भारतरत्न प्रणव मुखर्जी की आजम खां के मुंह से ये तारीफ मुखर्जी और अमित शाह सुनना पसंद नहीं करेंगे !

उन्होंने आरएसएस के हेड क्वार्टर जाने की दावत कुबूल की थी, उसके बदले में आरएसएस को कुछ तो देना था। यह उसी का इनाम है।...

एजेंसी

लखनऊ/रामपुर, 27 जनवरी (एजेंसी)। पूर्व कांग्रेसी नेता व पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी Former President Pranab Mukherjee को भारत रत्न सम्मान Bharat Ratna Samman के लिए नामित किए जाने पर समाजवादी पार्टी Samajwadi Party के राष्ट्रीय महासचिव मोहम्मद आजम खां Mohammad Azam Khan ने कहा कि आरएसएस RSS की दावत कुबूलने के लिए उन्हें (पूर्व राष्ट्रपति) यह इनाम मिला है।

मीडिया से बातचीत में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारतरत्न दिए जाने के सवाल पर आजम खां ने कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है। उन्होंने आरएसएस के हेड क्वार्टर जाने की दावत कुबूल की थी, उसके बदले में आरएसएस को कुछ तो देना था। यह उसी का इनाम है।

उन्होंने कहा कि डॉ. मुखर्जी को जब भारतरत्न दिए जाने की सूचना मिली तो उन्होंने कहा था, "मैं नहीं जानता कि क्या मैं इसके लायक हूं।" शायद उन्हें भी यह समझ नहीं आया कि आखिर क्यों भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाली सरकार द्वारा उन्हें भारतरत्न मानने लगी है।

डॉ. मुखर्जी को यह सम्मान अमित शाह के बंगाल में पैर पसारने की कोशिश तो नहीं? इस सवाल पर आजम ने भाजपा अध्यक्ष को सलाह देते हुए कहा, "पैर जरूर पसारें, लेकिन यह ख्याल रखें कि नीचे तेजाब न हो।"

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।