दुनियादेशराज्यों सेसमाचारसामान्य ज्ञान/ जानकारीस्वास्थ्य

सोशल मीडिया पर होम्योपैथी का ज्ञान बांटेंगे डॉ. बत्रा

अंतर्राष्ट्रीय हुई डॉ. बत्रा की सोशल मीडिया सीरीज़ ‘अच्छा स्वास्थ्य और होमियोपैथी’

मुम्बई, June 11, 2019 – प्रतिष्ठित होमियोपैथ और पद्‌मश्री से सम्मानित – डॉ. मुकेश बत्रा (Dr. Mukesh Batra) द्वारा प्रारंभ की गई, ‘अच्छा स्वास्थ्य और होमियोपैथी’, एक नई प्रकार की तथा जानकारियों से भरपूर सोशल मीडिया सीरीज़ (Dr. Batra’s social media series on homeopathy) है, जिसका लक्ष्‍य वर्ष 2019 में 25 मिलियन लोगों तक पहुंचना है। शुरूआत के तीन महीनों में ही यह सीरीज़ 7 मिलियन लोगों तक पहुंच चुकी है। ब्रांड इस सीरीज़ को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दुबई, अबूधाबी, बहरीन और बांग्लादेश के एमईएनए क्षेत्र में लांच करेगी । खासतौर से भारतीय दर्शकों के लिए अच्छा स्वास्थ्य और होमियोपैथीसीरीज़ (‘Good Health & Homeopathy’ Series) का दूसरा सीज़न लांच किया जाएगा, जो 13 जून, 2019 से शुरू होगा। नए क्षेत्र और नए सीज़न का लक्ष्य 5.5 मिलियन अतिरिक्‍त लोगों तक पहुंचने का है।

संस्थान की एक विज्ञप्ति के मुताबिक चिकित्सा के क्षेत्र में 45 वर्षों से भी अधिक के अनुभव के आधार पर प्रचलित बीमारियों के इलाज हेतु पद्‌मश्री विजेता डॉ. मुकेश बत्रा द्वारा सावधानीपूर्वक संजोई गई महत्त्वपूर्ण अद्वितीय जानकारियों वाली इस सीरीज़ में चिकित्सा और होमियोपैथी का गहरा ज्ञान प्रदान किया गया है और सरल सुझाव, तथा महत्त्वपूर्ण जीवनशैली परिवर्तनों के उपाय बताए गए हैं। सीरीज़ का प्रसारण प्रत्येक गुरूवार को फेसबुक, टि्‌वटर, इंस्टाग्राम और यूट्‌यूब पर किया जाएगा और भारत व विदेशों में लोगों के जीवन को प्रभावित करने वाले अनेक रोगों के समाधान प्रस्तुत किए जाएंगे।

जागरूकता बढ़ाने के प्रयास के तहत, ‘अच्छा स्वास्थ्य और होमियोपैथी’ को हिंदी में भी उपलब्ध कराया जाएगा, जिससे 190 मिलियन दर्शकों को लाभ होगा।.

13th जून से प्रारंभ, ‘अच्छा स्वास्थ्य और होमियोपैथी सीजन 2’ में निम्न विषयों पर बात की जाएगीः

मुहांसों का फैलना (Acne spread) केवल त्वचा को ही नहीं, बल्कि मनोदशा को भी प्रभावित करता है। यह आत्महत्या के विचारों का भी प्रेरक बन सकता है।

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसआर्डर

Attention Deficit Hyperactivity Disorder (एडीएचडी) को प्रायः अभिभावकों द्वारा नज़रंदाज़ कर दिया जाता है और भूलवश इसे व्यवहार की समस्या समझ लिया जाता है।

एलोपेसिया एरेटा (Alopecia aratea),

पैच में बाल झड़ना, न केवल युवाओं को प्रभावित करता है बल्कि यह बहुत दु:खद भी हो सकता है क्योंकि इससे पूरे शरीर के सारे बाल भी झड़ सकते हैं।

दमा-बेचैनी (Asthma),

दमा का दूसरा पहलू है-यह इसका कारण भी होता है और परिणाम भी।

फूड एलर्जी – Food allergy

फूड एलर्जी वाले बच्चों के दमा या एक्जिमा से पीड़ित होने की संभावना 4 गुना अधिक होती है।

महिलाओं में बंध्यता- Infertility in women

मधुमेह और मोटापा, महिलाओं में बंध्तया उत्पन्न कर सकते हैं।

‘अच्छा स्वास्थ्य और होमियोपैथी’, के बारे में अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए डॉ. मुकेश बत्रा ने कहा,

“भारत में ‘अच्छा स्वास्थ्य और होमियोपैथी’ की सफलता को देखकर हम अत्यधिक उत्साहित हैं और इसे एमईएनए क्षेत्र में लोगों के लिए उपलब्ध कराने का निश्चय किया है जहां की संस्कृति, परंपराएं और आदतें काफी हद तक हमारे समान ही हैं। आने वाले सीज़न में हम अनेक नए रोगों के समाधान प्रस्तुत करेंगे जिनसे आमतौर पर लोग ग्रस्त होते हैं। प्रत्येक लाइक और शेयर के साथ हम खुशियों का संदेश दूर-दूर तक फैलाएंगे जो हमें कई देशों में बड़ी संख्या में लोगों के जीवन में सुखद बदलाव लाने में सक्षम बनाएगा।”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: