Breaking News
Home / सत्ता अपनी ,पार्टी पराई

सत्ता अपनी ,पार्टी पराई

मन मेरा गाने को है । कुछ कुछ संस्कृत में दुहराने को है । चाल – चरित्र – चिंतन में जाने को है । जाने के बाद हमने पाया कि स्वामी अवसरानंद ने सही कहा था कि सत्ता तो काजल की कोठरी है । पांच रुपए वाली बाजारू क्रीम से भी खुद को गोरा बना कर जाओगे । लेकिन दर्पण में अपना चेहरा ओबामा जैसा पाओगे । तब मन में उठेगा गान । कभी समझा नहीं था इस गान को क्योंकि तोता रटंत की तरह पढ़ता था । यह भी तो संस्कृत में होता था । यह इतना कठिन होता है कि समझना मुश्किल होता है । जैसे बहुत सारे लोगों को यह समझना 24 नवंबर को दोपहर से मुश्किल हो जाएगा कि वोट तो इतना गिरा था – मगर मेरा नहीं पराया पराय बिखरा था । तो पहले मेरा गान जान कर अपना ज्ञान बढ़ा लें । ‘   नमस्ते सदा वत्सले मातृ भूमि , त्वया हिंद भूमि भ्रष्टे भ्रष्टे , कर्नाटक हिंद भूमि कष्टे कष्टे , भ्रामकता का दक्षिण द्वार परेशान है हंसते हंसते  , कहै  वोकलिंग्गा येदिरुप्पा हम नहीं हैं किसी के जाल में फंसते –फंसते ।   ’

सत्ता अपनी है और पार्टी पराई हो गई है । जबरदस्ती का आरोप लगाती है । यह तो हम हैं येदिरुप्पा जिसने कर्नाटक में सत्ता की दुकान जमाई । आपकी भ्रामकता ने इसे दक्षिण प्रवेश का रास्ता समझा । यहां तो हाल यह है कि शिमोगा जाना मुश्किल हो रहा है । बार बार दिल्ली जा रहा हूं । दक्षिण का रास्ता बनाऊं या अपना मुख्य मंत्री पद बचाऊं । यह नहीं चलेगा कि सत्ता हो अपनी और पार्टी हो जाए पराई । हमने भी तो हिंदुत्व के नाम पर कर्नाटक में हुड़दंग मचाया था । कुछ नहीं थोड़ा सा जमीन कबजिया था । सब यही करते हैं तो हमने कौन सा नया चमत्कार दिखाया है । आप कौन होते होते हो तय करने वाले कि हम इस्तीफा दें दे । एक पन्ना कागज बरबाद कर दें । यह कागज बड़ी मुश्किल से आता है । आप कांग्रेस को हड़काओ ,कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट को हड़काए । हम येदिरुप्पा वोकलिंगा , नहीं कोई संसद जिसे आप अपनी जिद में चलने नहीं देते । हम तो अपनी सत्ता चलाएंगे क्योंकि सत्ता अपनी है ,भले ही हो जाए पार्टी पराई ।

सत्ताधारी नहीं डरते जगहंसाई से । यह तो राजपाट का सोहाग भाग है । सीखो कांग्रेस से कैसे राजपाट भोगा जाता है । कितने दम से वह कैग की खिल्ली उड़ाती है । अदालत को समझाती है कि यह भ्रामकता का आदेश नहीं कि मुख्य मंत्री इस्तीफा दे दे । सीबीआई भी जांच में समय लगाती है । अदालत भी फैसला सुनाने में समय लगाती है । सत्ता क्या है ,यह कांग्रेस से सीखो क्योंकि कांग्रेस मानती है कि सत्ता भी अपनी है और पार्टी भी अपनी है ।

इसे कहते हैं बिग बॉस जो कभी था दस का दम । देश को चाहिए ऐसा ही दबंग कि साफ साफ कहे अदालत से कि नियुक्तियों पर सरकार बदनाम नहीं हुई । अदालत अपनी सोचे । हम भी आपकी नियुक्तियों पर सवाल उठा सकते हैं । हमने आरोपों के घेरे में घिरे को मुख्य सतर्कता आयोग बनाया तो बदनाम तो मुन्नी हुई । भ्रष्टाचार के लिए झंडु बाम हुई । और आप हो कि भ्रामक जनता पार्टी येदिरुप्पा वोकलिंगा से बदनाम हुई । कहावत ही है कि बदनाम हुए तो क्या नाम न हुआ । इसलिए स्मरण करो हमारा मूल गीत कि त्वया हिंद भूमि भ्रष्टे भ्रष्टे । यह तो सोचो जरा सत्ता मिलती है कष्टे – कष्टे । ऐसा न करो कि कहना पड़े हमें कि सत्ता अपनी और पार्टी पराई ।

About हस्तक्षेप

Check Also

Obesity News in Hindi

गम्भीर समस्या है बचपन का मोटापा, स्कूल ऐसे कर सकते हैं बच्चों की मदद

एक खबर के मुताबिक भारत में लगभग तीन करोड़ लोग मोटापे से पीड़ित हैं, लेकिन …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: