Breaking News
Home / lifestyle / मछली खाने के बारे में सलाह
fish

मछली खाने के बारे में सलाह

मछली और अन्य प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों में पोषक तत्व होते हैं, जो आपके बच्चे के मानसिंक विकास और शारीरिक विकास में मदद कर सकते हैं। एक स्वस्थ खाने के पैटर्न के हिस्से के रूप में, मछली खाने से हृदय स्वास्थ्य लाभ भी मिल सकता है और मोटापे का खतरा कम हो सकता है। लेकिन यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं और मछली खाने या कितना खाने के बारे में भ्रमित हैं तो संयुक्त राज्य अमेरिका सरकार के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) की गाइडलाइन्स आपकी मदद कर सकती हैं। हालांकि यह गाइडलाइन्स अमेरिकी नागरिकों के लिए हैं, लेकिन इनकी मदद ली जा सकती हैं।

मछली पौष्टिक होती है लेकिन यह गर्भवती महिलाओं या गर्भवती हो सकती हैं या स्तनपान करा रही महिलाओं के लिए कितना सुरक्षित है, यह सलाह उन महिलाओं की मदद कर सकती है। साथ ही स्तनपान कराने वाली माताओं और 2 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों की देखभाल करने वाले माता-पिता और बच्चों को खिलाने के लिए सहायता मिल सकती है।

मछली में पाए जाने वाले तत्व Elements found in fish

मछली एक स्वस्थ खाने के पैटर्न का हिस्सा है और मछली से निम्न तत्व प्राप्त होते हैं –

  • प्रोटीन
  • स्वस्थ ओमेगा -3 वसा (डीएचए और ईपीए कहा जाता है)

  • किसी भी अन्य प्रकार के भोजन की तुलना में अधिक विटामिन बी 12 और विटामिन डी

  • आयरन, जो शिशुओं, छोटे बच्चों और उन महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है जो गर्भवती हैं या जो गर्भवती हो सकती हैं

  • सेलेनियम, जस्ता, और आयोडीन जैसे अन्य खनिज।

इस गाइडलाइन में एक चार्ट है जो दर्जनों स्वस्थ और सुरक्षित विकल्पों को चुनना आसान बनाता है और इसमें मछली के पोषण मूल्य (nutritional value of fish) के बारे में जानकारी शामिल है। अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों और उत्तरों का एक सेट चार्ट का उपयोग करने और मछली खाने के लिए अतिरिक्त युक्तियों के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करता है। आप इस चार्ट को यहां क्लिक करके डाउनलोड कर सकते हैं.

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।)

Advice about Eating Fish

About हस्तक्षेप

Check Also

Dr Satnam Singh Chhabra Director of Neuro and Spine Department of Sir Gangaram Hospital New Delhi

बढ़ती उम्र के साथ तंग करतीं स्पाइन की समस्याएं

नई दिल्ली, 19 अगस्त 2019 : बुढ़ापा आते ही शरीर के हाव-भाव भी बदल जाते …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: