Breaking News
Home / समाचार / देश / भाजपा के “जुमलापत्र” से रोजगार, काला धन, नोटबंदी, जीएसटी गायब
Randeep Singh Surjewala

भाजपा के “जुमलापत्र” से रोजगार, काला धन, नोटबंदी, जीएसटी गायब

नई दिल्ली, 8 अप्रैल। लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के चुनावी घोषणापत्र (Bharatiya Janata Party election manifesto) पर हमला बोलते हुए कांग्रेस Congress ने कहा है कि रोजगार, जीएसटी, काला धन और नोटबंदी जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे इस पूरी प्रक्रिया से गायब हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और मंत्री अरुण जेटली व सुषमा स्वराज सहित भाजपा नेताओं ने इन मुद्दों पर एक शब्द नहीं बोला।

उन्होंने कहा कि भाजपा ने अपना बोरिया बिस्तर बांधना शुरू कर देना चाहिए क्योंकि लोग उसके झूठे वादों को नकार देंगे और उसे सत्ता से बाहर निकाल फेंकेंगे।

श्री सुरजेवाला ने पूछा कि जो वादे 2014 के घोषणापत्र में किए गए थे, उनका क्या हुआ।

उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा,

“आपने (भाजपा ने) हर साल दो करोड़ नौकरियों का वादा किया था, जिसका मतलब पांच साल में 10 करोड़ नौकरियां। वास्तव में इन पांच वर्षो के दौरान 4.7 करोड़ नौकरियां घट गई हैं। और, यह मैं नहीं कह रहा हूं बल्कि ऐसा राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन कह रहा है।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा ने 80 लाख करोड़ रुपये का काला धन वापस लाने और हर भारतीय के बैंक खाते में 15 लाख रुपये देने का वादा किया था जबकि वास्तव में ललित मोदी, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और विजय माल्या ने करदाताओं का एक लाख करोड़ रुपया लूटा और मोदी की नाक के नीचे से देश से भाग निकले।

उन्होंने सवाल किया कि भाजपा ने कैसे किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया है जबकि वर्तमान में कृषि विकास दर 2.9 प्रतिशत है, ऐसे में किसानों की आय दोगुनी होने में 28 साल लगेंगे।

सुरजेवाला ने कहा,

“मोदी ने भारत को एक आर्थिक शक्ति के रूप में बदलने का वादा किया था। लेकिन, पिछले पांच वर्षों में उन्होंने देश को कर्ज में दबा दिया है।”

उन्होंने कहा कि 2014 से 2018 के बीच भाजपा सरकार ने 27 लाख करोड़ रुपये का कर्ज लिया है।

Employment, black money, Demonetization, GST missing from BJP’s manifesto

About देशबन्धु Deshbandhu

Check Also

Jan Sahitya parv

संकीर्णता ने हिंदी साहित्य को बंजर और साम्यवाद को मध्यमवर्गीय बना दिया

संकीर्णता ने हिंदी साहित्य को बंजर और साम्यवाद को मध्यमवर्गीय बना दिया जयपुर, 16 नवंबर …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: