लो कर लो बात : सपा के पूर्व विधायक ने डालमिया से दोगुनी कीमत पर मोदी से मांगा लाल किला

बदायूँ से समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक आबिद रजा खां ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर डालमिया से दोगुनी कीमत 50 करोड़ रुपए में पाँच साल के लिए लाल किला माँगा है।...

लो कर लो बात : सपा के पूर्व विधायक ने डालमिया से दोगुनी कीमत पर मोदी से मांगा लाल किला

नई दिल्ली। खबरें हैं कि राष्ट्रीय धरोहर लालकिले को डालमिया को देने का अनुबंध पर्यटन मंत्रालय ने किया है। इस बीच उत्तर प्रदेश के बदायूँ से समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक आबिद रजा खां ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर डालमिया से दोगुनी कीमत 50 करोड़ रुपए में पाँच साल के लिए लाल किला माँगा है।

आबिद रज़ा खाँ ने प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखा जिसकी प्रति वाट्सएप के जरिए हम तक पहुंची है। पत्र में आबिद रज़ा खाँ ने लिखा है कि

“हाल ही में जानकारी में आया है कि हिन्दुस्तान की धरोहर (लाल किला) को डालमिया को 5साल के लिए किराए पर 25 करोड़ रु. में दिया गया है। यदि यह सच है तो मैं और मेरे साथी 50 करोड़ रुपए में डालमिया से दोगुनी कीमत पर लाल किले को 5साल के लिए लेने को तैयार हैं (किराए पर)।“

आबिद रज़ा खाँ ने आगे लिखा -

“हिन्दुस्तान बिक रहा है। हो सकता है अगली बोली कुतुबमीनार की या ताजमहल की हो। ताजमहल, कुतुबमीनार को भी किराए पर दे दिया जाए।

यह भी हो सकता है मोदीजी आप 2019 से पहले पार्लियामेंट की बिल्डिंग को भी किराए पर दे दिया जाए। मोदी जी इसे कहते हैं आपके अच्छे दिन।“

आबिद रज़ा सपा के दमदार नेता हैं। वह पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के भाई और बदायूँ के सांसद धर्मेन्द्र यादव पर इशारों-इशारों में गोहत्या व अवैध खनन में शामिल होने का आरोप लगाने के कारण सुर्खियों में आए थे। उन्होंने अपनी जान का खतरा भी बताया था। इसके बाद उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया। लेकिन विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी ने झक मारकर उन्हें वापिस लिया और चुनाव भी लड़ाया।

आबिद रजा के विरोध में सपा के पदाधिकारियों ने बदायूँ में उनका पुतला भी फूंका। इन पदाधिकारियों ने नारे लगाए, 'सांसद के सम्मान में, मुसलमान मैदान में।’ इसी से समझा गया कि आबिद रज़ा का इशारा सांसद धर्मेन्द्र यादव की तरफ है।

 

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।