योगीराज में फर्जी पुलिस एनकाउंटर से सहमे लोग, लिखा मुख्यमंत्री को खत - रिहाई मंच

लोगों को डर है कि कहीं फर्जी कहानी गढ़कर जेल में बंद उनके परिजनों को पुलिस द्वारा मार न दिया जाए।...

लखनऊ, 16 फरवरी 2018। उत्तर प्रदेश में अपराध नियंत्रण के नाम पर हो रहे फर्जी एनकांउटर से आशंकित-सशंकित लोग अब उच्च उधिकारियों को खत लिखने लगे हैं। लोगों को डर है कि कहीं फर्जी कहानी गढ़कर जेल में बंद उनके परिजनों को पुलिस द्वारा मार न दिया जाए।

रिहाई मंच द्वारा एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि आजमगढ़ निवासी हीरा लाल यादव पुत्र अक्षैबर यादव ग्राम सराय भादी, पोस्ट खरिहानी, थाना तरवा ने मुख्यमंत्री को खत लिखा है। उनके सगे भाई जामवंत यादव वर्तमान समय में न्यायिक अभिरक्षा में आजमगढ़ जिला जेल में बंद हैं।

वर्तमान समय में पुलिस द्वारा अपराध नियंत्रण के नाम पर जिस तरह से संगठित हत्याएं की जा रही हैं उसने लोगों के मन में खौफ पैदा कर दिया है। हीरालाल को यह भय है कि जेल से अदालत में पेशी के समय लाए और वापस ले जाए जाने के दौरान फर्जी कहानी गढ़कर पुलिस उनके भाई जामवंत यादव की हत्या कर सकती है।

मुख्यमंत्री को भेजे खत में उन्होंने लिखा है कि उन्हें ऐसी अफवाहें सुनने को मिल रही है कि जेल में निरुद्ध उनके भाई जामवंत यादव की हत्या की योजना बनायी जा रही है।

इससे पहले भी उनके छह वर्षीय मासूम पुत्र किसन उर्फ कृष्णा यादव की हत्या वर्ष 2016 में की जा चुकी है। इस प्रकरण में न्याय ना मिलने से पुलिस अधिकारियों के खिलाफ लिखा पढ़ी से वह पुलिस के निशाने पर अकसर रहते हैं। उन्होंने सरकार से अपने व उपने परिजनों की जान माल की सुरक्षा की गुहार लगाई है।

विज्ञप्ति में नत्थी पत्र निम्नवत् है -

 

सेवा में,                                                                                                दिनांक 12 फरवरी 2018

मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश शासन

लखनऊ, उत्तर प्रदेश।

महोदय,

विनम्र निवेदन है कि प्रार्थी हीरा लाल यादव पुत्र अक्षैबर यादव ग्राम सराय भादी, पोस्ट खरिहानी, थाना तरवा जिला आजमगढ़ का निवासी है। प्रार्थी का सगा भाई जामवंत यादव वर्तमान समय में न्यायिक अभिरक्षा में आजमगढ़ जिला जेल में बंद है जिन पर कुछ आपराधिक मुकदमें विचाराधीन हैं।

वर्तमान समय में पुलिस द्वारा अपराध नियंत्रण के नाम पर जिस तरह से संगठित हत्याएं की जा रही हैं उससे प्रार्थी के मन में यह भय व्याप्त है कि वह जेल से अदालत में पेशी के समय लाए और वापस ले जाए जाने के दौरान फर्जी कहानी गढ़कर मेरे भाई जामवंत यादव की हत्या कर सकती है। प्रार्थी को ऐसी अफवाहें सुनने को मिल रही है कि प्रार्थी के जेल में निरुद्ध भाई जामवंत यादव की हत्या की योजना बनायी जा रही है।

इससे पहिले भी प्रार्थी के छह वर्षीय मासूम पुत्र किसन उर्फ कृष्णा यादव की हत्या वर्ष 2016 में की जा चुकी है। इस प्रकरण में न्याय ना मिलने से पुलिस अधिकारियों के खिलाफ लिखा पढ़ी से प्रार्थी पुलिस के निशाने पर अकसर रहता है। इसलिए उसे संदेह है कि इस पत्र को भेजने के बाद उसे पुलिस परेशान कर सकती है। प्रार्थी के साथ अगर कोई अनहानी होती है तब इसकी जिम्मदारी जिला प्रशासन की होगी।

इसलिए विनम्र निवेदन है प्रकरण में समय रहते हस्तक्षेप करते हुए प्रार्थी व उसके परिवार सहित जेल में निरुद्ध भाई जामवंत यादव की सुरक्षा व्यवस्था की पुख्ता गारंटी की जाए।

प्रार्थी आजीवन आभारी रहेगा।

प्रार्थी

हीरा लाल यादव

निवासी उपरोक्त।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।