Breaking News
Home / Kids Fashion / बच्चों को स्कूल में जानवरों के आसपास स्वस्थ रखें
Health News

बच्चों को स्कूल में जानवरों के आसपास स्वस्थ रखें

Animals Not Suitable for School or Childcare Settings

नई दिल्ली, 19 अगस्त 2019. स्कूल फिर से खुल चुके हैं और भारत में मानसून का मौसम चल रहा है। आधुनिक शिक्षा के विद्यालयों में कई शिक्षक बच्चों को सीखने में मदद करने के लिए कक्षा में पालतू जानवर रखना या जानवरों को कक्षा में लाना चुनते हैं। लेकिन ऐसा करने से बचना चाहिए क्योंकि बच्चे, खासकर 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, इन पालतू जानवरों में मौजूद कीटाणुओं की वजह से बीमार हो सकते हैं।

अमेरिकी स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग (U.S. Department of Health & Human Services) से संबद्ध रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) 0 Centers for Disease Control and Prevention (CDC) की स्वस्थ पालतू जानवर और स्वस्थ लोगों की वेबसाइट पर शिक्षकों, अभिभावकों और अन्य लोगों के लिए काफी संसाधन मौजूद हैं, जो स्कूलों में बच्चों के आसपास बच्चों को स्वस्थ रखने में मदद करने के लिए उपयोगी हैं।

सीडीसी का One Health Office संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया भर में मनुष्यों, जानवरों और पर्यावरण के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए काम करता है।

जानवरों के आसपास सीखने के दौरान बच्चों को सुरक्षित और स्वस्थ रखने में मदद करने के लिए टिप्स

सीडीसी के एक न्यूजलैटर (newsletter of CDC) के अनुसार –

सरीसृप, उभयचर, मुर्गियां और अन्य पोल्ट्री (बतख, टर्की), कृन्तकों, और फेरेट्स (Reptiles, amphibians, chickens and other poultry (ducks, turkeys), rodents, and ferrets) स्कूलों, डे केयर सेंटर्स और 5 साल से कम उम्र के बच्चों वाले प्ले स्कूल्स के लिए उपयुक्त नहीं हैं।

जानवरों, उनके भोजन, या उनकी आपूर्ति को छूने के तुरंत बाद छात्रों को अपने हाथों को पानी और साबुन से अच्छी तरह धोना चाहिए।

वयस्कों को हमेशा जानवरों के साथ बच्चों के संपर्क की निगरानी करनी चाहिए।

जानवरों को, (जिनको विच्छेदन के लिए उपयोग किया जाता है समेत), उन क्षेत्रों से दूर रखें जहां भोजन या पेय तैयार किया जाता है, परोसा जाता है, या खाया जाता है।

उन सभी क्षेत्रों को अच्छी तरह से साफ और कीटाणुरहित करें जहाँ जानवर रहे हैं।

कक्षा में जानवरों को लाने से पहले उन बच्चों पर विचार करें जिन्हें एलर्जी, अस्थमा या अन्य बीमारियाँ हैं।

यह सुनिश्चित करें कि सभी जानवरों को स्थानीय और राज्य की आवश्यकताओं के अनुसार उपयुक्त और नियमित पशु चिकित्सा देखभाल प्राप्त है, और कुत्तों और बिल्लियों के लिए रेबीज टीकाकरण का प्रमाण है।

About हस्तक्षेप

Check Also

News on research on health and science

फसलों की पैदावार के लिए चुनौती वर्षा में उतार-चढ़ाव

नई दिल्ली, 16 सितंबर 2019 : इस वर्ष देश के कुछ हिस्सों में सामान्य से …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: