राहुल के वार से डरे अमित शाह, देते फिर रहे सफाई

सवाल ये उठता है कि क्या इस रणनीति से शाह अपना किला बचाने में कामयाब हो पाएंगे या फिर इस बार उनका बेटा ही हार की वजह बन जाएगा ?...

एजेंसी
हाइलाइट्स

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपने बेटे जय शाह की कमाई के मुद्दे पर राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि मेरे बेटे ने अपने कारोबार में कुछ भी गलत नहीं किया है, बस कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ही कारोबार और मुनाफा में अंतर करना नहीं जानते।

डीबी लाइव

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह के मुद्दे पर मचा बवाल गुजरात विधानसभा में भाजपा का खेल बिगाड़ सकता है, जिससे कहीं ना कहीं कांग्रेस को फायदा होगा। ये बात भाजपा भी बखूबी जानती है, इसीलिए अमित शाह खुद इस मामले को शांत करने की जुगत में लगे हैं। शाह अपने बेटे को बचाने के लिए उल्टा कांग्रेस को ही घेरने की रणनीति तैयार कर रहे हैं, लेकिन सवाल ये उठता है कि क्या इस रणनीति से शाह अपना किला बचाने में कामयाब हो पाएंगे या फिर इस बार उनका बेटा ही हार की वजह बन जाएगा ?

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपने बेटे जय शाह की कमाई के मुद्दे पर राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि मेरे बेटे ने अपने कारोबार में कुछ भी गलत नहीं किया है, बस कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ही कारोबार और मुनाफा में अंतर करना नहीं जानते।

अमित शाह ने कहा कि मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन मेरे बारे में क्या कहता है। मुझे पता है कि जो लोग मुद्दा बना रहे हैं, उन्हें खुद नहीं पता कि कारोबार क्या होता है और मुनाफा क्या?

अमित शाह ने सीधे तौर पर कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा कि मेरा बेटा उपभोक्ता वस्तुओं का कारोबार करता है और उसमें घाटा हो सकता है। राहुल गांधी लेटर ऑफ क्रेडिट और ऋण के बीच अंतर नहीं जानते। जय को ऋण नहीं दिया गया था, बल्कि लेटर ऑफ क्रेडिट दिया गया था। उसने सरकार के साथ कोई कारोबार नहीं किया और सरकार से कोई जमीन नहीं ली और ठेकेदारों से उसका कोई संबंध नहीं है।

वेबसाइट पर मानहानि का केस करने के सवाल पर शाह ने कहा कि जय ने 100 करोड़ रुपये का आपराधिक मानहानि का मामला इसलिए दायर किया है, क्योंकि वह वैध तरीके से कारोबार कर रहे हैं।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।