90 दिन पूरे नोटबंदी के, एटीएम अब भी अर्थव्यवस्था की तरह खस्ताहाल

एटीएम मशीनों से लोगों को अब भी समय पर पैसा नहीं मिल पा रहा और एटीएम अर्थव्यवस्था की तरह खस्ताहाल हैं।...

 

नई दिल्ली, 9 फरवरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा के बाद स्थिति के सामान्य होने में देशवासियों से 90 दिन का जो समय मांगा था, वह भी बीत गया, लेकिन राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और आस-पास के इलाकों में एटीएम मशीनें अब भी सामान्य स्थिति में नहीं लौट पाई हैं। एटीएम मशीनों से लोगों को अब भी समय पर पैसा नहीं मिल पा रहा और एटीएम अर्थव्यवस्था की तरह खस्ताहाल हैं।

बीते वर्ष आठ नवंबर को हुई नोटबंदी की घोषणा के ठीक तीन महीने बाद दिल्ली एनसीआर में एटीएम मशीनों का जायजा लिया गयाऔर बहुत मुश्किल से ऐसे एटीएम बूथ मिले, जिनसे रुपया निकलता पाया गया।

नोएडा के सेक्टर-16 इलाके में आईएएनएस कुल सात एटीएम बूथों पर गया, जिनमें से सिर्फ दो काम करती पाई गईं, जबकि शेष एटीएम मशीनों में पैसे नहीं मिले।

इनमें से एक एटीएम बूथ पर तैनात सुरक्षा गार्ड ने बताया, "आज (गुरुवार) एटीएम में रुपये नहीं डाले गए। दो दिन पहले इस एटीएम में रुपये डाले गए थे। यह भी नहीं पता कि अगली बार कब रुपये डाले जाएंगे।"

हालांकि जिन दो एटीएम मशीनों से रुपये निकल रहे थे, वहां सात-आठ लोगों की लाइन ही लगी मिली।

दक्षिणी दिल्ली के साकेत में कैनरा और एक्सिस बैंक के दो एटीएम मशीनों में रुपये नहीं थे, जबकि पास ही में खिड़की एक्सटेंशन में चार एटीएम बिना काम के मिले।

पीएनबी, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और कैनरा बैंकों के ऐसे अनेक एटीएम मिले जिनमें रुपये नहीं थे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>