अमर सिंह पासवान को झूठे मामले में फंसाकर दूसरा चंद्रशेखर बनाना चाहती है योगी सरकार- रिहाई मंच

भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर की तरह अम्बेडकरवादी छात्र सभा के नेता अमर पासवान को जेल भेजने की साजिश रच रही है सरकार...

अमर सिंह पासवान को झूठे मामले में फंसाकर जेल भेजना चाहती है योगी सरकार- रिहाई मंच

भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर की तरह अम्बेडकरवादी छात्र सभा के नेता अमर पासवान को जेल भेजने की साजिश रच रही है सरकार

अमर पासवान के ऊपर से फर्जी मुक़दमे नही हटाये गए तो होगा आन्दोलन- मुहम्मद शुएब

लखनऊ 25 मार्च 18. रिहाई मंच लाटूश रोड स्थित कार्यालय पर बैठक में अम्बेडकरवादी छात्र सभा नेता अमर सिंह पासवान के ऊपर हुए जानलेवा हमले की निंदा करते हुए मांग की गयी कि अमर सिंह पासवान को तत्काल सुरक्षा मुहैया कराया जाये. पुलिस प्रशासन द्वारा उनके ऊपर फर्जी मुक़दमा दर्ज़ करके जिलाबदर करने की कोशिश को वक्ताओं ने योगी सरकार की साजिश करार देते हुए कहा की योगी सरकार भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर की तरह झूठे मुकदमें में फंसाकर जेल में डालना चाह रही है.

बैठक में रिहाई मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुएब ने कहा की मंच अमर सिंह पासवान के ऊपर हमला सरकार की कुंठा को दिखता है कि वह अपने राजनीतिक विरोधियों के ऊपर गुंडों से हमले करा रही है. अमर सिंह पासवान लगातार गोरखपुर विवि में दलितों-पिछड़ों के हक और अधिकार की लड़ाई लड़ते रहे हैं. यही कारण है कि उनपर इस तरह का जानलेवा हमला किया गया है. सत्ता संरक्षित गुंडे उनपर हमला किये. दहशत फ़ैलाने की मंशा से कई राउंड गोली चलाई गयी और अमर पासवान को बुरी तरह मारा पीटा गया और माफ़ी मांगने को कहा गया. इतना ही नही गुंडों ने इस मारपीट का वीडियो भी बनाया, जो साबित करता है कि उनको एक दलित के बेटे को राजनीति करना नही भा रहा है.

उन्होंने कहा कि गोरखपुर पुलिस प्रशासन भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर आजाद की तरह फर्जी मामला बनाकर फंसाने की कोशिश हो रही है इसको बर्दाश्त नही किया जायेगा. उन्होंने मांग की कि अमर सिंह पासवान को तत्काल सुरक्षा मुहैया करायी जाये. बैठक में ओपी सिन्हा, एड.रजी अहमद, एड.यावर हुसैन, अनिल यादव आदि उपस्थित थे.

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।