more info
Breaking News
Home / समाचार / खोज खबर

खोज खबर

देश भर के समाचारों की सुर्खियां

image_pdfimage_print

बनारस में हैं तो अपना लक पहन के चलो!

Abhishek Srivastava

यह अस्मिता बनाम महत्‍वाकांक्षा की जंग है जिसमें अस्मिता और उसकी राजनीति पीछे छूट जाएगी। महत्‍वाकांक्षाएं इतनी ऊंची होंगी कि उन्‍हें खस्‍ताहाल सड़क और जाम से निकलने की बेचैनी तो होगी, लेकिन बनारस को बनारस बनाए रखने से कोई सरोकार नहीं होगा। बनारस की सड़कों के ऊपर टंगे लक्‍स कोज़ी के बैनरों से बेहतर इस भाव को और कोई ज़ाहिर ...
Read More »

बनारस-क्‍योटो संधि का एक साल, चले अढ़ाई कोस

Abhishek Srivastava

गंगा को नमामि करने वाले बहुत हैं लेकिन नाला बन चुकी वरुणा का कोई हाल पूछने वाला नहीं बनारस से चुनाव जीतकर प्रधानसेवकजी जापान गए थे। आज से एक साल पहले यानी 30 अगस्‍त को उन्‍होंने वहां बनारस को क्‍योटो बनाने के लिए एक संधि की थी। साल भर बीत गया, न संधि का पता है न बनारस का। इस ...
Read More »

भारत में स्तनपान की चिंताजनक स्थिति

world breastfeeding week 2015

प्रत्येक 3 में से 1 बालिका वधू भारतीय है 1 अगस्त को विश्व स्तनपान दिवस और अगस्त माह के प्रथम सप्ताह को स्तनपान सप्ताह के रूप में मनाया जाता है पूरी दुनिया में 1 अगस्त को विश्व स्तनपान दिवस और अगस्त माह के प्रथम सप्ताह को स्तनपान सप्ताह के रूप में मनाया जाता है। इस दौरान सरकारों और सामाजिक संस्थानों द्वारा लोगों में स्तनपान ...
Read More »

संघर्ष के 30 साल – जो पीड़ा मेधा की है, वही नर्मदा घाटी की

मेधा और नर्मदा घाटी एक दूसरे के पर्याय हैं। जो पीड़ा मेधा की है, वही नर्मदा घाटी की। दोनों लड़ते-लड़ते थक चुके हैं, पर सरकारों को उनका दुख समझ नहीं आता। विकास किसके लिए और किनकी शर्तों पर, यह बहस अभी भी जारी है। लोग लड़ रहे हैं, सत्ता प्रतिष्ठान से, और सत्ता अपनी जिद पर अड़ी है, वह जिसे विकास मानती है, वही अंतिम सच है।

नर्मदा घाटी-सरदार पटेल राजनीति का हथकंडा हैं जहां इंसानों की जिंदगी पर एक मूर्ति भारी हो, वहां सत्ता प्रतिष्ठान की नीयत साफ समझ में आती है पिछले दिनों राजधानी दिल्ली में नर्मदा को लेकर आयोजित एक कार्यक्रम में जब मेधा पाटकर ने जब यह कहा, कि लड़ाई लड़ते हुए 30 साल हो चुके हैं, पर अब समझ नहीं आता, लड़ाई ...
Read More »

डीएनए प्रोफाइलिंग विधेयक – बड़ी कंपनियों के लिए भारतीय बनाए जाएंगे गिनी पिग

डीएनए प्रोफाइलिंग विधेयक - बड़ी कंपनियों के लिए भारतीय बनाए जाएंगे गिनी पिग

डीएनए प्रोफाइलिंग विधेयक – निशाने पर निजता भारत के नागरिकों को निजता का अधिकार है या नहीं? क्या यह मौलिक अधिकार है?  ये सवाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश की सर्वोच्च अदालत में पूछ कर एक सिरहन-सी पैदा की है। चिंता और अधिक इसलिए भी है क्योंकि ये सवाल ऐसे समय पूछा गया जब देश की संसद में ...
Read More »

डांगावास हत्याकांड : जो मारे गए वही सन्देह के घेरे में !

डांगावास - सहमी-सहमी सी टूटी फूटी बिखरी हुयी जिंदगियां

डांगावास हत्याकांड : दो माह बाद तक पीड़ित परिवार को राज्य सरकार की तरफ से कोई मुआवजा नहीं दिया गया है राजस्थान का नागौर जिला सूखा प्रभावित क्षेत्र है। 2011 की जनगणना के अनुसार नागौर की जनसंख्या 27,75,058 है जिसमें से 22,97,721 जनसंख्या गांवों में रहती है। यह जिला जाट (पिछड़ा वर्ग) बहुल है। दूसरे स्थान पर मेघवाल (दलित) आते हैं। ...
Read More »

आपातकाल का स्‍मरण और गांधी के बाएं बाजू बंधा बैनर

आपातकाल की बरसी पर पूरे प्रदेश में व्याप्त जंगल राज के खिलाफ जीपीओ स्थित गांधी प्रतिमा हजरतगंज पर रिहाई मंच ने धरना दिया

नई दिल्ली/ लखनऊ ”आपातकाल की चालीसवीं बरसी पर रिहाई मंच ने दिया धरना… जलाकर मारे गए शाहजहांपुर के पत्रकार जगेंद्र सिंह को इंसाफ दिलाने और प्रदेश में दलितों, महिलाओं, आरटीआइ कार्यकर्ताओं व पत्रकारों पर हो रहे हमले के खिलाफ शासन को सौंपा 17 सूत्रीय ज्ञापन।” समाजवादी माफिया की चरागाह बन चुके उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 25 जून की ...
Read More »

एच.इ.सी. यानी विकास का मकबरा

HEC

किसी भी देश, राज्य का विकास के लिए आर्थिक विकास का होना जरूरी है और आर्थिक विकास के लिए औद्योगिक विकास का होना। ये कुछ हद तक सत्य है कि औद्योगिक विकास से ही आर्थिक विकास संम्भव है। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू, जिन्हें भारत के आधुनिक विकास का जनक कहा जाता है, उन्होंने राज्य के विकास ...
Read More »

वृन्दावन – स्वर्ग की सीढ़ियों पर नरक की परछाइयाँ

वृन्दावन में बंगाली विधवा

धार्मिक भावनाओं की तुष्टि के सिलसिले में वृन्दावन का नाम कुछ ज्यादा ही श्रद्धा से लिया जाता है। बंगाल में तो बहुत पहले से मान्यता रही है कि स्वर्ग के दरवाजे पर दस्तक वृन्दावन में रहकर ही दी जा सकती है। वैधव्य की आपदाओं से घिरी बंगाली स्त्रियों को बाकी जीवन जीने के लिए वृन्दावन ताकत देता रहा है। यही ...
Read More »

सुस्त न्याय का अन्याय

National News

पिछले दिनों हुए न्यायाधीशों और राज्यों के मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की न्याय प्रणाली में सुधार की दिशा में केंद्र सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों का जिक्र किया था। सम्मेलन में 1700 पेचीदा कानूनों को खत्म करने की कवायद के साथ न्याय की पहुंच गरीबों तक करने की दिशा में ट्रिब्यूनल व्यवस्था के ...
Read More »

जब भूकम्प आता है तो कोई पहचान पत्र लेकर नहीं भागेगा

गोरखा जिले के बरपाक क्षेत्र की एक दुर्गम सड़क पर जीप में लदी राहत सामग्री के साथ दिनेश परसाई

29 अप्रैल को जब हम लोग बस अड्डे पर पहुंचे तो एक और दृश्य देखने को मिला। यद्यपि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जी की त्वरित कार्यवाही की वजह से प्रदेश के ज्यादातर लोग निकल चुके थे, फिर भी यूपी परिवहन की बसों का आना बदस्तूर जारी था। वहीं बिहार और आन्ध्र प्रदेश जैसे प्रदेशों के लोग तो बड़ी ...
Read More »

नेपाल- लाशों की सड़ने की बदबू वहां के लोगों को तोड़ रही है

नेपाल - पूरा कस्बा हो गया जमींदोज़

नेपाल से इमरान इदरीस का आंखों देखा हाल नेपाल से ग्राउंड जीरो रिपोर्ट यहाँ पर नेटवर्क की समस्या के कारण लगातार लिख पाना और चित्र भेजना संभव नहीं हो पा रहा है। मैं लगातार कोशिश कर रहा हूँ। आज की मेरी ग्राउंड जीरो की रिपोर्ट नेपाल में आई इस त्रासदी की सच्चाई को दिखाने के ऊपर है। काठमांडू से तक़रीबन 135 ...
Read More »

नेपाल-मलबे के ढेर में से इंसानी अंग दिखते हैं तो मजबूत कलेजे वाले का भी दिल काँप जाता है

नेपाल - पूरा कस्बा हो गया जमींदोज़

जब हम इंडिया मे थे तो फेसबुक पर RIP लिखना या We are with Nepal लिखना बहुत आसान लग रहा था। लेकिन जब यहां आकर देखा तो ढहे हुये मकान, बाहर निकलने के लिये बस स्टेशन पर लगी लंबी लाइनें, राहत सामग्री की गाड़ियों को ताकते बच्चे, सीमित संसाधनों के बीच लगातार राहत कार्य में लगी देशी विदेशी संस्थायें और ...
Read More »

नेपाल से इमरान इदरीस का आंखों देखा हाल

नेपाल से इमरान इदरीस का आंखों देखा हाल

नेटवर्क समस्या होने के कारण लगातार सूचनाएं आप तक नहीं पहुंच पा रही हैं। सोनौली से भैरवाहा फिर बुटवल होकर नारायण घाट और अंत में काठमांडू। नारायणी नदी के साथ लगातार ठेढ़ी-मेढ़ी चढ़ाई का रास्ता मुश्किल भरे रास्ते को पार करके हम कल काठमांडू पहुंच चुके थे। रास्ते भर में लगातार गिरते पत्थरों के कारण रास्ता जाम है। आज सुबह ...
Read More »

आंध्र प्रदेश में राज्यपोषित कृषक संहार को अंततः कौन रोकेगा

DSCN0108 copy

लैंड पुलिंग स्कीम-फार्मर्स किलिंग स्कीम -4 लैंड पुलिंग – देश का सबसे बड़ा ‘राजधानी घोटाला’ साबित होगा विजयवाड़ा तेलुगूदेशम सरकार के पूर्व कृषि मंत्री वड्डे शोभनाद्रिश्वर राव मानते हैं कि राजधानी के निर्माण के नाम पर यह देश का सबसे बड़ा ‘राजधानी घोटाला’ साबित होगा। नायडू को ऐसी घोटाला-योजना के बजाय शिक्षा, सिंचाई और छोटे-छोटे बंदरगाहों के निर्माण और विकास ...
Read More »

कानून और संविधान की धज्जी उड़ाते हुए सरकार ने की “लैंड पुलिंग”

Inter Cropping - Crysanthemum+Drumstick copy

लैंड पुलिंग स्कीम-फार्मर्स किलिंग स्कीम -3                 चंद्रबाबू नायडू की कैपिटल सिटी परियोजना से गांव में एक तरफ ज्यादातर लोग भयाक्रांत हैं तो दूसरी तरफ कुछ लोग इस परियोजना को “सिंगापुर-नायडू कैपिटल सिटी” तो कुछ लोग सी० आर० डी० ए० को “चंद्रबाबू रियल स्टेट डेवलपमेंट ऑथोरिटी” कहकर अपनी पीड़ा एक पल के लिए कम कर लेना चाहते हैं। रायपुरी ग्राम ...
Read More »

आंखों से लहू टपकने लगेगा विजयवाड़ा-गुंटूर इलाके की दर्दनाक दास्तां सुनते हुए

Yam being exported to Mumbai copy

लैंड पुलिंग स्कीम-फार्मर्स किलिंग स्कीम -2 आंखों से आंसू की बजाय लहू टपकने लगेगा विजयवाड़ा-गुंटूर इलाके की दर्दनाक दास्तां लिखते हुए आंध्र प्रदेश सरकार की प्रस्तावित राजधानी की परियोजना को जानने – समझने, दस्तावेजों को संकलित करने और नीतिगत अन्वेषण में आप जितने तल्लीन होंगे, आप उतने अधिक उलझते जायेंगे। विजयवाड़ा-गुंटूर इलाके की दर्दनाक दास्तां लिखते हुए अगर आपकी आंखों ...
Read More »

आंध्र प्रदेश को नया कैपिटल चाहिए पर ”ग्रीनफील्ड कैपिटल सिटी” क्यों चाहिए?

Inter cropping - Yam+Maize copy

लैंड पुलिंग स्कीम-फार्मर्स किलिंग स्कीम -1 आंध्र प्रदेश में राज्यपोषित कृषक-संहार को कौन रोकेगा? 2 जून 2014 को तेलंगाना आंध्र प्रदेश से अलग हो गया तो आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद अब नये परिदृश्य में तेलंगाना की राजधानी हो जायेगी। क्या यह कोई युद्ध था जिसमें एक की जीत दूसरे की हार हो गयी और आंध्र प्रदेश ने तेलंगाना युद्ध ...
Read More »

जर्मनी का उद्योग और व्यापार जगत मेक इन इंडिया को फ़ेक इन इंडिया के रूप में ही देख रहा है

Modi

जर्मनी का हनोवर मेला और मेक इन इंडिया बर्लिन। जर्मनी का हनोवर मेला शायद विश्व का सबसे बड़ा औद्योगिक मेला है. आज जब ज़्यादातर व्यापार और आर्थिक सहयोग लॉबी व इंटरनेट के जगत से प्रभावित है, इस मेले की अहमियत एक पतनोन्मुख ज़मींदार परिवार की पारंपरिक वार्षिक दुर्गापूजा की तरह हो गई है. अब भी चल रही है, काफ़ी लोग आ जाते हैं, ...
Read More »

जर्मन बेकरी धमाका — फिर सवालों के घेरे में न्यायपालिका व जांच एजेंसियां

National News-1

जर्मन बेकरी धमाका — अदालत ने पांच बार फांसी और छः बार उमर कैद का फैसला सुना दिया 13, फरवरी 2010 में पुणे एक बड़े बम धमाके का निशाना बना था। यह धमाका कोरेगांव पार्क स्थित जर्मन बेकरी नामक रेस्टोरेन्ट में हुआ था। इस घटना में 17 लोग मारे गए 58 लोग घायल हुए थे। जांच की जि़म्मेदारी पुलिस से ...
Read More »

कभी भी हो सकता है सूर्य पर बड़ा ब्लास्ट

चित्र सौजन्य : सोलर डाइनेमिक वेधशाला और स्पेस वेधर

नई दिल्ली। हमको रोशनी देने वाले और धरती पर दिन-रात का निर्धारण करने वाले सूर्य पर बड़ा ब्लास्ट कभी भी हो सकता है। गुरुदेव वेधशाला, वड़ोदरा के निदेशक दिव्यदर्शन डी पुरोहित ने कहा है कि वैसे तो हमारे जीवन और प्राणदाता सूर्य कभी भी अनहोनी करते रहते हैं और उनका ये 2011 से शुरु हुआ चक्र अब तक बरक़रार है और ...
Read More »

आखिर ‘परी’ की पॉलिटिक्‍स क्‍या है?

नए साल की शुरुआत 'परी' से करें

बाज़ार के खिलाफ़ बाज़ार में खड़ा एक आदमी पी. साइनाथ पी. साइनाथ की ‘परी’: उम्‍मीद पर भी सवाल बनते हैं बीते दस साल में अगर याद करें तो मुझे नहीं याद आता कि इंडिया इंटरनेशनल सेंटर जैसे एक अपमार्केट अभिजात्‍य आयोजन स्‍थल पर किसी कार्यक्रम में पांच सौ के आसपास की भीड़ मैंने देखी या सुनी होगी। राजकमल प्रकाशन के ...
Read More »

..............................................