Breaking News
Home / हस्तक्षेप / स्तंभ

स्तंभ

वाह मोदीजी वाह, जो स्वायत्तता नागालैंड के लिए दवा, वही कश्मीर के लिए जहर हो गयी?

Amit Shah Narendtra Modi

अचरज नहीं कि मोदी-शाह जोड़ी के संविधान की धारा-370 (Article 370 of the constitution) को व्यावहारिक मायनों में खत्म ही कर देने की धमक, सुदूर उत्तर-पूर्व के राज्यों में और …

Read More »

मोदी की तुगलकी नीतियों की देन है मंदी और डूबती अर्थव्यवस्था

Narendra Modi An important message to the nation

मंदी और राजनीति-शून्य आर्थिक सोच की विमूढ़ता Recession and Politics – Zero Economic Widening अति-उत्पादन पूँजीवाद के साथ जुड़ी एक जन्मजात व्याधि है। इसीलिये उत्पादन की तुलना में माँग हमेशा कम …

Read More »

मोदीजी की बेहाल अर्थनीति और जनता सांप्रदायिक विद्वेष और ‘राष्ट्रवाद’ का धतूरा पी कर धुत्त !

Narendra Modi new look

आर्थिक तबाही को सुनिश्चित करने वाला जन-मनोविज्ञान ! Public psychology that ensures economic destruction चुनाव में मोदी की भारी जीत लेकिन जनता में उतनी ही ज्यादा ख़ामोशी ! मोदी जीत …

Read More »

2014 की सार्क “हग डिप्लोमेसी” और बिम्सटेक से अक्षय ऊर्जा की उम्मीदें

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

वर्ष 2014 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यभार संभाला था तब उन्होंने अपने शपथ ग्रहण समारोह (Prime Minister Narendra Modi’s swearing in ceremony) में “हग डिप्लोमेसी” (Hug Diplomacy) के …

Read More »

भारतीय राजनीति की बिसात पर गौमाता : हिन्दू और जैनी हैं देश के सबसे बड़े बीफ एक्सपोर्टर

COW

भारतीय राजनीति की बिसात पर गौमाता : हिन्दू और जैनी हैं देश के सबसे बड़े बीफ एक्सपोर्टर, Gaumata on the chessboard of Indian politics : Dr. Ram Puniyani’s article in Hindi …

Read More »

अमेरिकी आज भी अपनी जेब में चेकबुक रखता है और भारत में डिजिटल भुगतान (क्रिप्टो करेंसी) पर जोर !

Arun Maheshwari अरुण माहेश्वरी, लेखक प्रख्यात वाम चिंतक हैं।

क्रिप्टो करेंसी और राज्य Crypto currency and state देखते-देखते क्रिप्टो करेंसी (Crypto currency), अर्थात् तमाम राष्ट्रीय सरकारों की जद से मुक्त ऐसी सार्वलौकिक करेंसी के चलन पर विचार और क्रिया …

Read More »

कविता और राजनीति का अपने साहित्य में विलक्षण संबंध स्थापित किया खूब लड़ी मर्दानी वाली सुभद्रा कुमारी चौहान ने

Jagadishwar Chaturvedi

आज है खूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी, की सुभद्रा कुमारी चौहान का जन्मदिन हिन्दी आलोचकों में मुक्तिबोध के अलावा किसी बड़े समीक्षक ने सुभद्राकुमारी चौहान पर …

Read More »

भगत सिंह ने जवाहरलाल नेहरू को अपना नेता क्यों माना? सुभाषचंद्र बोस ने महात्मा गांधी को ”राष्ट्रपिता” का संबोधन क्यों दिया?

happy Independence Day

स्वाधीनता और जनतंत्र का रिश्ता Relation of freedom and democracy आज हम आज़ादी के बहत्तर साल पूरे कर स्वाधीन मुल्क के तिहत्तरवें वर्ष में पहला कदम रख रहे हैं। इस मुबारक …

Read More »

स्वतंत्रता दिवस : विभाजन की पीड़ा और कोलकाता

Jagadishwar Chaturvedi

कोलकाता कुछ मामले में असामान्य शहर है। इस शहर ने जितनी राजनीतिक उथल-पुथल झेली है, वैसी अन्य किसी शहर ने नहीं झेली। यह अकेला शहर है जिसने दो बार भारत …

Read More »

मोदी जी ने सही कहा वे समस्याएं न टालते हैं, न पालते हैं, बल्कि समस्याओं को देश पर लादते हैं

The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing the Nation on the occasion of 73rd Independence Day from the ramparts of Red Fort, in Delhi on August 15, 2019

मोदी जी ने सही कहा वे समस्याएं न टालते हैं, न पालते हैं, बल्कि समस्याओं को देश पर लादते हैं। समस्याओं से वे देश को जोड़कर नहीं देखते, वे तो …

Read More »

स्वतंत्रता दिवस : हिटलरशाही के प्रतिरोध की राजनीति साधनी होगी

Arun Maheshwari अरुण माहेश्वरी, लेखक प्रख्यात वाम चिंतक हैं।

आज़ादी की 73वीं सालगिरह (73rd anniversary of independence) पर सभी मित्रों को हार्दिक बधाई । आज का दिन अपने देश की एकता और अखंडता के प्रति अपनी निष्ठा को दोहराने …

Read More »

भारत की अर्थ-व्यवस्था को डुबाने में मोदी सरकार की विदेश नीति का बड़ा योगदान

Narendra Modi new look

विदेश नीति और हमारा आर्थिक संकट Foreign policy and our economic crisis नोटबंदी की तरह के घनघोर मूर्खतापूर्ण क़दम के अलावा भारत की अर्थ-व्यवस्था को डुबाने में मोदी सरकार की …

Read More »

टीपू सुल्तान : नायक या खलनायक?

Tipu Sultan

हाल में कर्नाटक में दलबदल और विधायकों की खरीद-फरोख्त (Change of party and purchase of MLAs in Karnataka) का खुला खेल हुआ जिसके फलस्वरूप,  कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिर गई और भाजपा …

Read More »

स्वाधीनता की महायात्रा : इतिहास से नेहरूजी को मिटाकर, मोदी को कुछ नहीं मिलेगा बल्कि ऐसा करने से वे एक एहसानफरामोश नेता समझे जायेंगे

How much of Nehru troubled Modi

स्वतंत्रता दिवस (Independence day) के अवसर पर यदि हम अभी तक की महायात्रा का मूल्यांकन करते हैं तो हमारे मस्तिष्क में गरीबी, भुखमरी, निरक्षरता, स्वास्थ्य सेवाओं का अभाव और कमजोर …

Read More »

नेहरू ने कहा था, सबसे जरूरी है लोगों का दिल जीतना, कानून उसके बाद बनाये जा सकते हैं… आईए, समझें धारा 370 को

धार्मिक राष्ट्रवाद (Religious nationalism) के नशे में गाफिल रहने वालों को आमजनों की क्षेत्रीय व नस्लीय आकाँक्षाएँ दिखलाई नहीं देतीं। विभिन्न रंगों के अति राष्ट्रवादी भी इसी दृष्दिोष से पीड़ित रहते …

Read More »

भारत छोड़ो आंदोलन का इतिहास : डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने आंदोलन को कुचलने के लिए की थी अंग्रेजों की मदद

syama prasad mukherjee in hindi

आरएसएस/भाजपा के नए ‘देश-भक्त‘ डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बारे में 6 सच्चाइयां 6 truths about the new ‘patriot’ of the RSS / BJP Dr. Syama Prasad Mukherjee RSS/BJP ने …

Read More »

मोदीजी उन्माद के बल पर राष्ट्र का निर्माण नहीं, सिर्फ विध्वंस ही किया जा सकता है, अरुण माहेश्वरी का पीएम को खत

Narendra Modi An important message to the nation

स्वतंत्रता दिवस से पहले प्रधानमंत्री जी के नाम एक खुला पत्र An open letter to the Prime Minister before Independence Day आदरणीय प्रधानमंत्री जी, कल रात हम काफी देर तक …

Read More »

कश्मीरी पंडितों के गुनहगार : महाराजा हरि सिंह, भाजपा, जगमोहन और मुफ्ती

Dr. Ram Puniyani's article in Hindi on the plight of Kashmiri Pandits

राजनीति एक अजब-गजब खेल है। इसके खिलाड़ी वोट कबाड़ने के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं। इन खेलों से हमें संबंधित खिलाड़ी की राजनैतिक विचारधारा का पता तो …

Read More »

बहुसंख्यकवादी शूरवीरता का कश्मीरी आख्यान :  मोदी महाशूरवीर, अमित शाह उनसे भी बड़े शूरवीर

Amit Shah Narendtra Modi

मैं जब कश्मीर (Kashmir) गया तो वहां एकदम शान्ति थी। इस शान्ति को देखकर ही मैंने जाने का मन बनाया, लेकिन मन में यह समझ काम कर रही थी कि …

Read More »

मर्डर इन द कैथेड्रल और न्यू इंडिया : नाटक जो लिखा इलियट ने वह काल्पनिक नहीं इतिहास है 

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

मर्डर इन द कैथेड्रल (Review of Murder in the Cathedral in Hindi) गीति नाट्य विधा (opera) में लिखी गयी अंग्रेज कवि और आलोचक नोबेल पुरस्कार विजेता टीएस इलियट (play by …

Read More »

क्या शासकों को आईना दिखाना बंद कर दें देश के प्रमुख नागरिक ?

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

क्या प्रमुख नागरिकों को शासकों को आईना नहीं दिखाना चाहिए? Should the prominent citizens not show the mirror to the rulers? देश के 49 प्रमुख नागरिकों, जिनमें फिल्मी हस्तियां, लेखक …

Read More »

क्या ये पुण्य प्रसून का संघी था, जो बाहर आ गया ?

Punya Prasun Bajpai

पुण्य प्रसून क्यों किसी ‘उद्धारकर्ता‘ के झूठे अहंकार में फंस रहे है ? —अरुण माहेश्वरी कल रात ही धारा 370 को हटाये जाने के बारे में पुण्य प्रसून वाजपेयी की …

Read More »

जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र के खात्मे में सरकार के साथ अलगाववादियों की भूमिका पर भी सीधा सवाल करना चाहिए

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

जम्मू-कश्मीर पर सरकार का फैसला : कुछ तात्कालिक विचार… Government’s decision on Jammu and Kashmir: some immediate thoughts अब जम्मू-कश्मीर का संविधान की धारा 370 के तहत विशेष राज्य का दर्जा …

Read More »

यह कश्मीर को भारत में मिलाने का नहीं, उससे अलग करने का निर्णय है

Narendra Modi new look

यह कश्मीर को भारत में मिलाने का नहीं, उससे अलग करने का निर्णय है कश्मीर संबंधी जो धाराएँ भारतीय जनतंत्र और संघीय ढाँचे का सबसे क़ीमती गहना थी, उन्हें उसके …

Read More »

मोदीराज में अर्थ-व्यवस्था के विध्वंस के लिये बारूद का व्यापक जाल बिछा दिया गया लगता है

Arun Maheshwari अरुण माहेश्वरी, लेखक प्रख्यात वाम चिंतक हैं।

वित्त सचिव सुभाष गर्ग (Finance Secretary Subhash Garg) को केंद्र में रख कर शुरू हुए विवादों का जो चारों ओर से भारी शोर सुनाई दे रहा है, वह इतना बताने …

Read More »

मोदी जी के संघी साथियों के दिमाग की उपज से हमारी अर्थ-व्यवस्था का गला घुट रहा है

Arun Maheshwari अरुण माहेश्वरी, लेखक प्रख्यात वाम चिंतक हैं।

सुभाष गर्ग गये, पर अर्थनीति का क्या ? कल ही सरकार के एक और प्रमुख आर्थिक सलाहकार, आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष गर्ग (Economic Affairs Secretary Subhash Garg) की बेहद …

Read More »

कर्नाटक में एक बार फिर जनता की पराजय, लोकतंत्र की हार हुई

HD Kumaraswamy. (File Photo: IANS)

गांधी या गैर गांधी, अध्यक्ष कोई भी हो, लेकिन अब कांग्रेस को फैसला ले ही लेना चाहिए। कर्नाटक के सियासी प्रहसन (Political tragedy of Karnataka) का पहला भाग 23 जुलाई …

Read More »

अर्थव्यवस्था के लिए संकट बन चुके हैं मोदी, जाने के पहले भारत की सार्वभौमिकता को बेच कर जायेंगे

Narendra Modi An important message to the nation

अर्थ-व्यवस्था के भारी संकट के लिये मोदी निजी तौर पर ज़िम्मेदार है आज भारत की समग्र राजनीतिक परिस्थितियाँ अनपेक्षित न होने पर भी कुछ अजीब सी बन चुकी है। वरिष्ठ …

Read More »

पाठ्यपुस्तकों में आरएसएस : संघ का राष्ट्र निर्माण से कभी कोई लेनादेना रहा ही नहीं

RSS Half Pants

राष्ट्रवाद (Nationalism) एक बार फिर राष्ट्रीय विमर्श के केन्द्र में है. पिछले कुछ वर्षों में हमने देखा कि किस तरह सरकार के आलोचकों को राष्ट्रद्रोही घोषित कर दिया गया. हमने …

Read More »

युवराज कथा अनंता : घर का घर पाप छिपा रखने के लिए एकजुट होना/ जितना बड़ा घर होगा, उतना ही खाएगा देश को…

Amalendu Upadhyaya hastakshep अमलेन्दु उपाध्याय लेखक वरिष्ठ पत्रकार, राजनैतिक विश्लेषक व टीवी पैनलिस्ट हैं।

यह ख़बर मूलतः अक्टूबर 2010 में लिखी गई थी और इसमें बताया गया था कि किस तरह वंशवादी राजनीति (Dynastic politics) सभी दलों की बीमारी बन गई है। 2009 के …

Read More »

शेष नारायण सिंह का आलेख – कांग्रेस को सशक्त विपक्ष की भूमिका अदा करनी ही पड़ेगी

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress President Rahul Gandhi) इस्तीफा दे चुके हैं, उनको मनाने की कोशिशें अब तक नाकाम रही हैं लेकिन अब कौन कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष हो, …

Read More »

साठ साल का देशबन्धु

Lalit Surjan ललित सुरजन। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, स्तंभकार व साहित्यकार हैं। देशबन्धु के प्रधान संपादक

‘प्रिंटर्स डेविल’ (Printer devils) याने छापाखाने का शैतान अखबार जगत (Newspaper industry) में और पुस्तकों की दुनिया में भी एक प्रचलित मुहावरा रहा है। छपी हुई सामग्री (Printed material) में …

Read More »

जलवायु आपातकाल की स्थिति, ग्लेशियर्स पिघलने से दुनिया के जल संतुलन पर खतरा

Environment and climate change

Glacier melting threatens the water balance of the world, climate emergency situation हिमनद यानी ग्लेशियर्स पिघलने से समुद्र का स्तर (Sea level) बढ़ रहा है, मूँगा चट्टानें मर रही हैं …

Read More »

डॉ. राम पुनियानी का लेख – तबरेज़ अंसारी, जय श्रीराम और नफरत-जनित हत्याएं

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

संयुक्त राष्ट्रसंघ मानवाधिकार परिषद् की 17वीं बैठक (17th meeting of UN Human Rights Council) में, भारत में मुसलमानों और दलितों के विरुद्ध नफरत-जनित अपराधों और मॉब लिंचिंग का मुद्दा (The …

Read More »

बैंकिंग प्रणाली पर संकट और हमारी दिशाहीन सरकार

Arun Maheshwari अरुण माहेश्वरी, लेखक प्रख्यात वाम चिंतक हैं।

वित्त मंत्री और प्रधानमंत्री, दोनों पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से उनके घर पर जा कर मिलें। 5 जुलाई को बजट पेश होगा। इसके ठीक पहले मनमोहन सिंह से इनकी मुलाक़ात …

Read More »

Dr. Ram Puniayni’s Article in Hindi : क्या तीन तलाक को अपराध घोषित किया जाना चाहिए?

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

‘मुस्लिम बहनों’ के साथ लैंगिक न्याय (Gender Justice with ‘Muslim Sisters’) करने के लिए मोदी सरकार द्वारा संसद में हाल (जून 2019) में प्रस्तुत एक विधेयक, देश भर में चर्चा …

Read More »

महाशक्ति (!) बनते भारत में मानव जीवन के मूल्य ? योग करने रांची पहुंचे प्रमं. मुजफ्फरपुर जाने का समय न निकाल पाए

Sikar: Prime Minister and BJP leader Narendra Modi addresses during a public meeting in Rajasthan's Sikar, on Dec 4, 2018. (Photo: IANS)

भारतवर्ष विश्व की महाशक्ति (World power) बनने की ओर अग्रसर है। इस आशय का वातावरण देश की सरकार तथा उसके प्रोपेगंडा तंत्र द्वारा बनाया जा रहा है। भारत (India) ने …

Read More »

योग इवेंट हर बार करोड़ों रूपये कारपोरेट घरानों के पॉकेट में पहुँचा देता है

Jagadishwar Chaturvedi

21 जून अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस, June 21 International Yoga Day नए भारत में योग, राजनीतिक हथियार है, सत्ता की राजनीति का अंग है। भारत के प्राचीन-मध्यकालीन इतिहास में योग कभी …

Read More »

डॉ. राम पुनियानी का लेख – “कश्मीर: शांति की जुस्तजू”

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

हालिया लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में जबरदस्त बहुमत हासिल करने के बाद, मोदी सरकार (Modi Govt.) मजबूती से देश पर शासन करने की स्थिति में है. ऐसा …

Read More »

डॉ. राम पुनियानी का लेख – धर्मनिरपेक्षता, प्रजातान्त्रिक समाज और अल्पसंख्यक अधिकार

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

हम एक ऐसे दौर से गुजर रहे हैं जब सामाजिक मानकों और संवैधानिक मूल्यों का बार-बार और लगातार उल्लंघन हो रहा है. पिछले कुछ वर्षों में दलितों पर बढ़ते अत्याचार …

Read More »

एक पूर्वाग्रह-ग्रस्त अव्यवस्थित विचार-बुद्धि के उदाहरण राम चंद्र गुहा

आज के टेलिग्राफ़ में रामचंद्र गुहा का लेख (Ramchandra Guha’s article in the Telegraph) है – ‘शाश्वत बुद्धिमत्ता’ (Timeless Wisdom)। इस लेख के मूल में है 14 वीं सदी के …

Read More »

मोदी-1 के मुकाबले ज्यादा बहुसंख्यकवादी और ज्यादा अल्पसंख्यकविरोधी-जनतंत्रविरोधी होगा मोदी-2

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

मोदी-2: भिन्न होने के मुगालते मोदी की भाजपा (Modi’s BJP) तथा एनडीए की जबर्दस्त और एक हद तक अप्रत्याशित जीत के बाद से, मीडिया का एक हिस्सा बड़ी शिद्दत से …

Read More »

दुनिया में भारत की असभ्य इमेज बनाने वाले तत्व हैं हिंदुत्व – आरएसएस का प्रचार और कारपोरेट मीडिया

Jagadishwar Chaturvedi

नया भारत और नई चुनौतियां (New India and New Challenges) जो लोग इतनी तबाही के बाद भी मोदी-मोदी के नशे में चूर हैं, उनके लिए हम तो यही कहना चाहेंगे …

Read More »

मार्क्सवाद सर्वशक्तिमान है

Karl Marx

लेनिन ने मार्क्स के बारे में अपने प्रसिद्ध निबंध ‘मार्क्सवाद के तीन स्रोत तथा तीन संघटक तत्व’ (1913) में लिखा था कि “मार्क्स की प्रतिभा इस बात में निहित है …

Read More »

संघ-भाजपा हारे, मोदी जीते, अहम् ब्रह्मास्मि मोदीवाद का पहला सूत्र

Narendra Modi An important message to the nation

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने एक वाक्य में पूरी कहानी कह दी है कि  ”यह मोदीवाद की जीत …

Read More »

मार्क्सवादी प्रगतिशीलों की वैचारिक विक्षिप्तता : जातिवादी अस्मिताएँ पूंजीवाद के विरुद्ध कभी संघर्ष के मजबूत आधार नहीं बन सकतीं

Arun Maheshwari अरुण माहेश्वरी, लेखक प्रख्यात वाम चिंतक हैं।

बहुलता के हुड़दंगी परिदृश्य में से तानाशाही के सही प्रत्युत्तर की तलाश लखनऊ के हिंदी के आलोचक वीरेन्द्र यादव (Hindi critic Virendra Yadav) की फेसबुक टाइमलाइन पर 22 मई को …

Read More »

कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी की विरासत : लो, और तेज हो गया उनका रोजगार/ जो कहते आ रहे/ पैसे लेकर उतार देंगे पार

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

भारतीय समाजवादी आंदोलन (Indian Socialist Movement) के पितामह आचार्य नरेंद्रदेव (Acharya Narendra Dev) की अध्यक्षता में कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी-Congress Socialist Party (सीएसपी) के गठन (17 मई 1934,पटना) के समय दो …

Read More »

एग्जिट पोल के संकेत उनकी सच्चाई से कहीं ज़्यादा अवसादकारी हो सकते हैं

News Analysis and Expert opinion on issues related to India and abroad

हमारे जैसे जिन सब लोगों ने यह उम्मीद लगाई थी कि इस बार के चुनाव में मोदी शासन से मुक्ति बिल्कुल संभव होगी, एग्जिट पोल (Exit Polls) से उन सबमें …

Read More »

नंगी तलवारें अब खिलिखिलाते कमल हैं… हिटलर को भी आखिर खुदकुशी करनी होती है

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

वरिष्ठ पत्रकार और हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार पलाश विश्वास का यह आलेख मूलतः 30 जुलाई 2015 को प्रकाशित हुआ था। यह आलेख आज भी प्रासंगिक है क्योंकि “यूं समझिये कि …

Read More »

2019 चुनावी परिदृश्य पर एक शुद्ध दार्शनिक चर्चा : मोदी की बुरी हार सुनिश्चित है

Why Modi Matters to Indias Divider in Chief

2019 चुनावी परिदृश्य पर एक शुद्ध दार्शनिक चर्चा (A pure philosophical discussion on the 2019 election scenario); परिस्थिति के जीवंत भेदाभेदमूलक स्वरूप में मोदी का कोई स्थान संभव नहीं है …

Read More »

अपना रामराज बौद्ध हो गया और राजनीतिक भी, इसलिए हमें उससे परहेज करना चाहिए? ये सवाल खुद से हैं और आपसे भी!

Dr. Udit Raj

लू (hot wind) और काल बैसाखी (Kal Baisakhi) के मध्य तैंतीस साल बाद एक मुलाकात! दलित मूलनिवासी आंदोलन (Dalit Mulniwasi Movement) को छोटी-छोटी मामूली सामाजिक घटनाओं से कुछ सबक लेना …

Read More »

एक मिलियन पशु और पौधों की प्रजातियों को विलुप्त होने का खतरा

News on research on health and science

जेनिफर जैक्वेट, न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के पर्यावरण अध्ययन विभाग में सहायक प्रोफेसर हैं और वैश्विक जलवायु सहयोग, जैसे कि जलवायु परिवर्तन और मछली पकड़ने और इंटरनेट वन्यजीव व्यापार के माध्यम से …

Read More »

पंडित नेहरू का जमाना जब डर दिखा कर वोट लेना बहुत गलत काम माना जाता था

How much of Nehru troubled Modi

आजादी के शुरुआती पन्द्रह वर्षों में जवाहरलाल नेहरू (Jawahar Lal Nehru) ने जो बुनियाद डाली उसी का नतीजा है किस आज दुनिया में भारत का सर ऊंचा है। वरिष्ठ पत्रकार …

Read More »

मोदी सरकार की पाकिस्तान नीति की घोर विफलता और अजीत डोवाल का अंध-राष्ट्रवाद

Prakash Karat भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के नेता प्रकाश कारात

भारत-पाकिस्तान संवाद : एक कदम आगे (भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के नेता प्रकाश कारात का यह लेख  “मोदी सरकार की पाकिस्तान नीति की घोर विफलता और अजीत डोवाल का …

Read More »

विद्या-भंजकों का प्रदर्शन; यह बंगाल की अस्मिता पर भाजपा का हमला है

Chittorgarh: BJP chief Amit Shah addresses during a public meeting in Chittorgarh, Rajasthan, on Dec 3, 2018

कल अमित शाह (Amit Shah) जब मध्य कोलकाता के धर्मतल्ला (Dharmatullah of central Kolkata) से उत्तरी कोलकाता में विवेकानंद के निवास (residence of Vivekananda in North Kolkata) तक ‘जय श्री …

Read More »

डॉ. राम पुनियानी का लेख “वैश्विक आतंकवाद: बिगड़ रहे हैं हालात”

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

वैश्विक आतंकवाद (Global terrorism) ने भयावह स्वरूप अख्तियार कर लिया है. 9/11/ 2001 से हालात बिगड़ने शुरू हुए और यह सिलसिला अब भी जारी है. ट्विन टावर्स पर हमले (Attack …

Read More »

गुंडई के बल पर बंगाल विजय का दिवस्वप्न देख रही भाजपा बुरी तरह से फँस गई है, खाता भी न खुलेगा

Why Modi Matters to Indias Divider in Chief

बंगाल में चुनाव पर एक सामान्य चर्चा A general discussion on election in Bengal –अरुण माहेश्वरी बंगाल में चुनाव के परिणामों (Election results in Bengal) के बारे में लिखने की …

Read More »

भारतीय राजनीति से मोदी की अंतिम विदाई का चुनाव होगा 2019

Narendra Modi An important message to the nation

पेशेवर राजनीतिक विश्लेषणों (Professional political analyzes) की समस्या है कि वे समग्र राजनीतिक परिदृश्य (Overall political scenario) में अलग-अलग ताक़तों की पृथक उपस्थिति को देखने पर इतना अधिक बल देने …

Read More »

गंदगी विकसित देशों ने फैलाई कीमत तीसरी दुनिया के देशों ने चुकाई

Education, Engineering, Science, Research, शिक्षा, इंजीनियरिंग, विज्ञान, अनुसंधान,

यूरोपीय संघ (The European Union) में भारी उद्योग क्षेत्र में स्वच्छता की दृष्टि से एक महत्वपूर्ण घटना हुई है। एक अध्ययन में यूरोपीय यूनियन को वर्ष 2050 तक स्टील, सीमेंट …

Read More »

फर्स्ट सर्जिकल स्ट्राइक : डियर मोदीजी मनमोहन सिंह ने हाफिज सईद को 14 दिन के भीतर अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करा दिया था

New Delhi: Former Prime Minister Dr. Manmohan Singh at the launch of his book "Changing India" in New Delhi on Dec 18, 2018. (Photo: IANS)

फर्स्ट सर्जिकल स्ट्राइक : डियर मोदीजी मनमोहन सिंह ने हाफिज सईद को 14 दिन के भीतर अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करा दिया था पुलवामा, उरी, पठानकोट आतंकी हमले (Terrorist Attack) के …

Read More »

एक अशिक्षित नेतृत्व से भारत को मुक्त करने का समय आ गया है

Narendra Modi An important message to the nation

आदमी के गठन में उसके इर्द-गिर्द के लोगों की उससे की जाने वाली अपेक्षाओं की बड़ी भूमिका होती है। आतंकवादियों की सोहबत (organization of terrorists) में रहने वाला आदमी हमेशा …

Read More »

आपको मौत का डर सता रहा है, हरेक तानाशाह इसी तरह डर डरकर प्रतिक्षण मरता है

Narendra Modi new look

आपको मृत्यु का भय सता रहा है, हरेक तानाशाह इसी तरह डर डरकर प्रतिक्षण मरता है मौत का डर और अवसाद (Fear and Depression of Death) – कांग्रेस (Congress) ने …

Read More »

संघ परिवार ने स्वीकार कर लिया है कि सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का कमल मोदी के नेतृत्व में भ्रष्ट और अश्लील पूंजीवाद के कीचड़ में खिलता है

Narendra Modi new look

नरेंद्र मोदी : पात्रता की पड़ताल नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने प्रधानमंत्री के रूप में अपनी पात्रता के पक्ष में विभिन्न कोनों/स्रोतों से लगातार स्वीकृति और समर्थन हासिल किया है. …

Read More »

आज की ये 4 बड़ी खबरें जिन्हें पढ़कर कोई भी भला आदमी सिहर उठेगा कैसे मोदी ने पूरे भारत को सड़ा दिया है

Narendra Modi An important message to the nation

भारत की अभी क्या स्थिति है (What is the situation of India), इसे आज के ‘टेलिग्राफ़’ (Telegraph India) की ख़बरों से जाना जा सकता है। चारों ओर झूठ और धोखाधड़ी …

Read More »

घटता हुआ मतदान बाबू समझो इशारे

Kanhmun: An elderly woman shows her inked finger after casting her vote for the Mizoram Assembly elections in Kanhmun, Mizoram on Nov 28, 2018. (Photo: IANS)

लोकसभा चुनावों के दूसरे चरण (Second phase of Lok Sabha elections 2019) में तथाकथित मतदाता जागरूकता अभियानों के बावजूद 95 क्षेत्रों में 68 प्रतिशत ही मतदान हो पाया है, जो …

Read More »

मोदी के जनाधार के चरित्र को जानें

Narendra Modi An important message to the nation

मोदी के जनाधार के चरित्र को जानें मध्यवर्ग की खूबी (Merit of middle class) है इसमें अधिकांश लोग विवेक से कम और मीडिया माहौल से ज्यादा संचालित होते हैं। अधिकांश …

Read More »

नरेंद्र मोदी को न एनडीए की परवाह है, न भाजपा की, और न पितृसंस्था संघ की

Narendra Modi An important message to the nation

एक ओर अभूतपूर्व शोर-शराबा, दूसरी तरफ असाधारण चुप्पी। सत्रहवीं लोकसभा (Seventh Lok Sabha) के चुनावी परिदृश्य (Electoral scenario) को शायद इस एक वाक्य में समेटा जा सकता है! इतना शोर …

Read More »

जालियांवाला बाग़ क़त्लेआम की साझी शहादत साझी-साझी विरासत की वो गौरव गाथा जो सरकार नहीं बताएगी

Jallianwala Bagh जालियांवाला बाग़

जालियांवाला बाग़ क़त्लेआम की 100साला बरसी : साझी शहादत साझी–साझी विरासत की गौरव गाथा जो सरकारी बस्तों में बंद पड़ी है! विश्व इतिहास की पहली साम्राज्यवादी शक्ति (The first imperialist …

Read More »

अस्मिता, अंबेडकर और रामविलास शर्मा

Jagadishwar Chaturvedi

रामविलास शर्मा (Ram Vilas Sharma) के लेखन में अस्मिता विमर्श को मार्क्सवादी नजरिए (Marxist Attitudes) से देखा गया है। वे वर्गीय नजरिए से जाति प्रथा (caste system) पर विचार करते …

Read More »

जानिए वे कन्हैया कुमार से नफ़रत क्यों करते हैं ?

Kanhaiya Kumar

वे कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) से नफरत क्यों करते हैं ? यह सवाल हमें बार-बार पूछना चाहिए। जितनी बार इस सवाल पर सोचेंगे नए कारण हाथ लगेंगे। कन्हैया कुमार ने …

Read More »

सांप्रदायिक ताम-झाम है, देशभक्ति का नारा

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

देशभक्ति का नारा : 2019 के लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) में पहला वोट पडऩे तक ही, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक और रिकार्ड कायम कर चुके थे। वह स्वतंत्र …

Read More »

जलियांवाला बाग : कुर्बानी के सौ साल, शहीदों को सलाम!  

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

आज 13 अप्रैल (April 13) 2019 को जलियांवाला बाग नरसंहार (Jalianwala Bagh Massacre) का सौवां साल है. वह बैसाखी के त्यौहार (festival of Baisakhi) का दिन था. आस-पास के गावों-कस्बों …

Read More »

नेहरू ने कितना परेशान किया मोदीजी को!

How much of Nehru troubled Modi

भाजपा (BJP) ने हाल में लोकसभा चुनाव 2019 व   के लिए अपना घोषणापत्र जारी किया। सरसरी निगाह से देखने पर ही इस दस्तावेज के बारे में दो बातें बहुत स्पष्ट …

Read More »

साफ़ दिखाई देने लगी है मोदी की पराजय… मोदी की सूरत बदहवासी में कैसी दिखाई देने लगी है !

Narendra Modi An important message to the nation

 जिस बात का दो साल पहले ही अनुमान लगाया जा सकता था कि अब फिर मोदी के लौट कर आने की संभावना नहीं रही है, समय बीत चुका है, वह …

Read More »

आतंकवाद का धर्म से कोई लेनादेना नहीं है

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

9/11, 2001 की दिल को हिला देने वाली त्रासदी, जिसमें करीब 3,000 निर्दोष लोग मारे गए थे, के बाद, अमरीकी मीडिया ने एक नया शब्द गढ़ा, ‘इस्लामिक आतंकवाद’. यह पहली …

Read More »

‘न्याय’ : भाजपा की शंका के मुकाबले कांग्रेस के वायदे पर एतबार क्यों है ?

Lalit Surjan ललित सुरजन। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, स्तंभकार व साहित्यकार हैं। देशबन्धु के प्रधान संपादक

[siteorigin_widget class=”ai_widget”][/siteorigin_widget] ‘न्याय’ : भाजपा की शंका के मुकाबले कांग्रेस के वायदे पर एतबार क्यों है ? कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress President Rahul Gandhi) ने न्यूनतम आय योजना (Minimum …

Read More »

आरएसएस/भाजपा का हिंदू-राष्ट्र धर्मनिरपेक्षता के चोर बाज़ार में बनता है

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

लोकसभा चुनाव 2019 : विपक्षी एकता के लिए एक नज़रिया (2) मौजूदा दौर की भारतीय राजनीति (Indian politics of the current) में नीतियों के स्तर पर सरकार और विपक्ष के …

Read More »

फासीवाद अब नजरों के सामने हैं, विपक्ष अपनी भूमिका अदा करें !

Narendra Modi An important message to the nation

हर बीतते दिन के साथ नरेन्द्र मोदी अपने हिटलरी रूप (Hitleri form of Narendra Modi) पर से एक-एक कर सारे आवरण उतारते चले जा रहे हैं। अब वे खुले आम …

Read More »

और अंत में लोहिया! विडम्बना या पाखंड की पराकाष्ठा? 

Narendra Modi new look

23 मार्च को डॉ. राममनोहर लोहिया का जन्मदिन (Dr. Ram Manohar Lohia’s Birthday) होता है. हालांकि कहा जाता है वे अपना जन्मदिन मनाते नहीं थे. क्योंकि उसी दिन क्रांतिकारी भगत …

Read More »

और अंत में लोहिया के व्यापारी! विडम्बना या पाखंड की पराकाष्ठा? 

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

23 मार्च को डॉ. राममनोहर लोहिया का जन्मदिन (Dr. Ram Manohar Lohia’s Birthday) होता है. हालांकि कहा जाता है वे अपना जन्मदिन मनाते नहीं थे. क्योंकि उसी दिन क्रांतिकारी भगत …

Read More »

मोदी की मनोदशा और भाजपा के लिये उसके अशनि संकेत

Chowkidar Narendra Modi

मोदी जिस प्रकार से बिना सोचे-समझे अपने सब लोगों को चौकीदार बनाने में लग गये हैं, मनोविश्लेषण की भाषा में इसे जुनूनी विक्षिप्तता (obsessional neurotic) कहते हैं। और, जब नेता विक्षिप्त हो जाए …

Read More »

पुण्य प्रसून प्रकरण और प्रतिष्ठित पत्रकारिता के संकट पर एक सोच

Punya Prasun Bajpai

पुण्य प्रसून वाजपेयी (Punya Prasun Bajpai) ने जबसे मोदी सरकार की कमियों और घोटालों(Modi Government’s scandals and shortcomings) पर खुल कर बोलना शुरू किया है, तभी से एक पेशेवर पत्रकार (Professional journalist) के रूप में …

Read More »

महान शहीद भगत सिंह, राजगुरू, सुखदेव और बेशर्म हिंदुत्व टोली

Martyrs Bhagat Singh, Rajguru, Sukhdev and the shameless Hindutva Gang.jpg

23 मार्च 2019 को भगत सिंह (Bhagat Singh), राजगुरू (Rajguru) और सुखदेव (Sukhdev) का 88वां शहादत दिवस था। उन्हें अँगरेज़ सरकार ने लाहौर जेल (अब पाकिस्तान में) इस जुर्म में …

Read More »

झूठ का तूफान और मोदी सरकार : RSS की नयी मैकार्थियन रणनीति, राष्ट्रवाद के नाम पर भय पैदा करो

पुलवामा की आतंकी घटना के साथ ही भाजपा अपने मैकार्थियन एजेण्डे को आगे बढ़ाते हुए नई कड़ी के तौर पर ''गद्दार बनाम देशभक्त'' की थीम पर प्रचार अभियान आरंभ कर …

Read More »

आज मार्क्सवादी अंतोनियो ग्राम्शी का जन्मदिन है, जिन्होंने कहा था सभी मनुष्य दार्शनिक हैं

antonio gramsci

आज अन्तोनियो ग्राम्शी का जन्मदिन (Antonio Gramsci’s Birth Day) है। मार्क्स-लेनिन (Marx-Lenin) के बाद जिस मार्क्सवादी (Marxist) ने सबसे ज्यादा सारी दुनिया के मार्क्सवादियों को प्रभावित किया वे हैं ग्राम्शी। …

Read More »

सामाजिक आतंक के खिलाफ थे स्वामी विवेकानंद, संघ का असली लक्ष्य हिंदुत्व की रक्षा नहीं

swami vivekananda

जगदीश्वर चतुर्वेदी आरएसएस का प्रधान लक्ष्य (RSS target) है भारत को अंधविश्वास में बांधे रखना। सामाजिक रूढ़ियों के सर्जकों-संरक्षकों को बढ़ावा देना, सार्वजनिक मंचों से स्वाधीनता आंदोलन (Independence movement) और …

Read More »

कहानी को अस्मिता की राजनीति से सबसे पहले मोहन राकेश ने जोड़ा

Mohan Rakesh

आज मोहन राकेश के जन्मदिन पर विशेष Special on the birthday of Mohan Rakesh जगदीश्वर चतुर्वेदी आज मोहन राकेश का जन्मदिन (Mohan Rakesh’s Birthday) है। सन् 1925 में आज के ही …

Read More »

धर्म लोकप्रचलित तर्कपद्धति है, धर्म उत्पीड़ित प्राणी की आह है, एक हृदयहीन संसार का हृदय है – कार्ल मार्क्स

Karl Marx

धर्म लोकप्रचलित तर्कपद्धति है, धर्म उत्पीड़ित प्राणी की आह है, एक हृदयहीन संसार का हृदय है – कार्ल मार्क्स जगदीश्वर चतुर्वेदी अनेक लोग हैं जो कार्ल मार्क्स के धर्म संबंधी …

Read More »

हरेक अक्लमंद मोदीजी का साथ छोड़कर भाग रहा है

Modi go back

हरेक अक्लमंद मोदीजी का साथ छोड़कर भाग रहा है प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद से अर्थशास्त्री सुरजीत भल्ला के त्यागपत्र पर त्वरित टिप्पणी Quick comment on resignation of economist Surjeet …

Read More »

कम्युनिस्ट दल जब तक हिंदी का महत्व नहीं समझते, वे हिंदी क्षेत्र में संकट में रहने को अभिशप्त हैं

भाकपा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, CPI, Communist Party of India,

कम्युनिस्ट दल जब तक हिंदी का महत्व नहीं समझते, वे हिंदी क्षेत्र में संकट में रहने को अभिशप्त हैं जगदीश्वर चतुर्वेदी कम्युनिस्ट पार्टी के लोग राष्ट्रभाषा हिंदी और कम्युनिकेशन की …

Read More »

मोदी में अभी तक पीएम के सामान्य लक्षण, संस्कार, आदत और भाषण की भाषा नहीं

मोदी में अभी तक पीएम के सामान्य लक्षण, संस्कार, आदत और भाषण की भाषा नहीं हिन्दुत्ववादी "तानाशाही" के 15 लक्ष्य 15 goals of Hindutva "dictatorship" जगदीश्वर चतुर्वेदी जो लोग फेसबुक …

Read More »

साधारण मनुष्य की महानता का महाख्यान 1917 की अक्तूबर क्रांति

साधारण मनुष्य की महानता का महाख्यान 1917 की अक्तूबर क्रांति सन् 1917 की अक्तूबर क्रांति के मौके पर – साधारण मनुष्य की महानता का महाख्यान October Revolution of 1917 जगदीश्वर …

Read More »

जेएनयू : लिबरल विश्वविद्यालय का अंत

जेएनयू : लिबरल विश्वविद्यालय का अंत JNU: End of Liberal University ideology सत्ता के वर्चस्व व प्रतिरोध का विद्यालयी वातावरण पर पड़ने वाले प्रभाव जगदीश्वर चतुर्वेदी मोदी सरकार आने के …

Read More »

नाम में क्या रखा है? बहुत कुछ : अंबेडकर के नाम में ‘रामजी‘ पर जोर

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

इन दिनों कई दलित संगठन (Dalit organization), उत्तर प्रदेश सरकार (Government of Uttar Pradesh) द्वारा उसके आधिकारिक अभिलेखों में भीमराव अंबेडकर के नाम में ‘रामजी‘ शब्द (The word ‘Ramji’ in …

Read More »

राष्ट्रवादी नंगई के प्रतिवाद में-अर्णव गोस्वमी तो बेचारा संघ का भोंपू है #SurgicalStrike

Jagadishwar Chaturvedi

मोदी के अंधभक्तों ने फेसबुक से लेकर टीवी चैनलों  तक जो राष्ट्रवादी नंगई दिखाई है, वह शर्मनाक है। ये सारी चीजें हम सबके लिए बार-बार आगाह कर रही हैं कि …

Read More »

हिंदुत्व को प्यार से क्यों नफरत है?

Irfan Engineer

हिन्दू राष्ट्रवादी संगठनों का ‘विदेशियों’ से घृणा करो जिहाद-2हिंदुत्ववादियों को यह बिल्कुल अच्छा नहीं लगता कि दो समुदायों के सदस्यों के बीच सद्भाव या प्रेम के रिश्ते बनें। उन्हें यह …

Read More »

अनुप्रिया जैसी प्रतिभाओं को सवर्णवादी दलों से जुड़ने से रोक लें बहुजनवादी दल !

New Delhi: Union MoS Health and Family Welfare Anupriya Patel addresses at the symposium cum exhibition on 'Dialogue with Organs for Allied Health Force – A step to enhance cognitive skills', at Vardhman Mahavir Medical College and Safdarjung Hospital, in New Delhi on Oct 4, 2018. (Photo: IANS/PIB)

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha elections) के तिथियों की औपचारिक घोषणा करीब है। राजनीतिक पार्टियाँ अपना-अपना समीकरण दुरुस्त करने में जुट गयी हैं। इस बीच जो उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), देश …

Read More »

कुछ भी कर लो, 2019 में मोदी की हार मुमकिन ही नहीं सुनिश्चित है

Narendra Modi new look

फेसबुक (Facebook) पर मित्र शम्भुनाथ शुक्ल (Shambhunath Shukla) जी ने ‘नया इंडिया’ (Naya India) अखबार में वरिष्ठ पत्रकार हरिशंकर व्यास (senior journalist Harishankar Vyas) की एक लंबी टिप्पणी यह कहते …

Read More »

घटिया राजनीति : भारत के इतिहास में सैनिकों की अर्थियां दिखाकर किसी पीएम ने वोट नहीं मांगे

Sikar: Prime Minister and BJP leader Narendra Modi addresses during a public meeting in Rajasthan's Sikar, on Dec 4, 2018. (Photo: IANS)

भारत के इतिहास में सैनिकों की अर्थियां (Corpses of soldiers) दिखाकर किसी पीएम ने वोट नहीं मांगे। हद है घटिया राजनीति (Shoddy politics) की। अब तक अधिकतम सैनिकों को आतंकियों …

Read More »

नवउदारवादी शिकंजे में आजादी और गांधी

Mahatma Gandhi statue in the Parliament premises. (File Photo: IANS)

कल गांधी की हत्या का दिन (Gandhi’s Martyrdom Day) था. सरकार, गांधीवादी संस्थाओं/जनों और अनेक सामान्य नागरिकों ने गांधी जी के 150वें जन्मशती वर्ष (Gandhi’s 150th Birth Anniversary) में ‘शहादत …

Read More »

आज करूणा और फिलीस्तीन मुक्ति का दिन है… आज समूची मानवता सूली पर लटकी हुई है

Jagadishwar Chaturvedi

आज करूणा और फिलीस्तीन मुक्ति का दिन है… आज समूची मानवता सूली पर लटकी हुई है जगदीश्वर चतुर्वेदी आप जीवन में स्वाभाविक रहें, करूणा पैदा होगी, सामाजिक परिवर्तन करने की …

Read More »

भागवत की कक्षा या आरएसएस के मेक-ओवर की कसरत

Mohan Bhagwat Vigyan Bhawan

भागवत की कक्षा या आरएसएस के मेक-ओवर की कसरत राजधानी दिल्ली में विज्ञान भवन में सितंबर के मध्य में हुई आरएसएस (RSS) के सरसंघचालक, मोहन भागवत की तीन दिवसीय व्याख्यानमाला …

Read More »

तुलसी के राम और संघ के राम

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

तुलसी के राम और संघ के राम (यह लेख संभवत: 2001-2 के आस-पास ‘जनसत्ता‘ में छपा था और ‘कट्टरता जीतेगी या उदारता‘ (राजकमल प्रकाशन, 2004) पुस्तक में संकलित है। इस …

Read More »

बीसवीं सदी में फ़ैज़ जैसा कवि भारतीय उपमहाद्वीप में नहीं हुआ

Faiz Ahmad Faiz

बीसवीं सदी में फ़ैज़ जैसा कवि भारतीय उपमहाद्वीप में नहीं हुआ गुलामी से मुक्ति का महाकवि फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की पुण्यतिथि पर विशेष जगदीश्वर चतुर्वेदी फ़ैज उन …

Read More »

क्या मोदी के करप्शन से ध्यान हटाओ अभियान में मदद कर रहे हैं वाम दल ?

Jagadishwar Chaturvedi

क्या मोदी के करप्शन से ध्यान हटाओ अभियान में मदद कर रहे हैं वाम दल ? माकपा-भाकपा वालो किसान-किसान छोडो, किसान पर बातें करने से मोदी सरकार की चूलें नहीं …

Read More »

ममता ने हमें झूठ का आदी बनाया मोदी ने उस पर हरी-भरी खेती की

Mamta Banerjee Who is mamata didi

ममता ने हमें झूठ का आदी बनाया मोदी ने उस पर हरी-भरी खेती की झूठ को समझो मित्र ! Who is mamata didi जगदीश्वर चतुर्वेदी झूठा प्रचार करके धराशाही करने …

Read More »

आरबीआई और जेटली विवाद : जरूरत है अर्थनीति के पूरे सोच को समस्याग्रस्त बनाने की

Arun Jaitley,

आरबीआई और जेटली विवाद : जरूरत है अर्थनीति के पूरे सोच को समस्याग्रस्त बनाने की -अरुण माहेश्वरी रिजर्व बैंक और सरकार के बीच वाक् युद्ध का एक नया नाटक शुरू …

Read More »

क्या आरएसएस का सचमुच ह्दय परिवर्तन हो गया है या नई पैकेजिंग में हिन्दुत्व

RSS Half Pants

क्या आरएसएस का सचमुच ह्दय परिवर्तन हो गया है या नई पैकेजिंग में हिन्दुत्व आरएसएस जमावड़ा : नई बोतल में पुरानी शराब आरएसएस मुखिया मोहन भागवत (RSS chief Mohan Bhagwat,) …

Read More »

चुनावी मोड में मोदी : अब उनकी गांठ में झूठ और कुछ और जुमलों के अलावा कुछ बचा नहीं

Election Mode Modi chunavi mod men Arun Maheshwari चुनावी मोड में मोदी : अब उनकी गांठ में झूठ और कुछ और जुमलों के अलावा कुछ बचा नहीं

चुनावी मोड में मोदी : अब उनकी गांठ में झूठ और कुछ और जुमलों के अलावा कुछ बचा नहीं ‘चुनावी मोड‘ में जनतंत्र-प्रेमियों का दायित्व —अरुण माहेश्वरी कल ही ‘एबीपी …

Read More »

राजीव गांधी की हत्या का मतलब भारत की संप्रभुता और लोकतंत्र पर हमला

Rajiv Gandhi

राजीव गांधी के बहाने (पुरानी पोस्ट जरूरी बात) जगदीश्वर चतुर्वेदी फ़ेसबुक पर जस्टिस मार्कण्डेय काटजू की राजीव गांधी पर पोस्ट पढ़कर लगा कि हमारे मध्यवर्ग में एक तबक़ा ऐसा पैदा …

Read More »

कोई जादू नहीं, कर्नाटक से मोदी की उल्टी गिनती शुरू हो गई है

Narendra Modi An important message to the nation

अमलेन्दु उपाध्याय कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम (Karnataka Assembly) लगभग आ चुके हैं। सीटों के लिहाज से भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। मतगणना के शुरू होते …

Read More »

फिर पाकिस्तान की शरण में भाजपा-आरएसएस ! जिन्ना ने एक पाकिस्तान बनाया ये भारत के टुकड़े-टुकड़े करके छोड़ेंगे

Asylum of Pakistan BJP RSS in shelter of Pakistan

अरुण माहेश्वरी जब भी कोई महत्वपूर्ण चुनाव आता है, भाजपा-आरएसएस के लोग भारत को छोड़ पाकिस्तान पर पिल पड़ते हैं। पैसठ साल पहले आरएसएस के बारे में अमेरिकी अध्येता जे …

Read More »

श्रद्धेय मोदीजी, अच्छे दिनों में किसान खेतों की बजाए सड़क पर क्यों है ?

Modi go back

जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं, एहसानफरामोशी के इस मुहावरे को सरकार के लिए यूं बदल सकते हैं कि जिस किसान का दिया खाते हैं, उसे …

Read More »

कौन है उत्तरदायी भारत विभाजन और कश्मीर समस्या के लिए?

राजनैतिक शक्तियां अपने एजेंडे को लागू करने के लिए इतिहास को तोड़ती-मरोड़ती तो हैं ही, वे अतीत की घटनाओं और उनकी निहितार्थों के सम्बन्ध में सफ़ेद झूठ बोलने से भी …

Read More »

तीन तलाक और भगवा मंशाएं… संघी कानून से पीड़ित मुस्लिम औरतों का तलाक नहीं रुकेगा

Jagadishwar Chaturvedi

जगदीश्वर चतुर्वेदी कल जितना टीवी से जान पाया वह यह कि तीन तलाक़ रोकने वाले संघी कानून से पीड़ित मुस्लिम औरतों का तलाक नहीं रुकेगा। यानी जब एक बार किसी …

Read More »

नाना जी देशमुख ने 1984 के जनसंहार को न्यायोचित ठहराया था, देखें दस्तावेज

Nana ji Deshmukh article on 1984 Sikh mascare

नाना जी देशमुख ने 1984 के जनसंहार को न्यायोचित ठहराया था, देखें दस्तावेज Nana ji Deshmukh justified the genocide of 1984 शम्सुल इस्लाम आरएसएस भारत में अल्पसंख्यकों को दो श्रेणियों …

Read More »

हिंदू राष्ट्र का यह धर्मोन्माद किसान, आदिवासी, स्त्री और दलितों के खिलाफ इसे हम सिर्फ मुसलमानों के खिलाफ समझने की भूल कर रहे

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

वंदेमातरम् की मातृभूमि अब विशुद्ध पितृभूमि है, जहां काबुलीवाला जैसा पिता कोई नहीं काबुलीवाला, मुसलमानीर गल्पो और आजाद भारत में मुसलमान रवींद्र का दलित विमर्श-33 रवींद्रनाथ की कहानियों में सतह …

