द्र में बीजेपी सरकार ने कहा कि वे खाद्य सुरक्षा बिल और मनरेगा की समीक्षा करेंगे, इस पर श्री हुड्डा ने कहा कि यूपीए सरकार ने गरीबों को यह हक दिया है यदि इसके साथ खिलवाड़ करने की कोशिश की गई तो वे र्इंट से ईंट बजा देंगे।

मुख्यमंत्री ने सिक्ख भाइयों की प्रसंशा करते हुए कहा कि आज सिक्ख भाइयों ने उन्हें तलवार और सरोपा भेंट किया है और उनकी सरकार ने राज्य के सिक्ख समुदाय के लोगों को गुरुघरों में सेवा करने का अधिकार दिया है। उन्होंने कहा कि हमने जो वादा किया था वह पूरा किया है, चाहे मेवात के विकास की बात हो या अल्पसंख्यक आयोग की बात हो। उन्होंने कहा कि वे मोदी जी से सहमत हैं, क्योंकि लोक सभा चुनावों के दौरान कहा था कि किसी भी प्रदेश के विकास का पैमाना प्रतिव्यक्ति आय से मापा जाता है, वह ठीक थे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय 33000 रुपये सालाना है, जबकि गुजरात की 75000 रुपये सालाना है, इस पर उन्होंने कहा कि हरियाणा की 1 लाख 35 हजार सात रुपये सालाना है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रदेश का विकास प्रतिव्यक्ति आय, प्लान बजट और संसाधन जुटाने से लगाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि आज मेरा परिवार आया हुआ है, मेरी ताकत और पार्टी की शक्ति है। उन्होंने कहा कि मैं गंगा में डूब गया था, जब मैं बच गया तो मैंने संकल्प किया मेरा बचा हुआ जीवन बिना लोभ, लालच के अपने भाइयों की सेवा करूंगा और हर वर्ग के लिए काम करूँगा। इस पर उन्होंने कहा कि आज मैं दोबारा संकल्प ले रहा हूँ कि जब तक मैं जीवित हूँ, मैं प्रदेश के भाइयों की सेवा करता रहूँगा।

रैली में उपस्थित जनसमूह से सीधा संवाद करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि दस वर्ष पहले गांव एवं शहरों की स्थिति क्या थी और आज क्या है। उन्होंने लोगों से पूछा कि क्या विकास हुआ है? लोगों ने प्रतिउत्तर में हाथ उठाकर मुख्यमंत्री को ‘हां’ में जवाब दिया।

हरियाणा गुरूद्वारा प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष जगदीश सिंह झींडा ने मुख्यमंत्री को तलवार तथा सिरोपा भेंट किया।

रैली को संबोधित करते हुए हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ अशोक तंवर ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता पानीपत की यह विजय संकल्प रैली को पानीपत की चौथी लड़ाई के रूप में लें और हरियाणा में कांग्रेस को तीसरी बार जीत दिलाये। उन्होंने कहा कि जो लोग कांग्रेस को छोडक़र दलबदल कर रहे है, उन्हें जल्द ही अहसास हो जायेगा कि ऐसे लोगों ने क्या गलती की है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग चुनाव के बाद पार्टी में लौटने की कोशिश करेंगे लेकिन उनकी कोशिश रहेगी कि ऐसे लोगों की वापसी न हो। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग पार्टी में नये लोगों का उभरने नहीं देते।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सभी कार्यकर्ता एक समान है। लेकिन भाजपा में गये कुछ नेता खुद को बड़ा बताने की कोशिश कर रहे थे। आज जब वे भाजपा में है तो उन्हें अपने से छोटे नेताओं के साथ काम करना पड़ रहा है। उन्होंने लोगों से अपील की कि व्यक्ति विशेष से न जुडक़र पार्टी से जुड़े क्योंकि व्यक्ति आते जाते है लेकिन पार्टी हमेशा रहती है।

सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि आज की यह रैली आने वाले समय में प्रदेश को नई दिशा प्रदान करेगी। पिछले 9 वर्षों में प्रदेश में अभूतपूर्व विकास कार्य हुए हैं। उनका लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अच्छे दिनों का सपना दिखाकर वोट बटोरने का कार्य किया परंतु विधानसभा चुनाव बिल्कुल इससे अलग होंगे। विधानसभा चुनाव के बाद इनेलो का अस्तित्व खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में इनेलों ने स्वर्गीय चौ.देवीलाल का नाम न लेकर नरेंद्र मोदी के नाम वोट मांगें। बाद में उनके दो सांसद बीजेपी को समर्थन देने के लिए कहते रहे परंतु उनका समर्थन नहीं लिया इसके क्या कारण है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने जिस प्रकार लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में तथा राजस्थान में श्रीमती वसुंधरा राजे को मुख्यमंत्री के रूप में घोषित किया था। उसी प्रकार वे हरियाणा में भी मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के समक्ष अपनी पार्टी के मुख्यमंत्री के उम्मीदवार का नाम घोषित करें।

उन्होंने कहा कि पिछले 9 वर्षों से अधिक के कार्यकाल के दौरान हरियाणा के युवाओं को खेल व शिक्षा के प्रति सकारात्मक दिशा प्रदान की गई है। जबकि पंजाब के युवा नशे की और तथा उत्तरप्रदेश के युवा अपराध की ओर जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा व खेल से तरक्की होती है। आने वाले समय में हरियाणा में शत्-प्रतिशत युवा शिक्षित होंगे और शत-प्रतिशत रोजगारपरक पाठ्यक्रम चलाकर उन्हें शिक्षा उपलब्ध करवाई जाएगी ताकि हरियाणा के लोगों को देश के कोने-कोने में रोजगार मिले और प्रदेश दुनिया में आगे बढ़े।

इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री हरमोहिन्द्र सिंह, सिंचाई मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव, आबकारी एवं कराधान मंत्री श्रीमती किरण चौधरी, शहरी स्थानीय निकाय मंत्री श्रीमती सावित्री जिंदल, परिवहन मंत्री आफताब अहमद, विधानसभा अध्यक्ष श्री कुलदीप शर्मा, 20 सूत्रीय कार्यक्रम के उपाध्यक्ष श्री फूलचंद मुलाना, पूर्व राज्यसभा सांसद डॉ राम प्रकाश तथा विधायक श्री बलबीर पाल शाह ने भी संबोधित किया।

About हस्तक्षेप

Check Also

Rihai Manch, रिहाई मंच,

बाटला हाउस इनकाउंटर की तरह ‘बटला हाउस’ फिल्म भी फर्जी : संजरपुर ग्रामवासी

स्वतंत्रता दिवस पर बटला हाउस फिल्म रिलीज़ (Batla House Film Release) करने का एलान शातिराना

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: