Breaking News
Home / समाचार / तकनीक व विज्ञान / आप भी प्रयोग कर रहे हैं गूगल असिस्टेंट, तो जरा सावधान! आपके बेडरूम की बातचीत भी गुप्त रूप से सुनी जा रही है
Google

आप भी प्रयोग कर रहे हैं गूगल असिस्टेंट, तो जरा सावधान! आपके बेडरूम की बातचीत भी गुप्त रूप से सुनी जा रही है

नई
दिल्ली, 12 जुलाई। क्या आप भी टैक्नोलॉजी पर
अत्यधिक निर्भर हैं और रोज़मर्रा की चीज़ों के लिए गूगल असिस्टेंट (Google
Assistant
in Hindi) का प्रयोग कर रहे हैं तो जरा सावधान हो जाइए क्योंकि एक रिपोर्ट
में दावा किया गया है कि  गूगल के लिए काम करने वाले तीसरे पक्ष यानी
कॉन्ट्रैक्टर्स स्मार्टफोन,
होम स्पीकर और सुरक्षा कैमरों पर गूगल
असिस्टेंट के माध्यम से आपके बेडरूम की बातचीत को गुप्त रूप से सुन रहे हैं।

बेल्जियम
के ब्रॉडकास्टर वीआरटी एनडब्ल्यूएस (VRT NWS) एक नई रिपोर्ट
Google employees are
eavesdropping, even in your living room, VRT NWS has discovered
में दावा किया गया है कि इस तरह की
रिकॉर्डिग से उपभोक्ताओं की गोपनीयता पर गंभीर सवाल उठते हैं।

Why is
Google storing these recordings and why does it have employees listening to
them?

वीआरटी
एनडब्ल्यूएस के अनुसार, गूगल होम स्पीकर (Google smart speakers) के साथ उपभोक्ताओं की बातचीत रिकॉर्ड
की जा रही है और ऑडियो क्लिप सब-कॉन्ट्रैक्टर्स को भेजे जा रहे हैं, जो गूगल की स्पीच रिकगनिशन (Speech
recognition
) में सुधार के लिए ऑडियो फाइलों को बाद
में उपयोग करने के लिए ट्रांसक्रिप्ट कर रहे हैं।

एक
व्हिसिलब्लोअर की सहायता से वीआरटी एनडब्ल्यूएस गूगल असिस्टेंट (Google
Assistant)
के माध्यम से रिकॉर्ड किए गए एक हजार से अधिक अंशों को सुनने में सक्षम रहा।

VRT NWS ने एक हज़ार से अधिक अंश सुने, जिनमें से 153 ऐसे वार्तालाप थे, जिन्हें कभी दर्ज नहीं किया जाना चाहिए था और
जिसके दौरान ‘ओके गूगल’ कमांड (‘Okay Google’ command) स्पष्ट रूप से नहीं दी गई थी।

लेकिन
जैसे ही कोई आसपास के क्षेत्र में एक शब्द बोलता है, जो ‘ओके गूगल’ की तरह लगता है, Google होम रिकॉर्ड करना शुरू कर देता है।

इसका
मतलब यह है कि बहुत सारी बातचीत अनजाने में दर्ज की जाती हैं: बेडरूम की बातचीत, माता-पिता और उनके बच्चों के बीच बातचीत, लेकिन इससे बहुत सी निजी जानकारी वाले
वार्तालाप भी रिकॉर्ड हो जाते हैं।

गलत
रिकॉर्डिंग तब भी हो सकती है जब कोई अपने फोन पर गलत बटन दबाता है या अनजाने में
कोई कमांड देता है।

इस
रिपोर्ट में कहा गया है कि,

“इन रिकॉर्डिग में हम पता और संवेदनशील
जानकारी साफ सुन सकते हैं। इससे बातचीत में शामिल लोगों की पहचान करना और ऑडियो
रिकॉर्डिग से उसका मिलान करना आसान हो गया है।”

वीआरटी
की रिपोर्ट के मुताबिक,

“बहुत से पुरुषों ने पोर्न की खोज की, पति-पत्नी के बीच बहस, और यहां तक कि एक मामला जिसमें एक महिला
आपातकालीन स्थिति में थी। इन सभी बातों का पता हमें रिकॉर्डिग से चला।”

इससे
भी ज्यादा चिंताजनक बात यह है कि व्हिसलब्लोअर ने वीआरटी को जिस प्लेटफॉर्म को
दिखाया था, उसके पास पूरी दुनिया की रिकॉर्डिग
मौजूद थी।

अंतर्राष्ट्रीय
डेटा निगम (आईडीसी) के अनुसार भारत में, अमेजॅन
इको ने 2018 में 59 प्रतिशत शेयर के साथ भारतीय स्मार्ट स्पीकर बाजार का नेतृत्व किया, इसके बाद गूगल होम 39 प्रतिशत यूनिट शेयर के साथ मौजूद रहा।

देश में 2018 में कुल 753 हजार इकाइयां भेजी गईं। गूगल होम के मिनी व अन्य सभी स्मार्ट स्पीकर मॉडल बिक गए और वह एक शीर्ष विक्रेता के रूप में उभरा।



About हस्तक्षेप

Check Also

bru tribe issue Our citizens are refugees in our own country.jpg

कश्मीरी पंडितों के लिए टिसुआ बहाने वालों, शरणार्थी बने 40 हजार वैष्णव हिन्दू परिवारों की सुध कौन लेगा ?

इंदौर के 70 लोगों ने मिजोरम जाकर जाने 40 हजार शरणार्थियों के हाल – अपने …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: