Home / समाचार / पं. जवाहर लाल नेहरू की वसीयत में गंगा महात्म्य

पं. जवाहर लाल नेहरू की वसीयत में गंगा महात्म्य

”मैंने सुबह की रोशनी में गंगा को मुस्कराते, उछलते-कूदते देखा है, और देखा है शाम के साये में उदास, काली सी चादर ओढ़े हुए, भेद भरी, जाड़ों में सिमटी-सी आहिस्ते-आहिस्ते बहती सुंदर धारा, और बरसात में दहाड़ती-गरजती हुई, समुद्र की तरह चौड़ा सीना लिए, और सागर को बरबाद करने की शक्ति लिए हुए। यही गंगा मेरे लिए निशानी है भारत की प्राचीनता की, यादगार की, जो बहती आई है वर्तमान तक और बहती चली जा रही है भविष्य के महासागर की ओर….

‘गंगा तो विशेषकर भारत की नदी है, जनता की प्रिय है, जिससे लिपटी हैं भारत की जातीय स्मृतियां, उसकी आशाएं और उसके भय उसके विजयगान, उसकी विजय और पराजय। गंगा तो भारत की प्राचीन सभ्यता का प्रतीक रही है, निशान रही है। सदा बदलती, सदा बहती, फिर भी वही गंगा की गंगा।”

-पं.जवाहर लाल नेहरू

(पं. जवाहर लाल नेहरू की वसीयत से.  )

प्रस्तुति – मधुवन दत्त चतुर्वेदी

Ganga Mahatmya in the Will of Pt. Jawaharlal Nehru

About हस्तक्षेप

Check Also

nelson mandela

अफ्रीका का गांधी : नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस

शिक्षा सबसे बड़ा हथियार है जिसका इस्तेमाल दुनिया को बदलने के लिए किया जा सकता है - नेल्सन मंडेला... 18 जुलाई - नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस, Nelson Mandela International Day

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: