Home / समाचार / देश / डोभाल अभी तक कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के नाम नहीं जानते लेकिन पीओके के आतंकी शिविरों में कौन रहता है यह बात जानते हैं
Ajit doval

डोभाल अभी तक कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के नाम नहीं जानते लेकिन पीओके के आतंकी शिविरों में कौन रहता है यह बात जानते हैं

नई दिल्ली, 27 फरवरी। कोलकाता विश्वविद्यालय (University of Kolkata) के सेवानिवृत्त प्रोफेसर और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (Jawaharlal Nehru University Students Union) के पूर्व अध्यक्ष प्रो. जगदीश्वर चतुर्वेदी (Prof. Jagdishwar Chaturvedi) ने पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama terrorist attack) और सर्जिकल स्ट्राइक (surgical strike) को लेकर प्रधानमंत्री (Prime Minister) और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (National Security Advisor Ajit Doval) पर प्रश्न दागते हुए कहा है कि वे अभी तक कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के नाम पते (names of active terrorists in Kashmir) नहीं जानते लेकिन पीओके के आतंकी शिविरों (terrorist camp of PoK) में कौन रहता है यह बात डोभाल जानते हैं।

श्री चतुर्वेदी ने अपनी एफबी टाइमलाइन पर लिखा,

“कश्मीर में मारे गए आतंकी और गैर-आतंकियों की संख्या बताने में मोदी सरकार के मुंह से शब्द नहीं निकलते, सही संख्या नहीं बता पाते, लेकिन कमाल देखिए सर्जीकल हमले में मारे गए आतंकियों के नाम और संख्या तक वे मीडिया को बता रहे हैं ! इसी को कहते हैं प्रचार कारीगरी!

पीओके के आतंकी शिविरों में कौन रहता है यह बात डोभाल जानते हैं लेकिन अभी तक कश्मीर में सक्रिय आतंकियों के नाम पते नहीं जानते! कम से कम पुलवामा के हमलावर का पता ही वे पहले जान जाते !”

एक अन्य पोस्ट में उन्होंने टिप्पणी की,

“भाजपा -आरएसएस का एक भी बंदा कश्मीर में आतंकियों के हमले के निशाने पर क्यों नहीं आया ? यह सवाल बार बार मिलीभगत की ओर संकेत कर रहा है।“

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 



About हस्तक्षेप

Check Also

Health News

सोने से पहले इन पांच चीजों का करें इस्तेमाल और बनें ड्रीम गर्ल

आजकल व्यस्त ज़िंदगी (fatigue life,) के बीच आप अपनी त्वचा (The skin) का सही तरीके से ख्याल नहीं रख पाती हैं। इसका नतीजा होता है कि आपकी स्किन रूखी और बेजान होकर अपनी चमक खो देती है। आपके चेहरे पर वक्त से पहले बुढ़ापा (Premature aging) नजर आने लगता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: