मेरठ अग्निकांड में बेघर हुए परिवारों का सरकार पुनर्वास करे : माले

​​​​​​​CPI-ML demands adiquate compensation for affected families of Meerut's major fire breakout...

CPI-ML demands adiquate compensation for affected families of Meerut's major fire breakout

पार्टी के जांच दल ने घटनास्थल का दौरा किया

लखनऊ, 14 मार्च। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) की राज्य इकाई ने मेरठ के मछेरान मोहल्ले में हाल के अग्निकांड में बेघर हुए 200 से ऊपर गरीब व अल्पसंख्यक परिवारों के उचित पुनर्वास व आर्थिक सहायता की सरकार से मांग की है।

पार्टी राज्य सचिव सुधाकर यादव ने बुधवार को बताया कि माले का एक जांच दल मेरठ में हुई भयंकर आगजनी की घटना की जांच के लिए घटनास्थल पर गया। स्थानीय लोगों से घटना की जानकारी ली। अग्निकांड में 200 से ज्यादा घर पूरी तरह से जल गए। जले हुए घरों में ज्यादातर गरीब और पसमांदा मुस्लिम परिवार रहते थे, जो मेहनत-मजदूरी करके अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। पीड़ितों ने बताया कि पुलिस की उपस्थिति में अग्निकांड हुआ। असामाजिक तत्वों द्वारा घरों में आग लगाई गई, जिसमें धर्मस्थल भी पूरी तरह से जल गया। चमन व शबनम ने बताया कि हमने बेटी की शादी के लिए जो दहेज का सामान जोड़कर रखा था, वो सब जलकर राख हो गया। यही नहीं, स्थानीय नागरिकों के अनुसार, घटना को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश भी की गई। इसमें सत्तारूढ़ भाजपा से जुड़े एक नेता का नाम भी आया है, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

माले राज्य सचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी के राज में गरीबों व मजलूमों के घर जलाए जा रहे हैं। मेरठ की घटना सरकारी संवेदनहीनता को भी दर्शाती है। प्रशासन ने पीड़ितों के लिए पुनर्वास की कोई व्यवस्था अभी तक नहीं की है। पीड़ितों के सर पर छत भी नहीं रही। सरकार और जिला प्रशासन को तुरंत आवश्यक कदम उठाने चाहिए। साथ ही, अग्निकांड के दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करनी चाहिए। पार्टी के जांच दल में मेरठ के जिला प्रभारी प्रदीप कुमार एडवोकेट व अन्य नेता शामिल थे।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।