भाजपा का झंडा ढोने वालों से ‘जय जय सीपीआई-एम’ के नारे सुनकर उल्टे पाँव दिल्ली लौटे अमित शाह !

जनरक्षा यात्रामें भाजपा का झंडा ढोने वालों से ‘जय जय सीपीआई-एम’ के नारे सुनकर अमित शाह उल्टे पाँव दिल्ली लौटे।...

हाइलाइट्स

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने आरोप लगाया है कि शाह ने अपनी यात्रा के लिए दूसरे राज्‍यों से भाजपा और आरएसएस के कार्यकर्ता बुलाए थे। पार्टी ने दावा किया है कि यात्रा के दौरान उन्‍होंने ‘जय जय सीपीआई-एम’ के नारे लगाने शुरू कर दिये।

नई दिल्ली।  भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह केरल में ‘जनरक्षा यात्रा’ को बीच में ही छोड़कर उल्टे पाँव वापस दिल्ली लौट गए। हालाँकि भाजपा ने इसके पीछे कोई स्‍पष्‍ट वजह नहीं बताई, सिर्फ इतना कहा गया कि ‘किसी जरूरी काम’ की वजह से शाह दिल्‍ली वापस लौटे हैं, लेकिन कहा जा रहा है कि यात्रा में भाजपा का झंडा ढोने वालों से जय जय सीपीआई-एम’ के नारे सुनकर अमित शाह उल्टे पाँव दिल्ली लौटे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अमित शाह को बुधवार को केरल में राज्य के पार्टी नेताओं और बुद्धिजीवियों से मुलाकात करनी थी, लेकिन दिल्ली में जरूरी काम की वजह से उन्हें कल ही वापसी करनी पड़ी। भाजपा के एक नेता ने कहा कि शाह को किसी जरूरी काम से दिल्ली जाना पड़ा, लिहाजा उनके सारे कार्यक्रमों को रद्द कर दिया गया।

उधर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने आरोप लगाया है कि शाह ने अपनी यात्रा के लिए दूसरे राज्‍यों से भाजपा और आरएसएस के कार्यकर्ता बुलाए थे। पार्टी ने दावा किया है कि यात्रा के दौरान उन्‍होंने ‘जय जय सीपीआई-एम’ के नारे लगाने शुरू कर दिये।

माकपा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो अपलोड किया है, जिसमें भाजपा का झंडा उठाए कुछ लोग हिंदी में ‘जय जय सीपीआई-एम’ बोल रहे हैं। माकपा ने पूछा है कि क्‍या इसी वजह से शाह ‘भाग’ गए?


हस्तक्षेप मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। आप भी मदद करके इस अभियान में सहयोगी बन सकते हैं।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।