Read More »

धर्मोन्माद में न आस्था है और न धर्म, यह नस्ली वर्चस्व का अश्लील नंगा कार्निवाल है

विषमता की अस्पृश्यता के पुरोहित तंत्र के विरुद्ध समानता और न्याय की आवाज ही रवींद्र रचनाधर्मिता है। इसीलिए उत्पीड़ित अपमानित मनुष्यता के लिए न्याय और समानता की उनकी मांग उनकी …

Read More »

भारतमाता का दुर्गावतार नस्ली मनुस्मृति राष्ट्रवाद का प्रतीक है तो महिषासुर वध आदिवासी भूगोल का सच

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

            দুই ছিল মোর ভুঁই, আর সবই গেছে ঋণে। বাবু বলিলেন, ‘বুঝেছ উপেন? এ জমি লইব কিনে। ‘ কহিলাম আমি, ‘তুমি ভূস্বামী, ভূমির অন্ত নাই – চেয়ে দেখো মোর আছে …

Read More »

मोदी-शाह-भाजपा-आरएसएस चौकड़ी को जीवन भर याद रहेगा अगस्त का यह आखिरी हफ्ता

पिछले एक हफ्ते के सारे घटनाक्रम से ऐसा लगता है जैसे अब भारतीय राजनीति का यह ‘गाय, गोबर, गोमूत्र, बीफ, बाबावाद, लव जेहाद, लींचिग और ‘देशभक्ति’ के शोर के युग …

Read More »

कर्नल पुरोहित की रिहाई यानी हिंदू आतंक, आतंक ना भवति

Rajendra Sharma राजेंद्र शर्मा। लेखक वरिष्ठ पत्रकार व स्तंभकार हैं।

0 राजेंद्र शर्मा आखिरकार, मालेगांव बमकांड (Malegaon bomb blasts) के आरोपी, लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीकांत पुरोहित (Lt. Col. Srikanth Purohit) की करीब आठ साल, आठ महीने के बाद सेना में वापसी हो …

Read More »

मजहबी सियासत के हिंदुत्व एजंडे से मिलेगी आजादी स्त्री को?

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

तीन तलाक की प्रथा खत्म हो गयी है, यह दावा करना जल्दबाजी होगी। इसी सिलिसिले सामाजिक, मजहबी बदलाव की किसी हलचल के बिना सियासती सरगर्मियां हैरतअंगेज हैं। जश्न मानने से पहले …

Read More »

इस राष्ट्रवाद के मसीहा तो हिटलर और मुसोलिनी हैं

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

भारत का इतिहास लोकतंत्र का इतिहास है। भारत का इतिहास लोकगणराज्य का इतिहास है। धर्म और आस्था चाहे जो हो, भारत में धर्म कर्म लोक संस्कृति, परंपरा और रीति रिवाजों के लोकतंत्र …

Read More »

क्या पैलेट गन का इस्तेमाल केवल कश्मीरी नौजवानों के लिए सुरक्षित है?

Hamari Ray

Special comment on Gurmeet Ram Rahim राजीव रंजन श्रीवास्तव अभी 15 अगस्त बीता है, जब हमने आज़ादी की 70वीं वर्षगांठ (70th anniversary of independence) मनाई है। प्रधानमंत्री ने लालकिले से …

Read More »

पर संघ ने तो हिन्दू कोड बिल पर नेहरू और डॉ. अम्बेडकर के विरूद्ध जहरीला प्रचार किया था

RSS Half Pants

एल.एस. हरदेनिया सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court) ने अपने एक ऐतिहासिक निर्णय में तीन तलाक (Tripple Talaq) देने की परंपरा को समान अधिकार के सिद्धांत का विरोधी माना है। दिनांक 22 …

Read More »

प्रेस की आज़ादी : क्या योगी और वसुंधरा भी प्रधानमंत्री की नसीहत से सबक लेंगे !

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

पत्रकारिता के बुनियादी सवालों पर नए विचार की ज़रूरत Need a new idea on journalistic fundamental questions शेष नारायण सिंह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई में एक तमिल अखबार के …

Read More »

मी लॉर्ड हिन्दुओं के तलाक के मुक़दमों को जल्द खत्म कराने के लिए पहल कब ?

Triple Talaq ट्रिपल तलाक तीन तलाक

  जगदीश्वर चतुर्वेदी इंस्टैंट तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है। बड़ा दिलचस्प होगा अब मुसलिम महिलाओं के तलाक के सवाल पर मुसलिम विरोधी संगठन कानून बनाएँगे। सुप्रीम …

Read More »

न लगता आपातकाल तो संघी भारत को बना देते पाकिस्तान, जानें संघ ने इंदिरा से माँगी थी माफी

Indira Gandhi

एल.एस. हरदेनिया प्रतिवर्ष के अनुसार भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) ने 25 जून (25th of June) को देशभर में आपातकाल (Emergency) को …

Read More »

राम के नाम सौगंध भीम के नाम! संघ परिवार ने बाबासाहेब को भी ऐप बना दिया

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

राम के नाम सौगंध भीम के नाम! संघ परिवार ने बाबासाहेब को भी ऐप बना दिया… मनुस्मृति का जेएनयू मिशन पूरा,  जय भीम के साथ नत्थी कामरेड को अलविदा है। …

Read More »

तमिलनाडु में सेंधमारी और बंगाल में राम की सौगंध, गायपट्टी में मुंह की खाने की हालत में ग्लोबल हिंदुत्व का पलटवार!

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

पलाश विश्वास आज यूपी (उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017- Uttar Pradesh Assembly Elections 2017) में दूसरे चरण का मतदान था। उत्तराखंड में भी आज जनादेश की कवायद है। इससे एक …

Read More »

साध्वी प्रज्ञा की मोटरसाइकिल और रूबीना की कार-दो गाड़ियों की कहानी

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

दो गाड़ियों की कहानी…  बाल ठाकरे (Bal Thackeray) ने ‘‘सामना’’ में लिखा था कि ‘‘हम करकरे के मुंह पर थूकते हैं’’। गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी (Gujarat Chief Minister …

Read More »

कैंसर से तड़प-तड़प कर खत्म होता जा रहा है देश, हमारा राष्ट्रवादी युद्धोन्माद परमाणु धमाकों में तब्दील

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

कैंसर से तड़प-तड़प कर खत्म होता जा रहा है देश, हमारा राष्ट्रवादी युद्धोन्माद (Nationalist war hysteria) परमाणु धमाकों (Nuclear blasts) में तब्दील…. अरबों शरणार्थी (Refugees) मनुष्यों को बचाने की कोई …

Read More »

क़फ़स नहीं है कश्मीर

Randhir Singh Suman CPI

कश्मीर घाटी (Kashmir valley) में पिछले 43 दिन से सुलग रही आग पहले ही पीर पंजाल (Pir Panjal) और जम्मू क्षेत्र की चेनाब घाटी (Chenab valley of Jammu region) तथा …

Read More »

यह आतंकवादी केसरिया सुनामी ब्राह्मण धर्म का पुनरुत्थान और हिन्दू धर्म का अवसान है

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

यह आतंकवादी केसरिया सुनामी ब्राह्मण धर्म (Brahmin religion) का पुनरुत्थान है और हिन्दू धर्म का अवसान (extinction of Hindu religion)… राष्ट्रवादी देश भक्त तमाम ताकतों को एकजुट होकर हिन्दू धर्म …

Read More »

प्रेमचंद और भाषा समस्या

Munshi Premchand

एक है मीडिया की भाषा और दूसरी जनता की भाषा, मीडिया की भाषा और जनता की भाषा के संप्रेषण को एकमेक करने से बचना चाहिए। प्रेमचंद ने भाषा के प्रसंग …

Read More »

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने भारत छोड़ो आंदोलन को कुचलने के लिए अंग्रेजों की मदद की थी

syama prasad mukherjee in hindi

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने भारत छोड़ो आंदोलन को कुचलने के लिए अंग्रेजों की मदद की थी आरएसएस/भाजपा के नए ‘देश-भक्त’ डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बारे में 6 सच्चाइयां …

Read More »

कश्मीरी पंडितों की बदहाली का राजनीतिकरण

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

  राजनीति एक अजब-गजब खेल है। इसके खिलाड़ी वोट कबाड़ने के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं। इन खेलों से हमें संबंधित खिलाड़ी की राजनैतिक विचारधारा का पता …

Read More »

देश में सहिष्णुता और अभिव्यक्ति की आज़ादी खतरे में है

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

सन 2015 के अंतिम महीनों में कई जाने-माने लेखकों और प्रतिष्ठित नागरिकों ने देश में बढ़ती असहिष्णुता के प्रति अपना विरोध व्यक्त करने के लिए उन्हें प्राप्त राष्ट्रीय पुरस्कार लौटा …

