सरकार की आलोचना करना अमोल पालेकर को पड़ा भारी, कार्यक्रम के बीच में रोका – वीडियो हो रहा वायरल

Amol Palekar is stopped from making any critical comments during his speech सरकार की आलोचना करना अमोल पालेकर को पड़ा भारी, कार्यक्रम के बीच में रोका – वीडियो हो रहा वायरल...

नई दिल्ली 10फरवरी। बॉलीवुड के दिग्गज कलाकार (Bollywood's legendary artist) व निर्देशक (director) अमोल पालेकर (Amol Palekar) को सरकार की आलोचना (Criticism of government) करना भारी पड़ गया। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल (Video viral) हो रहा है जिसको देखकर ऐसा लगता है कि उन्हें कार्यक्रम के बीच में रोका जा रहा है। श्री पालेकर (Amol Palekar) शनिवार को मुंबई के नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट (National Gallery of Modern Art) (NGMA) में बतौर अतिथि अपना वक्तव्य दे रहे थे तो उन्हें इसलिए रोक दिया गया, क्योंकि उन्होंने सरकार की आलोचना की। इसका वीडियो इंटरनेट पर काफी वायरल हो गया है। अमोल पालेकर मशहूर कलाकार प्रभाकर बारवे के स्मरण में आयोजित प्रदर्शनी के दौरान 'इनसाइड द इम्पटी बॉक्स' (Inside the Empty Box) विषय पर बोल रहे थे। इसी दौरान जब उन्होंने मिनिस्ट्री ऑफ कल्चर के खिलाफ कुछ बातें कहना शुरू ही किया था कि उन्हें रोक दिया गया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। अमोल पालेकर ने एनजीएमए (NGMA) के मुंबई और बैंगलोर केंद्रों की सलाहकार समिति (Advisory Committee) को कथित तौर पर खत्म करने के लिए संस्कृति मंत्रालय की आलोचना (Criticism of the Ministry of Culture) किया था।

इस दौरान मौजूद वहां संचालन कर रहीं एक महिला ने अमोल पालेकर को रोक दिया और कार्यक्रम से जुड़ी बातों के बारे में कहने के लिए कह। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि पिछले साल अक्टूबर महीने तक एनजीएमए (NGMA) की एक सलाहकार कमेटी थी, जिसमें स्थानीय कलाकारों का प्रतिनिधित्व होता था। इसी के बारे में अमोल पालेकर ने जब कार्यक्रम में मुद्दा उठाया कि इस कमेटी को अब सीधे संस्कृति मंत्रालय कंट्रोल रह रहा है। इस फैसले पर जैसे ही उन्होंने बोलना शुरू किया तो उस वक्त उन्हें रोक दिया। वीडियो में जैसे साफ झलक रहा है कि वह कह रहे हैं कि, 'क्या आप मुझे स्पीच बीच में खत्म करने के लिए कह रही हैं? क्या मेरे बोलने पर सेंसरशिप लगा रही हैं?'

इस वीडियो को सोशल मीडिया पर कई बुद्धिजीवी व युवाओं ने शेयर किया है। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने भी इसकी निंदा करते हुए ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा,

'हमारे लोकतंत्र, हमारे संवैधानिक अधिकारों का पूरा सार, सरकार और उसके नेताओं की आलोचना करने की स्वतंत्रता पर आधारित है। कोई भी आलोचना से ऊपर नहीं है। अमोल पालेकर के साथ यह व्यवहार अलोकतांत्रिक और बेहद निंदनीय है।' जिसमें यह कहा जा रहा है कि क्या अब फ्रीडम ऑफ स्पीच (बोलने पर आजादी) भी खत्म कर दिया जाएगा।

वहीं उन्नाव से पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता अन्नु टंडन ने इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा,

'वर्तमान समय में इसे ही इन्टॉलरेंस (Intolerance) कहा जा रहा है.. दुखद..'

(हस्तक्षेप इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।)

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Amol Palekar is stopped from making any critical comments during his speech for the inaugural of the Prabhakar Barwe retrospective at the NGMA Mumbai

अब तक की बड़ी ख़बरें | morning Headlines | breaking news 10 Feb | india news | top news |

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।