देशराजनीतिराज्यों सेलोकसभा चुनाव 2019समाचार

पैंथर्स की सरकार से सीमा पर रहने वालों को सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग

Prof. Bhim Singh Jammu-Kashmir National Panthers Party जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी के मुख्य संरक्षक प्रो.भीमसिंह

जम्मू, 08 अप्रैल, 2019. पैंथर्स सुप्रीमो एवं जम्मू-पुंछ लोकसभा क्षेत्र (Jammu-Poonch Lok Sabha constituency) से उम्मीदवार प्रो. भीम सिंह ने यहां से कांग्रेस, नेशनल कांफ्रेंस और भाजपा के पूर्व सांसद एवं विधायकों से व्यक्तिगत रूप से स्पष्टीकरण मांगते हुए उनसे पूछा कि उन्होंने 20 विधानसभा क्षेत्रों के पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले गरीबों, उपेक्षित किसानों और आदि कमजोर वर्गों के कल्याण के लिए 1951 से लेकर आज तक क्या किया है।

यहां 20 विधानसभा क्षेत्रों के पहाड़ी और सीमावर्ती क्षेत्रों में चुनाव अभियान के दौरान पैंथर्स नेताओं ने मुसलमानों, हिन्दुओं, सिखों, गुज्जर, बक्करवाल, गद्दियों, अनुसूचित जाति समुदाय को दयनीय स्थिति में देखा, जो आज भी बुनियादी ढांचे और विकास के संसाधनों के बिना जीवन बिताने को मजबूर हैं।

पैंथर्स नेता ने सरकार से सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को कोई वैकल्पिक रहने की जगह देने की मांग की, जिन्हें पाकिस्तान की तरफ से युद्धविराम की अवहेलना के कारण हर समय खतरा बना रहता है। प्रो भीम सिंह ने केन्द्र सरकार के इस गैरजिम्मेदाराना रवैये पर गुस्सा व्यक्त किया, जिसने सीमा पर रहने वालों को पांच मरला जमीन देने का वायदा पूरा नहीं किया, जिसकी घोषणा बारबार भाजपा और अन्य राजनीतिक दल अपने राजनीतिक लाभ को पूरा करने और सत्ता हासिल करने के लिए करते रहें हैं।

पैंथर्स पार्टी के लोकसभा उम्मीदवार प्रो भीमसिंह के साथ वरिष्ठ पैंथर्स नेता भी थे, जिन्होंने भारत-पाक सीमावर्ती गांवों, मढ़, दोमाना, नगरोट, परगवाल, कैम्प, गूल.गुजराल आदि में जनसभाओं और कार्यकर्ताओं को सम्बोधित किया और पैंथर्स उम्मीदवार को वोट देने की अपील की। उन्होंने यहां के लोगों को आश्वासन दिया कि पैंथर्स पार्टी हर व्यक्ति को न्याय, अधिकार दिलाने और हर दरवाजे तक विकास के लाभ पहुंचाने के लिए वचनबद्ध है।

पैंथर्स टीम में सुश्री अनीता ठाकुर, सुशील खन्ना, शंकरसिंह, सुरेन्द्र चौहान, राजीव महाजन, निर्मल किशोर, रामपाल शर्मा, नीरज गुप्ता, अनिल रकवाल, दिलावर खान, अमनदीप सिंह, पवनदीपसिंह एवं कुलदीप शर्मा आदि शामिल थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.