'रितुपर्णो घोष' को याद करते हुए,अमिताभ बच्चन हुए भावुक

एजेंसी
हाइलाइट्स

न्यूज़ हेल्पलाइन,मुंबई, 12 सितम्बर,2017 

मेगास्टार अमिताभ बच्चन ने सत्यजित रे पीढ़ी के बाद भारत के सबसे बहुमुखी फिल्म निर्माताओं में से एक, रितुपर्णो घोष को याद किया, और उन्होंने कहा,"वो हमें बहुत जल्द छोड़ कर चले गए। 

74 वर्षीय महानायक अमिताभ बच्चन ने "द लास्ट लियर" में स्वर्गीय घोष जी के साथ काम किये थे, मंगलवार को इस फिल्म ने 10 साल पूरे कर लिए इस अवसर पर महानायक ने घोष जी को याद किया। 

सोमवार की रात 'अमिताभ बच्चन' ने ट्वीट कर फिल्मकार घोष जी को याद किया और बताया बंगाली सिनेमा में इन्होने सामाजिक स्तर पर कई बदलाव लाये। 'द लास्ट लियर' मेरी पहली अंग्रेजी फिल्म थी, जो रितुपर्णो  घोष द्वारा बनाई गई थी। वो हमारा साथ बहुत जल्द छोड़कर चले गए। 

घोष जी का  निधन, 2013 में ह्रदय की गति थम जाने के वजह से हुई थी। घोष जो कई बंगाली फिल्मों के लिए पुरस्कार विजेता भी रहे हैं। जैसे -"बरिवली", "असुख", "उत्सव", "शुभो माहुरत", "चोखेर बाली", "दोसर", "शोब चरित्रो कलपोनिक" और "अबोहोमन"।

घोष की आखिरी  फिल्म "चित्रांगदा" (2012) थी, जो  उनकी मृत्यु से कुछ दिन पहले ही रिलीज हुई थी।

घोष जी ने दो हिंदी फ़िल्में भी बनाई "रेनकोट" (2004) इस फिल्म के लिए इन्हे राष्ट्रिय पुरष्कार से सम्मानित किया गया। "सनग्लास"  इनकी दूसरी हिंदी फिल्म रही थी। 

अमिताभ बच्चन जल्दी जी 'विजय कृष्णा आचार्य' की फिल्म में नजर आएंगे। 


हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।