Read More »

मोदी का विकास मॉडल वस्तुतः विकास विरोधी, सामाजिक विभाजनकारी और संवैधानिक संस्थान विरोधी मॉडल है

Sikar: Prime Minister and BJP leader Narendra Modi addresses during a public meeting in Rajasthan's Sikar, on Dec 4, 2018. (Photo: IANS)

बिहार विधानसभा चुनाव का मिथभंजन और यथार्थ Myths and realities of Bihar assembly elections नरेन्द्र मोदी के विकास मॉडल से भिन्न बिहार की विकास दर निश्चित तौर पर आकर्षित करने वाली …

Read More »

इतिहास लहूलुहान, पन्ना दर पन्ना खून का सैलाब! लहुलुहान फिजां है लहुलुहान स्वतंत्रता लहुलुहान संप्रभुता लहूलुहान

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

पलाश विश्वास मर्डर इन द कैथेड्रल गीति नाट्य विधा में लिखी गयी अंग्रेज कवि और आलोचक नोबेल पुरस्कार विजेता टीएस इलियट की अत्यंत प्रासंगिक कृति है। रवीन्द नाथ टैगोर ने …

Read More »

तिरंगे पर कब्जे की लड़ाई

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

शासक वर्ग की ताकत का तिरंगा Tricolor of the power of the ruling class 26 जनवरी को 62 वें गणतंत्रा दिवस का जश्न पूरा हुआ। देश और प्रांतों की राजधानियों  के …

Read More »

मैन फोर्स के मुकाबले यह कायनात तुम्हारे हवाले दोस्तों!

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

कल हमने लिखा था, अंबेडकर के बाद हिंदू साम्राज्यावदी एजंडा में गौतम बुद्ध को समाहित करने की बारी है और आज इकोनामिक टाइम्स की खबर हैः ‘बुद्ध डिप्लोमेसी’ से एशिया …

Read More »

कांशीराम का प्रयोग फेल, बामसेफ को अंबेडकर के आंदोलन में लौटना होगा

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

बहुजन समाज (Bahujan Samaj) का निर्माण ही नहीं होने दिया जाति अस्मिता (Caste asmita) ने… कारपोरेट राज (Corporate Raj) में तब्दील है मनुस्मृति व्यवस्था (Manusmriti system)! …. कार्यकर्ताओं ने उठायी …

Read More »

नदियों की सफाई और स्वच्छता को गांधी और लोहिया के चितंन से जोड़ें

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

डॉ. प्रेम सिंह (DR. Prem singh) ने यह लेख ‘युवा संवाद’ (Yuva Samvad) में अक्तूबर 2009 में लिखा था। मोदी (Narendra Modi) ने ‘गंगा के बुलावे’ पर बनारस (Varanasi) से …

Read More »

कश्मीर पर कश्मीरी पंडितों का वर्चस्व बहाल करना नेपाल में हिंदू राष्ट्र के संघी खेल से कहीं ज्यादा खतरनाक

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

कश्मीर में फिजां बदलने की उम्मीद कश्मीर में चुनाव नतीजे (Election results in Kashmir) चाहे कुछ हों, वहां लोकतांत्रिक प्रक्रिया की वापसी (Return of democratic process) का स्वागत किया ही …

Read More »

इतना क्यों लिखते हो और लिखने से क्या होता है

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

आज अरसे बाद सब्जी बाजार जाना हुआ। हाट फिर भी नहीं जा सकें। जहां देहात के लोग अपने खेतों की पैदावर लेकर आते हैं सीमावर्ती गांवों से। खासकर सौ सौ …

Read More »

नेहरू जमाने का पटाक्षेप, लेकिन इसकी कीमत क्या, इसे भी बूझ लीजिये, बंधु!

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

नेहरु जमाने का पटाक्षेप, लेकिन इसकी कीमत क्या, इसे भी बूझ लीजिये, बंधु! दरअसल दो दलीय वेस्टमिन्स्टर शैली (Two-party westminster style) की लोकतांत्रिक वर्चस्ववादी (Democratic supremacist) इस राज्यतंत्र (Monarchy) में …

Read More »

इति‍हास का आधार प्रेमचंद क्‍यों नहीं

Munshi Premchand

आज उपन्यासकार प्रेमचंद का जन्मदिन है । प्रेमचंद जयंती पर विशेष Today is the birthday of novelist Premchand. Special on Premchand Jayanti हिन्दी साहित्य के दो महत्वपूर्ण इतिहास ग्रंथ रामचन्द्र शुक्ल का …

Read More »

नमक का दरोगा वाले कलम के सिपाही प्रेमचंद को नमन

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

गोदान में खेत खाओ संस्कृति के पूँजी वर्चस्व का भी अच्छा खासा ब्यौरा है। आज सुबह सुबह बसंतीपुर से पद्दो का फोन आया। पहली बार तो लगा किसी कंपनी का …

Read More »

चाहे कोई बने वे मुक्त बाजार के प्रधानमंत्री ही होंगे, भारतीय जन गण मन के नहीं

Palash Biswas पलाश विश्वास पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं। “अमेरिका से सावधान “उपन्यास के लेखक। अमर उजाला समेत कई अखबारों से होते हुए अब जनसत्ता कोलकाता में ठिकाना

मित्रों,  आप (AAM ADMI PARTY) सत्ता में आते ही आपको याद होगा कि हमने लिखा था कि अगर आप कारपोरेट राज (Corporate Raj) के खिलाफ हैं तो वह कम से …

Read More »

बीमार क्यों है राष्ट्रीय एकता परिषद?

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

राष्ट्रीय एकता परिषद (National integration Council) की 23 सितम्बर 2013 को दिल्ली में आयोजित बैठक बेनतीजा और निराशाजनक रही। मुजफ्फरनगर दंगों की पृष्ठभूमि (Background of Muzaffarnagar Riots) और देश में …

Read More »

पूंजीपतियों के आगे नाच रहा है आरएसएस का नया जमूरा नरेंद्र मोदी

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

कांग्रेस (Congress) पूंजीपतियों की सबसे बड़ी करुणानिधान पार्टी है…. नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) का ही छोटा बच्चा है, जो अब बड़ा बनने के लिए मचल उठा है… …

Read More »

एक राजनीतिक विचारधारा है हिन्दुत्व जिसका हिन्दू धर्म से कोई लेना-देना नहीं है

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

हिन्दू धर्म (Hindu religion) भारत का प्राचीन धर्म (Ancient religions of India)  है। इसमें बहुत सारे सम्प्रदाय हैं। सम्प्रदायों को मानने वाला व्यक्ति अपने आपको हिन्दू कहता है लेकिन हिन्दुत्व …

Read More »

करकरे तुझे सलाम

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह (Congress General Secretary Digvijay Singh) अपनी ही धुन के आदमी हैं. कभी कभी सच बोलते हैं लेकिन थोडा संकोच और “एक कदम आगे दो कदम पीछे” …

Read More »

आर एस एस ने 1948 में तिरंगे को पैरों तले रौंदा था ?

RSS Half Pants

आर एस एस ने 1948 में तिरंगे को पैरों तले रौंदा था ? नई दिल्ली। श्रीनगर के लाल चौक पर झंडा फहराने की भाजपा की राजनीति पूरी तरह से उल्टी पड़ …

Read More »

हम साहि‍त्‍य से प्‍यार करने लगे और धर्म से नफरत, इस प्रक्रि‍या में पहले हाथ से धर्म गया अब साहि‍त्‍य भी जा रहा

Jagadishwar Chaturvedi

हिंदी के बुद्धि‍जीवि‍यों में धर्म ‘इस्‍तेमाल करो और फेंको’ से ज्‍यादा महत्‍व नहीं रखता। अधि‍क से अधि‍क वे इसके साथ उपयोगि‍तावादी संबंध बनाते हैं। धर्म इस्‍तेमाल की चीज नहीं है। …

Read More »

हमारी विरासत- झारखंड की भूमि और किसानचेतना- स्वामी सहजानंद सरस्वती

Jagadishwar Chaturvedi

बिहार और छोटानागपुर सूबे का दक्षिणी हिस्सा (Southern part of Chhotanagpur provinces and Bihar) ही झारखंड (Jharkhand) कहा जाता है। यह पुराना नाम है। संस्कृत में वनखंड या वनषंड शब्द …

Read More »

शिकारियों के बीच घिरी एक लड़की

Socialist thinker Dr. Prem Singh is the National President of the Socialist Party. He is an associate professor at Delhi University समाजवादी चिंतक डॉ. प्रेम सिंह सोशलिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव हैं। वे दिल्ली विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं

समाज में चारों तरफ स्त्रियों पर अत्याचार की घटनाएं (Incest incidents on women) बढ़ती जा रही हैं। भारतीय पुरुष-मानस में स्त्री-अवमानना की गहरी गांठ पड़ी है, जो गलने का नाम …

Read More »