अफगानिस्तान में खदान धंसने से 40 लोगों की मौत

कोहिस्तान जिले के शिपो क्षेत्र में स्थानीय समयानुसार यह हादसा सुबह लगभग 10.30 बजे हुआ, जब 50 से ज्यादा लोग सोने की एक खदान में अवैध खनन कर रहे थे और लगभग सभी लोग उसमें जिंदा दफन हो गए...

एजेंसी

फैजाबाद (अफगानिस्तान), 6 जनवरी। अफगानिस्तान (Afghanistan) के उत्तर में स्थित बदख्शां प्रांत (Badakhshan Province) के कोहिस्तान जिले में रविवार को सोने की एक खदान (Gold mine) के धंस जाने की घटना में कम से कम 40 लोगों की मौत हो गई। सीएनएन के अनुसार, अफगानिस्तान संसद के सदस्य फौजिया कूफी ने एक बयान में कहा कि घटना में 10 अन्य लोग घायल भी हो गए हैं। ये सभी लोग सोने की तलाश कर रहे थे।

 

प्रांतीय अधिकारी नेक मोहम्मद नजरी ने कहा कि सभी पीड़ित खनिक थे।

 

इससे पहले की रपट में प्राकृतिक आपदा प्रबंधन प्राधिकरण - Natural disaster management authority (एनडीएमए) के प्रांतीय प्रमुख सईद अब्दुल्लाह हमायूं दहकान ने कहा था कि कोहिस्तान जिले (Kohistan district) में भूस्खलन में कई लोगों की मौत हो गई है और कई लोग घायल हो गए हैं।

 

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, दहकान ने कहा था,

"कोहिस्तान जिले के शिपो क्षेत्र में स्थानीय समयानुसार यह हादसा सुबह लगभग 10.30 बजे हुआ, जब 50 से ज्यादा लोग सोने की एक खदान में अवैध खनन कर रहे थे और लगभग सभी लोग उसमें जिंदा दफन हो गए। अब तक 20 शव और सात घायलों को निकाला जा चुका है।"

 

उन्होंने कहा कि अन्य लापता लोगों को खोजने के लिए बचाव अभियान जारी है, और मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

 

आतंकवाद से त्रस्त अफगानिस्तान के खासतौर से ग्रामीण और दूरवर्ती इलाकों में केंद्र सरकार का नियंत्रण बहुत कमजोर है और हथियारबंद आतंकी सोना, कोयला और लापीस लाजुली जैसे प्राकृतिक संसाधनों के अवैध खनन में अक्सर संलिप्त रहते हैं।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

 

40 killed in mine steeped in Afghanistan, Afghanistan,अफगानिस्तान, बदख्शान प्रांत, कोहिस्तान जिले, Badakhshan Province, बदख्शां प्रांत, Gold mine, प्राकृतिक आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, Natural disaster management authority, Kohistan district,

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।