Breaking News
Home / समाचार / तकनीक व विज्ञान / आप भी ले रहे हैं डायट्री सप्लीमेंट्स, तो सावधान, ये खबर आपके काम की है
Health News

आप भी ले रहे हैं डायट्री सप्लीमेंट्स, तो सावधान, ये खबर आपके काम की है

क्या आपको डायट्री सप्लीमेंट्स की खुराक लेनी चाहिए? विटामिन, खनिज और वानस्पतिक (हर्बल्स) पर एक नज़र Should You Take Dietary Supplements? A Look at Vitamins, Minerals, Botanicals and More

जब आप विटामिन सी या मछली के तेल की गोलियां लेने चलते हैं, तो आपको आश्चर्य हो सकता है कि वे कितना अच्छा काम करेंगे और क्या इनका सेवन वे सुरक्षित है। इसमें सबसे पहले आपको अपने आप से पूछना चाहिए कि क्या आपको उनकी वास्तव में आवश्यकता है ?

सभी अमेरिकियों में से आधे से अधिक दिन में एक या एक से अधिक बार पूरक आहार लेते हैं। पूरक आहार डॉक्टर के पर्चे के बिना उपलब्ध हैं और आमतौर पर गोली, पाउडर या तरल रूप में आते हैं। आम सप्लीमेंट में विटामिन, खनिज और हर्बल उत्पाद शामिल हैं, जिन्हें वनस्पति के रूप में भी जाना जाता है।

Dietary Supplements: What You Need To Know

लोग यह सुनिश्चित करने के लिए इन पूरक आहार का सेवन करते हैं कि उन्हें पर्याप्त आवश्यक पोषक तत्व मिलें और अपने स्वास्थ्य को बनाए रखें या सुधारें। लेकिन सभी को सप्लीमेंट लेने की आवश्यकता नहीं होती है।

अमेरिका सरकार के स्वास्थ्य संस्थान एनआईएच के एक पंजीकृत आहार विशेषज्ञ और सलाहकार कैरोल हेगन्स कहते हैं, कि विविध प्रकार के भोजन करके आप सभी पोषक तत्वों को प्राप्त कर सकते हैं, इसलिए आपको पूरक आहार लेने की आवश्यकता नहीं है। वह कहते हैं कि, लेकिन पूरक आहार आपके आहार अंतराल को भरने के लिए उपयोगी हो सकते हैं।

डायट्री सप्लीमेंट्स के साइड इफेक्ट्स – Dietary supplements side effects in Hindi

कुछ डाइट्री सप्लीमेंट्स के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, खासकर तब जब सर्जरी से पहले या अन्य दवाओं के साथ इन्हें लिया जाए। कुछ खास स्वास्थ्य संबंधी परिस्थितियों में ये सप्लीमेंट्स समस्याएं पैदा कर सकते हैं। और सबसे बड़ी बात यह है कि कई पूरक आहारों के प्रभावों का बच्चों, गर्भवती महिलाओं और अन्य समूहों पर परीक्षण नहीं किया गया है। यदि आप पूरक आहार लेने के बारे में सोच रहे हैं तो अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता (डॉक्टर) से मशविरा करें।

एनआईएच के वनस्पति विज्ञान के विशेषज्ञ डॉ. क्रेग होप के मुताबिक,

“यदि आप डायट्री सप्लीमेंट्स लेने की सोच रहे हैं तो आपको अपने डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए ताकि आपकी देखभाल को एकीकृत और प्रबंधित किया जा सके कि आप अपनी खुराक को किस तरह से ले रहे हैं।”

डायट्री सप्लीमेंट्स दवा हैं या खाद्य पदार्थ Dietary supplements are medicines or foods

अमेरिका में डायट्री सप्लीमेंट्स को यू.एस. फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) द्वारा खाद्य पदार्थों के रूप में नियंत्रित किया जाता है, न कि दवाओं के रूप में।

डायट्री सप्लीमेंट्स के लेबल कुछ स्वास्थ्य लाभों का दावा कर सकते हैं, लेकिन दवाओं की तरह, ये किसी बीमारी का इलाज, उपचार या रोकथाम करने का दावा नहीं कर सकते हैं।

हॉप कहते हैं, “बहुत थोड़े से सबूत हैं कि कोई भी पूरक आहार किसी भी पुरानी बीमारी के क्रम को उलट सकता है,”, लेकिन “इस उम्मीद के साथ डायट्री सप्लीमेंट्स न लें।”

प्रमाण बताते हैं कि कुछ पूरक अलग-अलग तरीकों से स्वास्थ्य लाभ करा सकते हैं। सबसे लोकप्रिय पोषक तत्वों की खुराक मल्टीविटामिन, कैल्शियम और विटामिन बी, सी और डी हैं। कैल्शियम हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए काम करता है, और विटामिन डी शरीर को कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है। विटामिन सी और ई एंटीऑक्सिडेंट कण हैं जो कोशिका क्षति (cell damage) को रोकते हैं और स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद (maintain health) करते हैं।

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को आयरन की, और स्तनपान करने वाले शिशुओं को विटामिन डी आवश्यकता होती है। 400 माइक्रोग्राम प्रतिदिनफोलिक एसिड, चाहे सप्लीमेंट या फोर्टीफाइड भोजन से, सभी उम्र की सभी प्रसूता महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है।

विटामिन बी 12 तंत्रिका और रक्त कोशिकाओं को स्वस्थ रखता है। हैगनन्स कहते हैं कि “विटामिन बी 12 ज्यादातर मांस, मछली और डेयरी खाद्य पदार्थों से आता है, इसलिए शाकाहारी इसे पर्याप्त रूप से प्राप्त करने के लिए पूरक आहार लेने पर विचार कर सकते हैं।”

शोध बताते हैं कि मछली का तेल हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है। होप कहते हैं, विटामिन और खनिजों से नहीं ली गई खुराक में से, केवल “मछली के तेल के उपयोग” के लाभकारी होने के सबसे ज्यादा वैज्ञानिक सबूत हैं।

कुछ अन्य आम सप्लीमेंट्स के स्वास्थ्य प्रभावों के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है। इनमें ग्लूकोसामाइन (जोड़ों के दर्द के लिए) और हर्बल सप्लीमेंट्स जैसे कि इचिनेशिया (इम्यून हेल्थ) और फ्लैक्ससीड ऑइल (डाइजेस्टिव) अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

कई डायट्री सप्लीमेंट्स के हल्के साइड इफेक्ट्स होते हैं, लेकिन सावधानी बरतें। उदाहरण के तौर पर विटामिन के का उपयोग (Side effects of Vitamin K) रक्त पतले काम करने की क्षमता को कम करेगा, जबकि जिन्कगो से रक्त का पतलापन बढ़ सकता है। जड़ी बूटी सेंट जॉन पौधा का उपयोग कभी-कभी अवसाद, चिंता या तंत्रिका दर्द को कम करने के लिए किया जाता है, लेकिन यह कई दवाओं के असर को तेजी से कम कर सकता है – जैसे कि अवसादरोधी और जन्म नियंत्रण की गोलियाँ। यह उन्हें कम प्रभावी बनाती है।

सिर्फ इसलिए कि एक आहार पूरक को “प्राकृतिक” के रूप में प्रचारित किया जाता है, जरूरी नहीं कि इसका मतलब सुरक्षित हो। उदाहरण के लिए, जड़ी-बूटियाँ कॉम्फ्रे और कावा, यकृत को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकती हैं।

हैगन्स कहते हैं, कि विशेष रूप से जड़ी-बूटियों के लिए, साथ ही पोषक तत्वों के लिए भी सप्लीमेंट के केमिकल मेक अप को जानना महत्वपूर्ण है कि यह कैसे तैयार किया गया है और यह शरीर में कैसे काम करता है।

For vitamins and minerals, check the % Daily Value (DV)

हैगनन्स कहते हैं कि विटामिन और खनिजों के लिए, प्रत्येक पोषक तत्व के लिए % डेली वैल्यू (DV) की जांच करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आप बहुत अधिक तो नहीं ले रहे हैं। “यह DV और ऊपरी सीमा पर विचार करना महत्वपूर्ण है,” । कुछ सप्लीमेंट्स का अधिक सेवन बहुत हानिकारक हो सकता है।

वैज्ञानिकों को अभी भी आम विटामिन के बारे में बहुत कुछ अध्ययन करना है। हाल ही में हुए एक अध्ययन में विटामिन ई के बारे में अप्रत्याशित प्रमाण मिले हैं। पहले के शोध में बताया गया था कि जिन पुरुषों ने विटामिन ई की खुराक ली है, उनमें प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा कम हो सकता है। लेकिन एनआईएच के Office of Dietary Supplements के निदेशक डॉ. पॉल एम. कोट्स कहते हैं, कि आश्चर्यजनक रूप से 29000 पुरुषों पर किए गए एक अध्ययन, जिसे एनआईएच ने वित्तपोषित किया था, में सामने आया कि विटामिन ई के प्रयोग ने प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करने के बजाय बढ़ाया ही। यही कारण है कि डायट्री सप्लीमेंट्स के प्रभावों की पुष्टि करने के लिए डायट्री सप्लीमेंट्स का नैदानिक अध्ययन करना महत्वपूर्ण है।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।)

My Dietary Supplements in Hindi.

About हस्तक्षेप

Check Also

Morning Headlines

आज की बड़ी खबरें : मोदी ने कहा था गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान हो गया, पर चीनी मिलों पर किसानों का बकाया है 15,000 करोड़ रुपये

चालू चीनी वर्ष 2018-19 (अक्टूबर-सितंबर) में भारत तकरीबन 38 लाख टन चीनी का निर्यात कर …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: