पलाश विश्वास
पलाश विश्वास

Email
twitter: @palashbiswaskl

पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए "जनसत्ता" कोलकाता से अवकाशप्राप्त। पलाश जी हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

दस दिगंत भूस्खलन जारी ज़िंदगी बड़ी होनी चाहिए लंबी चौड़ी नहीं
sukma killings  until you address agrarian crisis the mourning continues
humanity ashamed not the people of india nation has no sympathy with the peasantry
गिद्ध की नजर हमेशा मरघट पर गढ़ी रहती है - अच्छे दिनों के वादे से बड़ा झूठ मुसलमानों की जनसंख्या में वृद्धि
they have the mandate to sell off india like any psu
please save the universities
विहिप ने कहा था  सन् 2000 में मुसलमानों की संख्या हिंदुओं से ज्यादा हो जायेगी
अब पूरा देश गोडसे के राममंदिर में तब्दील है यही आज का सबसे भयंकर सच है
यह विचारधारा है रंगभेद की जो पूरे सत्ता वर्ग शोषक तबके की विचारधारा है
शेक्सपीअर ट्वेल्थ नाइट के कथापात्र अब भारत में निर्णायक भूमिका में हैं