Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र

आपकी नज़र

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि

जाति को नष्ट कैसे करें ?

jagdishwar chaturvedi

How to destroy caste? जितने बड़े पैमाने हम जाति-जाति चिल्लाते रहते हैं, उसकी तुलना में यदि आधा समय भी नागरिक चेतना अर्जित करने, जाति से नागरिक के रूप में तब्दील करने पर खर्च किया होता तो भारत का नक्शा ही बदल जाता। सामाजिक विकास में सबसे बड़ा रोड़ा है जाति चेतना जाति चेतना सामाजिक विकास में सबसे बड़ा रोड़ा है। …

Read More »

मक्खन पर नयी लकीर : क्वीन की धाकड़ फ्लॉप होने बाद नयी फिल्म इमरजेंसी

sarvamitra surjan

वो कैसा राष्ट्रवादी जो अपनी तकलीफों का इज़हार कर दे धाकड़ सिनेमाघरों में धड़ाम हो गई, कोई धमाल नहीं दिखा पाई। बॉलीवुड क्वीन के सपने (bollywood queen dreams) ताश के महल की तरह गिर गए। अब बॉक्स ऑफिस है, कोई ईवीएम बॉक्स तो नहीं, जिसके बूते जीत की गारंटी दी जा सके। क्या धाकड़ को पिटवाने में परिवारवाद का ‘हाथ’ …

Read More »

बंदूक संस्कृति : अमेरिका अपनी ही नीतियों का शिकार

Joe Biden President of the United States

Bandook sanskrti : USA apanee hee neetiyon ka shikaar (Gun culture: America a victim of its own policies) अमेरिका में स्कूलों पर 2012 के बाद हुई सबसे भयानक गोलीबारी अमेरिका में स्कूलों पर हुई गोलीबारी पर संपादकीय संदर्भ : एक बंदूकधारी ने सैन एंटोनियो से लगभग 80 मील (130 किमी) पश्चिम में एक शहर, उवाल्डे, टेक्सास में रॉब एलीमेंट्री स्कूल …

Read More »

अमृत काल में विष वर्षा

rajendra sharma

Poison rain in nectar year स्वतंत्रता के 75वें वर्ष (75th year of independence) को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) और उनके समूचे प्रचार-तंत्र ने ‘‘अमृत वर्ष’’ घोषित किया था, तब कम से कम यह किसी ने नहीं सोचा होगा कि इस सुंदर नाम की ओट में से, सांप्रदायिक विष की वर्षा का वर्ष निकलेगा। और विष की …

Read More »

आपदा में अवसर : कोरोना काल में भारत में मात्र हर 11 दिन में एक नया व्यक्ति अरबपति बना !

updates on the news of the country and abroad breaking news

कोरोना महामारी के बाद आर्थिक गैर बराबरी बढ़ी (Economic inequality increased after the corona epidemic) एक भारतीय कहावत है कि ‘ महामारी कोई भेदभाव नहीं करती,वह अमीर-गरीब सबको अपना शिकार बनाती है ‘ लेकिन कोरोनावायरस के मामले में वैश्विक अर्थव्यवस्था के मंच पर यह कहावत पूरी तरह अनावृत्त होकर रह गई है। इस कोरोना वायरस द्वारा फैली बीमारी ने कुछ …

Read More »

कोविड-19 से मौतों पर डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट पर चिंताजनक रवैया मोदी सरकार का

the prime minister, shri narendra modi addressing at the constitution day celebrations, at parliament house, in new delhi on november 26, 2021. (photo pib)

न्यूजक्लिक के संपादक प्रबीर पुरकायस्थ (Newsclick editor Prabir Purkayastha) अपनी इस टिप्पणी में बता रहे हैं कि मुद्रास्फीति से लेकर कोविड-19 से मौतों तक मोदी सरकार के सामने विश्वसनीयता का संकट है। लेकिन भारत की साख के लिए यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि वह डब्ल्यूएचओ के 194 सदस्य देशों में अकेला ऐसा देश है, जिसने इस वैश्विक स्वास्थ्य संगठन की …

Read More »

बहुजन राजनीति को चाहिए एक नया रेडिकल विकल्प

kanshi ram's bahujan politics vs dr. ambedkar's politics

Bahujan politics needs a new radical alternative भारत में दलित राजनीति के जनक डॉ अंबेडकर (Dr. Ambedkar, the father of Dalit politics in India) डॉ अंबेडकर दलित राजनीति के जनक माने जाते हैं। उन्होंने ने ही गोलमेज कांफ्रेंसों में दलितों को राजनीतिक अधिकार दिए जाने की मांग उठाई तथा गांधी जी के कड़े विरोध के बावजूद दलितों को हिंदुओं से …

Read More »

फिलिस्तीन की शिरीन अबू अक्लेह की हत्या : निशाने पर निर्भीक पत्रकारिता

press freedom

Shireen Abu Akleh’s killing: fearless journalism on target गोलू-मोलू मीडिया से इतर वाली पत्रकारिता से जुड़ी तीन खबरें आयी हैं। 11 मई को फिलिस्तीन के जेनिन शहर में इजरायली फौजों द्वारा की जा रही जबरिया बेदखली को कवर कर रहीं अल जज़ीरा की वरिष्ठ और जानीमानी पत्रकार शिरीन अबू अक्लेह को गोली मार दी गयी (Shireen Abu Akleh: Al Jazeera …

Read More »

भगवतीचरण वोहरा : भगत सिंह के साथी, जिन्हें भुला दिया गया

bhagwati charan vohra

Biography of Bhagwati Charan Vohra in Hindi स्वतंत्रता सेनानी और क्रांतिकारी भगवतीचरण वोहरा के शहादत दिवस पर (On the martyrdom day of freedom fighter and revolutionary Bhagwati Charan Vohra) भगत सिंह के महत्वपूर्ण साथी भगवतीचरण वोहरा का जन्म 4 नवंबर, 1903 को लाहौर में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। वे एक गुजराती ब्राह्मण थे। उनके पिता पंडित शिवचरण …

Read More »

मनासा में “जागे हिन्दू” ने एक जैन हमेशा के लिए सुलाया

badal saroj

कथित रूप से सोये हुए “हिन्दू” को जगाने के “कष्टसाध्य” काम में लगे भक्त और उनके विषगुरु खुश तो बहुत होंगे आज? जिस हिन्दू को जगाने के काम में पूरा कुल कुटुंब लगा हुआ था वह अब जाग चुका है। कहते हैं हजारों साल बाद जागा है तो अब जगार की खबर दुनिया तक पहुंचा कर ही मानेगा। इतना ज्यादा …

Read More »

पर्यावरण के प्रति गांधी जी की प्रतिबद्धता और उनके सिद्धांत : दो शब्द

Mahatma Gandhi महात्मा गांधी

गाँधी जी का पर्यावरण चिंतन (Gandhiji’s Thinking On Environment) Gandhi’s commitment to the environment and his principles जिस प्रकार भौतिक विज्ञान के विश्वविख्यात वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने आज से ठीक 117 वर्षों पूर्व वर्ष 1905 में अपना सुप्रसिद्ध सापेक्षता का सिद्धांत (theory of relativity) प्रतिपादित किए थे,और आज वह सिद्धांत वर्तमान वैज्ञानिकों द्वारा बिल्कुल सही साबित हो रहा है,ठीक उसी …

Read More »

इस रात की सुबह नहीं! : गुलामी के प्रतीकों की मुक्ति का आन्दोलन !

opinion, debate

There is no end to this night! Movement for the liberation of the symbols of slavery! 16 मई को ज्यों ही वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में शिवलिंग मिलने की जानकारी (Information about getting Shivling in Gyanvapi Masjid premises of Varanasi) प्रकाश में आई हर-हर महादेव के उद्घोष से वहां की सड़कें – गलियां गूंज उठीं, जिसकी अनुगूँज पूरे देश …

Read More »

अवसरवादी नेताओं की पहचान करने में विफल क्यों हो जाती है कांग्रेस?

congress should identify opportunistic leaders

अवसरवादी नेताओं की पहचान करे कांग्रेस (Congress should identify opportunistic leaders) देशबन्धु में संपादकीय आज (Editorial in Deshbandhu today) हिमाचल प्रदेश और गुजरात में विधानसभा चुनाव अगले कुछ महीनों में हैं। चुनावों में बार-बार हार का सामना करने वाली कांग्रेस इस बार अपना दम-खम दिखाना चाहती है। इसलिए उदयपुर में कांग्रेस चिंतन शिविर (Congress Chintan Shivir in Udaipur) से लेकर …

Read More »

सोनिया गांधी के नाम खुला पत्र

Sonia Gandhi at Bharat Bachao Rally

Open letter to Congress President Sonia Gandhi कांग्रेस चिंतन शिविर और कांग्रेस का संकट (Congress Chintan Shivir and the crisis of Congress) कांग्रेस कौन से मुद्दे जनता के बीच लेकर जाएगी, क्या चिंतन शिविर में इस पर कोई विचार किया गया? कांग्रेस के पक्ष में किस तरह माहौल बनाया जाएगा? भाजपा की कमियों पर मौखिक आलोचना का कोई अर्थ नहीं …

Read More »

कांग्रेस चिंतन शिविर : राहुल राजनीतिक समझदारी से एक बार फिर दूर दिखे

Police lathi-charge on Rahul Gandhi convoy

कांग्रेस चिंतन शिविर और राहुल गांधी का संकट क्या देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस (Country’s oldest party Congress) में अपने अतीत की गलतियों से सबक लेने की तमीज और निराशा से उबरने की इच्छा शक्ति है? क्या कांग्रेस ने गठबंधन की राजनीति को नकार दिया है ? क्या राहुल गांधी फिर एक बार अपरिपक्व नेता साबित हुए हैं?  चर्चा …

Read More »

हिन्दी की कब्र पर खड़ा है आरएसएस!

jagdishwar chaturvedi

RSS stands at the grave of Hindi! आरएसएस के हिन्दी बटुक अहर्निश हिन्दी-हिन्दी कहते नहीं अघाते। वे हिन्दी –हिन्दी क्यों करते हैं ॽ यह मैं आज तक नहीं समझ पाया। इन लोगों के हिन्दीप्रेम का आलम है कि ये अभी तक इंटरनेट पर रोमनलिपि में हिन्दी लिखते हैं। मेरे अनेक दोस्त हैं जो रोमनलिपि में हिन्दी लिखते हैं, मेरी उनसे …

Read More »

कश्मीरी पंडितों की हत्या : भाजपा की नाकाम कश्मीर नीति

killing of kashmiri pandits, bjp's failed kashmir policy,

Killing of Kashmiri Pandits: BJP’s failed Kashmir policy कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या पर संपादकीय टिप्पणी | देशबन्धु में संपादकीय आज (Editorial in Deshbandhu today) कश्मीर में हालत (condition in Kashmir) बहुत खराब है। कश्मीरी पंडितों की कोई सुरक्षा (Security of Kashmiri Pandits) नहीं है। कश्मीरी पंडितों को बलि का बकरा बनाया जा रहा है… ये अल्फाज किसी विपक्षी …

Read More »

पहले उन्होंने मुसलमानों को निशाना बनाया अब निशाने पर आदिवासी और दलित हैं

badal saroj

कॉरपोरेटी मुनाफे के यज्ञ कुंड में आहुति देते मनु के हाथों स्वाहा होते आदिवासी First they targeted Muslims, now the target is Adivasis and Dalits दो तथा तीन मई 2022 की दरमियानी रात मध्य प्रदेश के सिवनी जिले के गाँव सिमरिया (Village Simaria in Seoni district of Madhya Pradesh) में जो हुआ वह भयानक था। बाहर से गाड़ियों में लदकर …

Read More »

साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए ज्ञानवापी मस्जिद का मुद्दा

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

हिन्दी में डॉ. राम पुनियानी का लेख- ज्ञानवापी मस्जिद – क्यों उखाड़े जा रहे हैं गड़े मुर्दे? Dr. Ram Puniyani’s article in Hindi – Gyanvapi Masjid: Why are the dead bodies being uprooted? मीडिया में इन दिनों (मई 2022) ज्ञानवापी मस्जिद चर्चा में है. राखी सिंह और अन्यों ने एक अदालत में प्रकरण दायर कर मांग की है कि उन्हें …

Read More »

जानिए दुनिया क्या डॉलर की ग़ुलाम है?

is the world a slave to the dollar

Is the world a slave to the dollar? वर्तमान हालत यह है कि वित्तीय बाजार की पूरी दुनिया पर डॉलर का दबदबा है। वित्तीय बाजार लंदन, न्यूयॉर्क से नियंत्रित हो रहा है लेकिन दुनिया के उत्पादन श्रृंखला पर अमेरिका का दबदबा नहीं है। रूस अपना ही पैसा इस्तेमाल नहीं कर सकता ! ढाई महीने से ज्यादा हो चुके रूस और …

Read More »

लघु पत्रिकाएँ : वैकल्पिक पत्रकारिता का स्वप्न

press freedom

वैकल्पिक मीडिया की आवश्यकता क्यों है? Small Magazines: The Dream of Alternative Journalism दिनेशपुर, उत्तराखंड में अखिल भारतीय लघु पत्र-पत्रिका सम्मेलन (All India Small Paper-Magazine Conference at Dineshpur, Uttarakhand) का आयोजन हो रहा है। कुछ समय पूर्व पलाश विश्वास ने पत्रकारिता और साहित्य के संपादन संबधों की चर्चा की थी जिसमें मूल बात यह थी कि रघुवीर सहाय और सव्यसाची …

Read More »