मसीहुद्दीन संजरी
मसीहुद्दीन संजरी

Email
twitter

मसीहुद्दीन संजरी, लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार व राजनैतिक विश्लेषक हैं।

और योगी जी की मेहरबानी से 20 दिन पहले राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा समाप्त हो गया
दलित ओबीसी अगर मुसलमानों को अपने साथ देखना चाहता है तो फिर वह कौन से हिंदू हैं जो मुसलमान देखकर बिदक जाएंगे
nrc  अतिवादी संगठनों को हिंसा का लाइसेंस तो मिल ही गया इतिहास की सबसे बड़ी मानव त्रासदी की भूमि भी तैयार
अखिलेश के प्रोजेक्ट का दोबारा शिलान्यास किया और इनकाउंटरों व मुन्ना बजरंगी की हिरासती हत्या पर मुहर लगा गए मोदी
खामोश  ये योगीराज है एनकाउंटर के नाम पर हत्याएं जारी
जीने की कला सिखाने का दावा करने वाला गृह युद्ध की बात कर रहा
यह दम भाजपा में ही है कि अलगाववादियों से भी गठबंधन कर के राष्ट्रवादी बनी रहे
तुम कितने शाहिद मारोगे
आईएसआईएस अबू ज़ैद और उसके बाद आज़मगढ़
जिनके पास इतिहास बनाने बूता नहीं वह इतिहास बदल कर काम चलाएंगे ही