Breaking News
Home / हस्तक्षेप / आपकी नज़र / मोदी को बधाई हो ! ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री बंदी के कगार पर, अर्थव्यवस्था चौपट
Narendra Modi An important message to the nation

मोदी को बधाई हो ! ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री बंदी के कगार पर, अर्थव्यवस्था चौपट

पीएम मोदी की कृपा से राम युग में (कारखाने बंद) लौट रहा है भारत ! अभी कारखाने बंद हो रहे हैं! ऑटोमोबाइल बंदी के कगार पर है। मनमोहन सिंह रामयुग में नहीं जाने दिए और 2007-08 में रामयुग में जाते-जाते देश को धकेल दिया, पीएम मोदी को बधाई हो ! इसी तरह काम करें सभी कल कारखाने बंद करा दें! बड़ा प्रदूषण फैला हुआ है। भक्तों को निरस्त्र न रखें और समाज को भी हथियारबंद करा दें, मोदी भक्त सशस्त्र सुंदर लगते हैं!

पढ़ें राम युग की खबर-

अंग्रेजी अखबार इकनॉमिक टाइम्स (English newspaper Economic Times) ने ऑटोमोटिव कॉम्पोनेंट्स मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया, Automotive Components Manufacturers Association of India, (ACMA) के डायरेक्टर जनरल विनी मेहता के हवाले से बताया कि बीते कुछ महीनों में गाड़ियों के कलपुर्जे बनाने वाली कंपनियों में एक लाख लोगों की नौकरियां गई हैं। उनके मुताबिक, अगर यह ट्रेंड जारी रहा तो अगले 3 से 4 महीनों में 10 लाख लोगों की नौकरियां जा सकती हैं।

रिक्रूटमेंट कंपनी Xpheno और टीमलीज को अंदेशा है कि आने वाली तिमाही में 5 लाख लोगों की नौकरियां जा सकती हैं।

टीमलीज सर्विसेज की को फाउंडर रितुपर्णा चक्रवर्ती ने बताया कि प्रमुख मैन्युफैक्चरिंग हब में तो नौकरियां जा ही रही हैं, बल्कि हर कंपनी में कम से कम 10 प्रतिशत छंटनी हो रही है।

मेहता के मुताबिक, सबसे ज्यादा नुकसान 400 करोड़ रुपये सालाना से कम टर्नओवर वाली कंपनियों को पहुंचा है।

उन्होंने बताया कि इस सेक्टर में करीब 50 लाख लोगों के पास नौकरियां हैं और यहां से करीब 15 बिलियन डॉलर के कलपुर्जे का निर्यात होता है। कुशल कामगार और कॉन्ट्रैक्ट पर काम करने वाले लोगों, दोनों की ही नौकरियां गई हैं।

जगदीश्वर चतुर्वेदी

Congratulations to Modi! Automobile industry on the verge of closure, economy collapsed

About जगदीश्वर चतुर्वेदी

जगदीश्वर चतुर्वेदी। लेखक कोलकाता विश्वविद्यालय के अवकाशप्राप्त प्रोफेसर व जवाहर लाल नेहरूविश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। वे हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

Check Also

Ram Puniyani राम पुनियानी, लेखक आई.आई.टी. मुंबई में पढ़ाते थे और सन् 2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं।)

जिन्होंने कानूनों का मखौल बनाते हुए मस्जिद गिराई, उनकी इच्छा पूरी की उच्चतम न्यायालय ने ?

जिन्होंने कानूनों का मखौल बनाते हुए मस्जिद गिराई, उनकी इच्छा पूरी की उच्चतम न्यायालय ने …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: