अभिषेक श्रीवास्तव
अभिषेक श्रीवास्तव

Email
twitter: @abhishekgroo

अभिषेक श्रीवास्तव, लेखक स्वतंत्र पत्रकार व राजनीतिक विश्लेषक हैं।

हमने खलनायकों को पहचानने में देरी की उन्‍हें ‘’मॉब’’ कह कर बेचेहरा रहने दिया ये खतरनाक संकेत है
क्या सही साबित हो गए प्रकाश करात
सरकार और प्रबंधन के आगे सारे संपादक लेट गए हैं
क्या देश के अंदर एक अवैध सेना का निर्माण किया जा चुका है
डरा हुआ इंसान प्रेम कैसे सहेगा जो अब तक नहीं डरा वह प्रेम कर लेता है फिर अंकित मारा जाता है
ये सरकार 2019 में लौटी तो पत्रकारिता के ताबूत में आखिरी कील होगी
यहां का मौजूदा राष्‍ट्रवाद ज़हरीला ही नहीं बेशर्म भी है जो पाकिस्‍तान ने नहीं किया वो भाजपा ने कर दिखाया
बीएचयू  नुकसान उन्‍हीं लड़कियों का जिन्‍होंने ईमानदारी से अपनी आवाज़ उठायी
अबकी बार शिखंडी सरकार प्‍लेबॉय वाली यौन क्रांति से विश्‍वविद्यालय की हिंदू संस्‍कृति को प्रत्‍यक्षत कोई खतरा नहीं
शरदजी को जेपी मूवमेंट के नास्टैल्जिया से बाहर आकर राहुल के नैरेटिव को अपनाना होगा