चुनावी पंच - गधे चर गए मूलभूत मुद्दे और विकास

इस बार भी सोशल मीडिया पर बाहुबली की मोदीजी वाली पिक्चर चर्चा में रही। लोग कह रहे हैं कि BJP को कटप्पा बताकर मोदी यूपी की अखिलेश सरकार को बाहुबली बता रहे हैं यानी अखिलेश सरकार की तारीफ़ ही कर रहे हैं...

 

डीबी लाइव

उत्तरप्रदेश चुनावों के पहले और दूसरे दौर में बिजली, सड़क, शिक्षा, विकास, लैपटाप, स्मार्ट फोन, खेती-किसानी इन सब पर राजनैतिक दलों की लंबी-चौड़ी बातें चलीं। थोड़ा आगे बढ़े तो काम की बातें किनारे हुईं और गधे, गेंडे वगैरह चर्चा में नजर आने लगे।

और अब इनसे भी काम नहीं निकला है तो बाहुबली और कटप्पा से होते हुए चुनावी मंचों पर नारियल पानी बनाम पाइनैप्पल जूस की चर्चा होने लगी है। और इसमें सबसे आगे हैं.. हार्डवर्क वाले हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी। मऊ की रैली में उन्होंने कहा कि 11 मार्च को जब चुनावी नतीजे आएंगे तो बाहुबलियों के लिए मुश्किल होने वाली है। उन्होंने कहा कि जो बाहुबली जेल जाते हुए मुस्कुराते हैं उनके दिन अब लदने वाले हैं। देखिए बाहुबली के बारे में मोदीजी का यह ज्ञान-

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीजेपी यूपी की सत्ता में आती है तो सभी अपराधियों से कटप्पा की तर्ज़ पर निपटेगी। बता दें कि इस फिल्म के आखिर में कटप्पा ने बाहुबली की हत्या कर दी थी। और उसके बाद एक मज़ेदार सवाल खूब उछला था कि कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा?

इस बार भी सोशल मीडिया पर बाहुबली की मोदीजी वाली पिक्चर चर्चा में रही। लोग कह रहे हैं कि बीजेपी को कटप्पा बताकर मोदी यूपी की अखिलेश सरकार को बाहुबली बता रहे हैं यानी एक तरह से अखिलेश सरकार की तारीफ़ ही कर रहे हैं. बात सही भी हो लेकिन इतना तो है कि रुखी राजनीति में बाहुबली के एक्शन को याद करके मज़ा तो आ ही गया।

जब राजनीति का मतलब चुनाव और चुनाव का सबसे बड़ा लक्ष्य जीत हो, तो केवल मुद्दों की बातों से कैसे काम चलेगा। जनता के लिए भले ये मुद्दे जीवन-मरण का प्रश्न होते हैं, लेकिन राजनेताओं के लिए ये रूखे-सूखे होते हैं और इसलिए वे उसमें रस डालने की कोशिश करते हैं। हास्य और विनोद का रस रहे, तो सुनने वालों को आनंद आए, लेकिन यहां तो नारियल और पाइनेप्पल के रस की बात हो रही है।

यूपी के महाराजगंज की रैली में प्रधानमंत्री मोदी ने राहुल गांधी पर फब्ती कसते हुए कहा था कि राहुल गांधी नारियल से जूस निकालने की बात कहते हैं। उन्होंने कहा, 'एक कांग्रेस नेता हैं, मैं उनकी लंबी आयु के लिए प्रार्थना करता हूं... वे हाल ही में मणिपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे। वहां उन्होंने किसानों से कहा कि वो नारियल से जूस निकालेंगे और लंदन भेजेंगे। हकीकत में नारियल में जूस नहीं पानी होता है और ये केरल में उगाया जाता है। नारियल जूस के बाद मोदीजी को आलू की फैक्ट्री भी याद आ गई और उन्होंने कहा कि ये वही हैं जो यूपी में आलू की फैक्ट्री लगाने की बात करते हैं। पीएम मोदी के इस भाषण की सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हुई। लोगों ने राहुल गांधी की जमकर खिल्ली उड़ाई।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?