Manisha Kulshreshtha's novel 'Mallika'

शुद्ध रूप से एक विधवा की प्रेम कथा है, प्रणय-प्रेम गाथा है मनीषा कुलश्रेष्ठ का उपन्यास ‘मल्लिका’

भारतेन्दु बाबू के प्रणय-प्रेम की एक कथा — 'मल्लिका' आज मनीषा कुलश्रेष्ठ का हाल में प्रकाशित उपन्यास 'मल्लिका' (Manisha Kulshreshtha's novel 'Malli

Read More
Kabir कबीर

अपने युग की जन-विरोधी सामाजिक विसंगतियों पर जोरदार प्रहार किया कबीर ने

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, समाज में अपने जीवन का अस्तित्व बनाए रखने के लिए उसे संघर्ष करना पड़ता है। यह संघर्ष उसे मानव से भी करना पड़ता है और प्रक

Read More
Rajeev mittal

लुटियंस का मोहल्ला..

पांडवों ने एक जंगल पे इन्द्रप्रस्थ (Indraprastha) क्या बसा दिया, न जाने कितने सूरमाओं को खेलने का मौका दे दिया.. पिछले हजार साल में कई ने उजाड़ा, कई न

Read More

अँधियारे पाख की इक कविता है जिसने चाँद बचा रक्खा है ..

डॉ. कविता अरोरा शुक्ल पक्ष फलक पर ढुलकता चाँद ...टुकड़ी-टुकड़ी डली-डली घुलता चाँद ...सर्दी ..गरमी ..बरसात ..तन तन्हा अकेली रात ...मौसमों के सफ़र प

Read More
Rajiv Gandhi

जब राजीव गांधी ने कहा था – ”रक्त बहाने के बजाय, घृणा को बह जाने दो’

भाषाविद् डॉ. मन्नूलाल यदु की पुस्तक "राजीव गांधी: भारतीयता की तलाश" का यह अंश प्रतिष्ठित समाचारपत्र देशबन्धु में प्रकाशित हुआ था। स्व. राजीव गांधी की

Read More
हिंदी विश्‍वविद्यालय (Hindi University) में ‘छायावाद के सौ वर्ष’ (Hundred years of chhaayaavaad) पर राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी उद्घाटित

कविता का सर्वोत्‍तम कालखंड है छायावाद – प्रो. रजनीश कुमार शुक्‍ल

हिंदी विश्‍वविद्यालय में ‘छायावाद के सौ वर्ष’ पर राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी का समापन वर्धा,  11 मई 2019: छायावाद का समय (Time of Chhayawad) कविता क

Read More
Satta Ki Suli सत्ता की सूली, लोया की गाटेगांव यात्रा

सत्ता की सूली : न्यायपालिका में हमेशा न्याय नहीं होता! कभी-कभी सिर्फ जजमेंट होता है!

सत्ता की सूली : अनसुलझी हत्याओं और अन्याय की कड़वी यादों को हमारे जेहन में जीवित रखती है बाम्बे हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश बी जी कोलसे पाटिल (B.J

Read More
हिंदी विश्‍वविद्यालय (Hindi University) में ‘छायावाद के सौ वर्ष’ (Hundred years of chhaayaavaad) पर राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी उद्घाटित

छायावाद ने हृदय से आखों तक दृष्टि और रौशनी दी है – प्रो. विजय बहादुर सिंह

हिंदी विश्‍वविद्यालय (Hindi University) में ‘छायावाद के सौ वर्ष’ (Hundred years of chhaayaavaad) पर राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी उद्घाटित वर्धा, दि. 08 मई

Read More
Seema Aseem Saxena Novel Adig Prem सीमा सक्सेना असीम का उपन्यास "अडिग प्रेम"

अडिग प्रेम : सच्चे प्रेम, दर्द और एक ऐसी रात की कहानी जिसका रोमांच कोई नारी शरीर ताउम्र नहीं भूल सकता

एक स्त्री के मन की यात्रा करने जैसा है सीमा सक्सेना असीम का उपन्यास "अडिग प्रेम" पढ़ना सीमा सक्सेना "असीम" का उपन्यास "अडिग प्रेम" पढ़ना एक स्त्री

Read More
RSS Half Pants jaya prada Mohd Azam Khan

इक गढ़े सच पर अंधा राष्ट्र चल रहा है.. भक्त सोचते हैं देश बदल रहा है

इक गढ़े सच पर अंधा राष्ट्र चल रहा है.. भक्त सोचते हैं देश बदल रहा है ओ इतिहास पर पलने वाली दीमकों.. बस भी करो.. अब छिजी हुई भारतीयता में संस

Read More
Satta Ki Suli सत्ता की सूली, लोया की गाटेगांव यात्रा

लोया की गाटेगांव यात्रा

महाराष्ट्र का लातूर एक विनाशकारी भूकंप के लिए जाना जाता है। 30 सितंबर,1993 कीउस तबाही को याद कर लोगों की आज भी रूह कांप जाती है। जज लोया 30 हजार जिंद

Read More
Shaheed E Azam Bhagat Singh

भगतसिंह का लेख – लाला लाजपत राय और नौजवान

(यह वह दौर था जब कौंसिल के चुनावों में लाला लाजपत राय ने कांग्रेस का साथ छोड़कर उसकी मुख़ालफ़त करनी आरम्भ कर दी थी और अनेक ऐसी बातें कहीं जो कि किसी

Read More
Breaking news

स्मृतिलोप से हट कर यथार्थ की ओर : हिंदी समाज में हीरा डोम की तलाश

स्मृतिलोप से हट कर यथार्थ की ओर : हिंदी समाज में हीरा डोम की तलाश -सुभाष गाताडे ( अकार, हिंदी समाज पर केंद्रित अंक में जल्द ही प्रकाशित) ‘दे

Read More

कहते हैं कि बहरा हो गया है हाकिम/ तभी तो सबकी फ़रियाद नहीं सुनता

ये रास्ते हैं इंसाफ़ केजंहागीर के दरबार का भारी है घंटाहर एक के हिलानें से नहीं बजता कहते हैं कि बहरा हो गया है हाकिमतभी तो सबकी फ़रियाद नहीं सुनता कु

Read More
Faiz Ahmad Faiz

बीसवीं सदी में फ़ैज़ जैसा कवि भारतीय उपमहाद्वीप में नहीं हुआ

बीसवीं सदी में फ़ैज़ जैसा कवि भारतीय उपमहाद्वीप में नहीं हुआ गुलामी से मुक्ति का महाकवि फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की पुण्यतिथि पर विशेष जगदीश

Read More
Rajiv Gandhi

जब राजीव गांधी ने कहा था – ”रक्त बहाने के बजाय, घृणा को बह जाने दो’

जब राजीव गांधी ने कहा था - ''रक्त बहाने के बजाय, घृणा को बह जाने दो' - डॉ. मन्नूलाल यदु, भाषाविद राजीव गांधी प्रधानमंत्री बनने के बाद 31 अक्टूबर,1984

Read More
kavita Arora डॉ. कविता अरोरा

तुम मनाओ 15अगस्त…./ मैं अफ़सोस मनाऊँगी…./  इस देश में पैदा होने का अफ़सोस…..

तुम मनाओ 15अगस्त..../ मैं अफ़सोस मनाऊँगी..../  इस देश में पैदा होने का अफ़सोस..... डॉ. कविता अरोरा हाँ हमने मान लिया.... हम रिश्ते नहीं..महज़..जिस्म ह

Read More
Tragedy of division tamas

कालजयी रचना : विभाजन की त्रासदी का सच है ‘तमस’

विभाजन की त्रासदी पर एक से बढ़ कर एक कृतियां सामने आईं, पर भीष्म साहनी का उपन्यास ‘तमस’ सबसे अलग ही है। यह एक ऐसी कृति है जिसका नाम भारतीय साहित्य के

Read More
Sangeenon ke saye men school

संगीनों के साये में स्कूल

संगीनों के साये में स्कूल डरी फ़िक्रमंद मांओं ने बलैयाँ ली नजर उतारी दुआएँ माँगी अल्लाह ताला से जिगर के टुकड़ों को चूम कर रुखसत किया फ़ौजी संगीनों के

Read More
Mahatma Gandhi Antarrashtriya Hindi Vishwavidyalaya Wardha

‘वर्धा शब्‍दकोश’ में हैं ज्ञान के विविध अनुशासनों के शब्‍द भंडार : प्रो.जैन

वर्धा, 26 अक्‍टूबर, 2013; महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय की बहुआयामी परियोजना के तहत प्रकाशित ‘वर्धा शब्‍दकोश’ का लोकार्पण हिंदी क

Read More