Breaking News
Home / अल्पसंख्यकों के अधिकारों की मांग करना भारत के संविधान को मजबूत करना है

अल्पसंख्यकों के अधिकारों की मांग करना भारत के संविधान को मजबूत करना है

अल्पसंख्यकों के अधिकारों की मांग करना भारत के संविधान को मजबूत करना है

Demand for the rights of minorities is to strengthen the Constitution of India

अल्पसंख्यकों के अधिकार संवैधानिक भी हैं और न्यायसंगत भी

मुजाहिद नफ़ीस

यह भारत में एक अजीब विडंबना है। जब अल्पसंख्यक समुदाय का कोई व्यक्ति अल्पसंख्यकों के संवैधानिक अधिकारों के लिए अपनी आवाज़ उठाता है, तो उसे कट्टरपंथी या कट्टरपंथी होने की दिशा के लिए आसानी से दोषी ठहराया जाता है। साथ ही, अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति समुदाय का कोई व्यक्ति जब अपने अधिकार के लिए आवाज़ उठाता है तो उसके साहस और भेदभाव के खिलाफ बोलने के लिए सराहना की जाती है। उनके तर्क आसानी से अस्वीकार नहीं किए जाते हैं। समाज का एक वर्ग उनके साथ खड़ा भी होता है। इसको उनकी ओर से संविधान को मजबूत बनाने के रूप में लिया जाता है। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में, भारत में इस तरह का दोहरा दृष्टिकोण कहाँ तक न्यायसंगत है?

The rights of minorities in Gujarat

गुजरात में अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए काम करते हुए हमने पाया है कि गुजरात में अल्पसंख्यकों की शिकायतों के लिए कोई निवारण तंत्र नहीं है। यहां तक कि अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए विभाग भी नहीं है। क्या, अल्पसंख्यकों की आवाज़ उठाना गलत है, जो विकास और संरक्षण के विभिन्न पहलुओं से वंचित हैं?

हमारा संविधान धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यकों, अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और पिछड़े वर्गों की बात करता है और उनके लिए विशेष प्रकृति के प्रावधान बनाने की व्यवस्था भी करता है।

अल्पसंख्यकों को अधिकार प्रदान करने वाले संविधान के विभिन्न अनुच्छेद  स्पष्ट रूप से और मजबूती से केवल एक दिशा को इंगित करते हैं: कि बहु-धार्मिक, बहु-सांस्कृतिक, बहुभाषी और बहु-नस्लीय भारतीय समाज की  जो राष्ट्रीय एकीकरण और सांप्रदायिक सद्भाव के धागे से एक सहज रूप में जुड़ा हुआ है।

संविधान अल्पसंख्यकों के अधिकारों को दो भागों में प्रदान करता है जिन्हें 'सामान्य अनुक्षेत्र'  Common domain और 'अलग अनुक्षेत्र'  Seprate domain में रखा जा सकता है।

'सामान्य अनुक्षेत्र ' में आने वाले अधिकार वे हैं जो हमारे देश के सभी नागरिकों पर लागू होते हैं। 'अलग अनुक्षेत्र ' में आने वाले अधिकार केवल वे अल्पसंख्यकों के लिए लागू होते हैं और ये उनकी पहचान की रक्षा के लिए आरक्षित हैं।

संविधान ने भाग III में मौलिक अधिकारों के प्रावधान किए हैं, जिसे राज्य को पालन करना है और ये भी न्यायिक रूप से लागू करने के योग्य हैं।

'सामान्य अनुक्षेत्र ' में, निम्नलिखित मौलिक अधिकार और स्वतंत्रताएं शामिल हैं:

  1. विधि के समक्ष समता भारत के राज्यक्षेत्र में किसी व्यक्ति को विधि के समक्ष समता से या विधियों के समान संरक्षण से वंचित नहीं करेगा। (अनुच्छेद 14)
  2. राज्य, किसी नागरिक के विरुद्ध के केवल धर्म, मूलवंश, जाति, लिंग, जन्मस्थान या इनमें से किसी के आधार पर कोई विभेद नहीं करेगा। (अनुच्छेद 15 {1,2})
  3. 'नागरिकों के किसी भी सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े वर्गों के उन्नयन के लिए कोई विशेष प्रावधान' (अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अलावा) बनाने के लिए राज्य को अधिकार है; (अनुच्छेद 15 {4})
  4. लोक नियोजन के विषय में अवसर की समता–(1) राज्य के अधीन किसी पद पर नियोजन या नियुक्ति से संबंधित विषयों में सभी नागरिकों के लिए अवसर की समता होगी। (अनुच्छेद 16 {1})
  5. राज्य के अधीन किसी नियोजन या पद के संबंध में केवल धर्म, मूलवंश, जाति, लिंग, उद्भव, जन्मस्थान, निवास या इनमें से किसी के आधार पर न तो कोई नागरिक अपात्र होगा और न उससे विभेद किया जाएगा। (अनुच्छेद 16 {2})
  6. नागरिकों के किसी पिछड़े वर्ग के पक्ष में नियुक्तियों या पदों के आरक्षण के लिए कोई प्रावधान करना, जो कि राज्य की राय में राज्य के तहत सेवाओं में पर्याप्त रूप से प्रतिनिधित्व नहीं किया जाता है के लिए राज्य को अधिकार है; (अनुच्छेद 16 {4})
  7. सभी व्यक्तियों को अंतःकरण की स्वतंत्रता का और धर्म के अबाध रूप से मानने, आचरण करने और प्रचार करने का समान हक होगा, सार्वजनिक आदेश, नैतिकता और अन्य मौलिक अधिकारों के अधीन; (अनुच्छेद 25 (1))
  8. धार्मिक और धर्मार्थ उद्देश्यों के लिए संस्थानों की स्थापना और रखरखाव, 'धर्म के मामलों में अपने मामलों का प्रबंधन', और खुद को चलाने योग्य और अचल संपत्ति प्राप्त करने के लिए 'हर धार्मिक संप्रदाय या उसके किसी भी खंड – सार्वजनिक आदेश, नैतिकता और स्वास्थ्य के अधीन) इसे 'कानून के अनुसार' ; (अनुच्छेद 26)
  9. किसी भी व्यक्ति को किसी भी विशेष धर्म के प्रचार के लिए कर चुकाने के लिए मजबूर करने के खिलाफ प्रतिबंध; (अनुच्छेद 27)
  10. राज्यनिधि से पूर्णतः पोषित किसी शिक्षा संस्था में कोई धार्मिक शिक्षा नहीं दी जाएगी। (अनुच्छेद 28)

संविधान में प्रदान की गई अल्पसंख्यकों के अधिकार Rights of Minorities जो 'अलग अनुक्षेत्र'  Seprate domain की श्रेणी में आते हैं, निम्नानुसार हैं:

  1. अल्पसंख्यकवर्गों के हितों का संरक्षण भारत के राज्यक्षेत्र या उसके किसी भाग के निवासी नागरिकों के किसी अनुभाग को, जिसकी अपनी विशेष भाषा, लिपि या संस्कृति है, उसे बनाए रखने का अधिकार होगा। (अनुच्छेद 29 {1})
  2. राज्य द्वारा पोषित या राज्यनिधि से सहायता पाने वाली किसी शिक्षा संस्था में प्रवेश से किसी भी नागरिक को केवल धर्म, मूलवंश, जाति, भाषा या इनमें से किसी के आधार पर वंचित नहीं किया जाएगा। अनुच्छेद 29 {2})
  3. शिक्षा संस्थाओं की स्थापना और प्रशासन करने का अल्पसंख्यकवर्गों का अधिकार धर्म या भाषा पर आधारित सभी अल्पसंख्यकवर्र्गों को अपनी रुचि की शिक्षा संस्थाओं की स्थापना और प्रशासन का अधिकार होगा। अनुच्छेद 30{1})
  4. शिक्षा संस्थाओं को सहायता देने में राज्य किसी शिक्षा संस्था के विरुद्ध इस आधार पर विभेद नहीं करेगा कि वह धर्म या भाषा पर आधारित किसी अल्पसंख्यकवर्ग के प्रबंध में है। अनुच्छेद 30 {2})
  5. किसी राज्य की जनसंख्‍या के किसी अनुभाग द्वारा बोली जाने वाली भाषा के संबंध में विशेष उपबंध; (अनुच्छेद 347)
  6. प्राथमिक स्तर पर मातृभाषा में शिक्षा की सुविधाओं के प्रावधान; [अनुच्छेद 350 (क)]
  7. भाषाई अल्पसंख्यकों और उनके कर्तव्यों के लिए एक विशेष अधिकारी के लिए प्रावधान; और (अनुच्छेद 350 ब)
  8. कृपाण धारण करना और लेकर चलना सिक्ख धर्म के मानने का अंग समझा जाएगा। (अनुच्छेद 25 का स्पष्टीकरण 1)

भाग IV में अधिकारों का एक और सेट है, जो लोगों के सामाजिक और आर्थिक अधिकारों से जुड़े हुए हैं। इन अधिकारों को 'राज्य नीति के निर्देशक सिद्धांत' के रूप में जाना जाता है, जो राज्य पर बाध्यकारी नहीं हैं पर इसमें अल्पसंख्यकों के लिए महत्वपूर्ण प्रभाव वाले निम्नलिखित प्रावधान शामिल हैं: –

  1. "देश के शासन में मौलिक और कानून बनाने में इन सिद्धांतों को लागू करने के लिए राज्य का कर्तव्य होगा"। (अनुच्छेद 37)।
  2. अलग-अलग क्षेत्रों में रहने वाले लोगों या विभिन्न व्यवसायों में रहने वाले लोगों के समूहों और समूहों के बीच स्थिति, सुविधाओं और अवसरों में असमानताओं को खत्म करने का प्रयास करने के लिए राज्य का दायित्व; [अनुच्छेद 38 (2)]
  3. 'समाज के कमजोर वर्गों' (अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अलावा) के शैक्षणिक और आर्थिक हितों को विशेष देखभाल के साथ बढ़ावा देने के लिए राज्य का दायित्व; (अनुच्छेद 46)

अनुच्छेद 51 अ में दिए गए मौलिक कर्तव्यों से संबंधित संविधान का भाग IVA जो सभी नागरिकों के लिए लागू होता है। अनुच्छेद 51 अ जो अल्पसंख्यकों के लिए विशेष प्रासंगिक है, निम्नानुसार है: –

  1. भारत के सभी लोगों में समरसता और समान भ्रातृत्व की भावना का निर्माण करे जो धर्म, भाषा और प्रदेश या वर्ग पर आधारित सभी भेदभाव से परे हो, (अनुच्छेद 51 ए (ङ))
  2. हमारी सामासिक संस्कृति की गौरवशाली परंपरा का महत्व समझे और उसका परिरक्षण करे; (अनुच्छेद 51 अ (च))

जब हम गुजरात में अल्पसंख्यकों की स्थिति देखते हैं तो हमने पाते हैं कि संविधान के सभी प्रावधानों का उल्लंघन हो रहा है। गुजरात में अल्पसंख्यक मामलों के लिए कोई अलग मंत्रालय नहीं है, राज्य के बजट में अल्पसंख्यकों के उत्थान के लिए कोई बजट आवंटन नहीं है, न ही भारत सरकार की योजनाओं का अमलीकरण। गुजरात में अल्पसंख्यकों की शिकायतों के निवारण के लिए अल्पसंख्यक आयोग भी नहीं है।

Minority population in Gujarat

गुजरात में अल्पसंख्यकों की जनसंख्या 11.5% (2011 के अनुसार) है। गुजरात में अल्पसंख्यक समुदाय मुस्लिम, ईसाई, सिख बौद्ध, यहूदी, पारसी और जैन शामिल हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, 18 दिसंबर 1992 को, संयुक्त राष्ट्र ने अपनी 92 वीं पूर्ण बैठक में राष्ट्रीय या जातीय, धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यकों से संबंधित व्यक्तियों के अधिकार घोषित किए। इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय अल्पसंख्यक अधिकार दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। सदस्य देशों में अल्पसंख्यकों के विकास और संरक्षण को विशेष जोर दिया गया है।  1992 में, संसद ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग अधिनियम पारित किया और इसे 1993 में लागू किया गया। इस कमीशन का प्राथमिक कार्य अल्पसंख्यकों के विकास और संरक्षण के लिए भारत सरकार को सुझाव देना है। आयोग के पास अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित मुद्दों का समाधान करने के लिए सिविल कोर्ट में सुनवाई करने की शक्ति है। यूनिट नेशंस भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुआयामी सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) के लक्ष्य संख्या 10, कम असमानताओं और लक्ष्य संख्या 16 शांति न्याय और मजबूत संस्थानों पर काम करता है। भारत ने 2030 तक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए लक्ष्य पूरा करने के लिए प्रतिबद्धता भी बताई है।

Minorities demands in Gujarat

गुजरात में अल्पसंख्यकों की मांगें हैं

  1. राज्य में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय (विभाग) की स्थापना की जाए।
  2. राज्य के बजट में अल्पसंख्यक समुदाय के विकास के लिए ठोस आबंटन किया जाए।
  3. राज्य में अल्पसंख्यक आयोग का गठन किया जाए व इसको संवेधानिक मजबूती का विधेयक विधानसभा में पास किया जाए।
  4. राज्य के अल्पसंख्यक बहुल विस्तारों में कक्षा 12 तक के सरकारी स्कूल खोले जाएँ।
  5. मदरसा डिग्री को गुजरात बोर्ड के समकक्ष मान्यता दी जाए।
  6. अल्पसंख्यक समुदाय के उत्थान के लिए विशेष आर्थिक पैकेज दिया जाए।
  7. सांप्रदायिक हिंसा से विस्थापित हुए लोगों के पुनर्स्थापन के लिए सरकार नीति बनाये।
  8. प्रधानमंत्री के नया 15 सूत्रीय कार्यक्रम का सम्पूर्ण रूप से अमलीकरण किया जाए।

(लेखक माइनॉरिटी कोआर्डिनेशन कमेटी, गुजरात के कन्वीनर हैं।)

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

<iframe width="1347" height="489" src="https://www.youtube.com/embed/HqTLqhrqBsA" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

 

About हस्तक्षेप

Check Also

Liver cancer

कैंसर रोगियों के लिए इलाज में सहायक है पीआईपीएसी

What is Pressurized intra peritoneal aerosol chemotherapy नई दिल्ली: “पीआईपीएसी (PIPAC) कैंसर के उपचार (cancer …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: