पलाश विश्वास
पलाश विश्वास

Email
twitter: @palashbiswaskl

पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए "जनसत्ता" कोलकाता से अवकाशप्राप्त। पलाश जी हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

लोग कहते हैं कि जो उदितराज हैं वही हमारा रामराज है पर मामला कनफर्म नहीं
भारत के जनविरोधी कुलीन वाम नेतृत्व को उखाड़ फेंकना सबसे जरूरी
पंचायत चुनाव में आदिवासियों के साथ छोड़ने के बाद बंगाल में वामपंथ की वापसी अब असंभव
rss sweeps all over adivasi demography in bengal as adivasi people were determined to reply operation lalgargh
सबसे ज्यादा खतरनाक है आदिवासियों का व्यापक भगवाकरण
mamata banerjee did everything to clear the decks for rss regime in west bengal
अंधा युग कभी खत्म नहीं हुआ  सिर्फ दो ही तरह के लोग हैं धृतराष्ट्र या फिर अश्वत्थामा
यह जनादेश नहीं मुक्त बाजार का वर्गीय जाति वर्चस्व है
वामदलों के सफाये के बिना भाजपा का बंगाल में ममता को हराना मुश्किल पर दीदी इस सच को इंकार कर आत्महत्या के लिए तुली हैं
अल्मोड़ा में पानी का एटीएम हिमालय क्षेत्र की जनता को धीमे जहर से मारा जा रहा है