वीरेन्द्र जैन
वीरेन्द्र जैन

Emailj_virendra@yahoo.com
twitter

वीरेन्द्र जैन, लेखक राजनीतिक विश्लेषक हैं।

दलितों का स्वतंत्रता आन्दोलन शुरू होता है अब
न्यूटन  वैज्ञानिक दृष्टिकोण वाले समाज की स्थापना में चुनौतियां
सुप्रीम कोर्ट का फैसला  तीन तलाक कौन हलाक
लोकतंत्र से लोगों का विश्वास कम हुया तो देश को इराक अफगानिस्तान बनते देर नहीं लगेगी
लिपिस्टिक अन्डर माई बुरका  स्त्री यौनिकता के वर्जित प्रश्न को उठाने की कोशिश
लालू नीतीश विवाद क्या वही है जो मीडिया में दिख रहा या जड़ें कहीं और हैं
मोदीजी  1977 में बहती अंतर्धारा की पहचान कौन कर पाया था
राष्ट्रपति चुनाव  भाजपा की राजनीतिक जीत और नैतिक हार सम्भव है
‘हिन्दी मीडियम’ में व्यवस्था ही खलनायक है
आज़ादी के बाद के आन्दोलन और भ्रष्टाचार