मसीहुद्दीन संजरी
मसीहुद्दीन संजरी

Email
twitter

मसीहुद्दीन संजरी, लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार व राजनैतिक विश्लेषक हैं।

वरना यह दानव बौद्धों और मुसलमानों दोनों को निगल जाएगा
"बोसी बसवा" से होशियार ताकत से विचार को मारना चाहता है
नोटबंदी  देश एक भयंकर आर्थिक मंदी की तरफ बढ़ रहा है अब नहीं जागे तो आगे सोने की फुर्सत ही नहीं मिलेगी
ये योग गुरू कल नए आसाराम रामपाल या गुरमीत राम रहीम नहीं बनेंगे इसकी क्या ज़मानत है
कोर्ट ने याद दिलाया कि मोदी भारत के प्रधान मंत्री हैं न कि भाजपा के शर्म इनको मगर आती नहीं
और चौथी बार जीवित हो गया साजिद बड़ा
अमरनाथ यात्रियों पर हमला  कश्मीर में लश्कर का पहला हिंदू आतंकी भी पकड़ा गया है। सब कुछ सीधा सीधा नहीं
मीडिया भीम आर्मी और सहारनपुर हिंसा का मास्टर माइंड
भीम सेना पर मायावती के बयान को गंभीरता से लेने की ज़रूरत
जनता की नज़र में नंगे मीडिया को भीम आर्मी में क्रिमिनल दिखाई देने लगे