अमित शाह से हुआ अपशकुन, तिरंगा उनके ऑफिस पर लहराने की बजाय गिर पड़ा! 2019 में सत्ता हाथ से जाएगी!

50 साल से ज्यादा समय तक देश के तिरंगे का तिरस्कार करने वालों ने अगर ये नहीं किया होता तो शायद आज तिरंगे का ऐसा अपमान न होता। ...

अमित शाह से हुआ अपशकुन, तिरंगा उनके ऑफिस पर लहराने की बजाय गिर पड़ा! 2019 में सत्ता हाथ से जाएगी!

नई दिल्ली 15 अगस्त। कांग्रेस ने भाजपा पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि जो देश का झंडा नहीं संभाल सकते, वो देश क्या संभालेंगे ?

बता दें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा ध्वजारोहण करने के दौरान झंडे के नीचे गिरने का एक वीडियो शेयर करते हुए कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया जिसमें साफ दिख रहा है कि अमित शाह जब ध्वजारोहण के लिए रस्सी खींच रहे तो झंडा नीचे गिर गया।

इस वीडियो को शेयर करते हुए कांग्रेस ने कहा,

‘‘जो देश का झंडा नहीं संभाल सकते, वो देश क्या संभालेंगे?’’

ट्वीट में पार्टी ने आरोप लगाया,

‘‘50 साल से ज्यादा समय तक देश के तिरंगे का तिरस्कार करने वालों ने अगर ये नहीं किया होता तो शायद आज तिरंगे का ऐसा अपमान न होता। दूसरों को देशभक्ति का सर्टिफिकेट देने वालों को राष्ट्रगान का तौर-तरीका तक पता नहीं।’’

बता दें, भाजपा की मातृ संस्था आरएसएस तिरंगा झंडा नहीं लहराती थी थी। घनघोर आलोचना के बाद उसने राष्ट्रीय ध्वज फहराना शुरू किया।

दूसरी तरफ, इस घटना पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी चुटकी ली। अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो को शेयर करते हुए केजरीवाल ने लिखा,

'प्रकृति का खेल भी अजब है. कोई कितना भी शक्तिशाली क्यों ना हो जाए, प्रकृति के सामने सब छोटे हैं. बताइए, तिरंगे ने अमित शाह के हाथों लहराने से मना कर दिया। इस तिरंगे के ज़रिए भारत माता कुछ कह रही है - कि वो दुःखी है'।

दूसरी तरफ, सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो गया और लोग इस वीडियो को शेयर कर चुटकी लेते दिखे.

जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर जगदीश्वर चतुर्वेदी ने लिखा

“अपशकुन हो गया है, तिरंगा उनके ऑफिस पर लहराने की बजाय गिर पड़ा! यह 2019 के लिए भाजपा को संदेश है कि आने वाले दिनों में बागडोर उनके हाथ से जाएगी!”

15 अगस्त 1947 : जब देशवासी आज़ादी का जश्न मन रहे थे, आरएसएस मातम में जुटा था !

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।