Breaking News
Home / समाचार / कानून / अच्छे दिन : पूंजीपतियों पर करोड़ों-अरबों रुपये के कर्जे माफ और बिजली बकायेदार किसान की हिरासत में मौत
BJP Logo

अच्छे दिन : पूंजीपतियों पर करोड़ों-अरबों रुपये के कर्जे माफ और बिजली बकायेदार किसान की हिरासत में मौत

योगी सरकार में मानवाधिकारों पर हमले बढ़े : माले

लखनऊ, 7 अक्टूबर। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) की राज्य इकाई ने कहा है कि योगी सरकार में पुलिस बेलगाम हो गई है, जिसके चलते मानवाधिकारों पर हमले बढ़े हैं। झांसी जिले में युवक की एनकाउंटर में हत्या और बदायूं जिले में बिजली बकायेदार की हिरासत में मौत जैसी हाल की घटनाएं इसका गवाह हैं।

पार्टी राज्य सचिव सुधाकर यादव ने सोमवार को जारी बयान में कहा कि झांसी के मोंठ थानाक्षेत्र का एनकाउंटर पुलिस को ठांय-ठांय करने की दी गई छूट का नतीजा है। पुलिस की बताई कहानी पर जनता की ओर से सवाल उठ रहे हैं। पुष्पेंद्र यादव को एनकाउंटर में मार गिराने का पुलिस का दावा संदेह के घेरे में है। वहीं बंदायू के सहसवान तहसील में बिजली बकायेदार किसान ब्रजपाल की हिरासत में मौत ने दिखाया है कि मानवाधिकारों को ताक पर रख कर प्रशासन चलाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि एक तरफ पूंजीपतियों पर करोड़ों-अरबों रुपये के कर्जे माफ कर दिये जा रहे हैं, ऊपर से बेलआउट के नाम पर सरकारी खजाने से भारी-भरकम खैरात दी जा रही है, वहीं बकाया वसूली के लिए किसानों की हत्या की जा रही है। उन्होंने कहा कि किसान दोहरी मार से परेशान हैं। एक तरफ कर्जों के बोझ से वे आत्महत्या कर रहे हैं, वहीं प्रशासन भी बकाये के नाम पर उन्हें जीने नहीं दे रहा है।

माले नेता ने झांसी और बंदायू की घटनाओं की न्यायिक जांच और दोषी पुलिसकर्मियों-अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। कहा कि भाजपा शासन में मानवाधिकार और लोकतंत्र सुरक्षित नहीं रह गये हैं।

About हस्तक्षेप

Check Also

Two books of Dr. Durgaprasad Aggarwal released and lecture in Australia

हिन्दी का आज का लेखन बहुरंगी और अनेक आयामी है

ऑस्ट्रेलिया में Perth, the beautiful city of Australia, हिन्दी समाज ऑफ पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया, जो देश …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: