योगी राज में दलितों के ऊपर एक और मनुवादी हमला, 6 बुरी तरह घायल, 3 की हालत गंभीर : रिहाई मंच

बलिया रिहाई मंच नेता मंगल राम पर ठाकुरों ने किया जानलेवा हमला ठाकुरों ने हाकी, लाठी, राड के साथ दलितों पर बोला हमला, 6 बुरी तरह घायल, 3 की हालत गंभीर...

योगी राज में दलितों के ऊपर एक और मनुवादी हमला, 6 बुरी तरह घायल, 3 की हालत गंभीर : रिहाई मंच
Another Manavadi attack on Dalits in Yogi Raj
हाइलाइट्स

बलिया रिहाई मंच नेता मंगल राम पर ठाकुरों ने किया जानलेवा हमला

ठाकुरों ने हाकी, लाठी, राड के साथ दलितों पर बोला हमला, 6 बुरी तरह घायल, 3 की हालत गंभीर

बलिया 15 जून 2017. बलिया से सटे गाजीपुर के सीमा वरती गांव गोसलपुर में भाजपा और संघ परिवार से जुड़े ठाकुर जाति के लोगों ने रिहाई मंच नेता मंगल राम पर जानलेवा हमला किया. हमले में वो गम्भीर रुप से गायल हो गए हैं.

रिहाई मंच के एक प्रवक्ता के अनुसार मंगल राम पर ये हमला तब हुआ जब वे नदी किनारे लाश फूंकने गए थे, तभी वहां शराब के नशे में धुत्त राजा सिंह नाम का व्यक्ति मंगल राम को जातिसूचक गालियां देते हुए हमलावर हुआ. उसके इशारे पर पहले से तैनात ठाकुर जाति के युवा मंगल राम को बुरी तरह से मारने पीटने लगे.

रिहाई मंच के प्रवक्ता के अनुसार गोसलपुर गांव कुछ वर्षों से दलित पुनरुथान का केंद्र बन गया था, जहाँ से बाबा साहब भीम राव अम्बेडकर, पेरियार जैसे विचारों को मानने वाले युवा सामने आ रहे थे और वह अपने गाँव की सवर्ण ताकतों के दमन का प्रतिरोध कर रहे थे। जिसके कारण ये युवा निरंतर सवर्णों के लिए काँटा बने हुए थे.

रिहाई मंच के प्रवक्ता के अनुसार उत्तर प्रदेश में जैसे ही योगी सरकार बनी पूरे प्रदेश में दलितों के ऊपर हमले कि बाढ़ आ गई है. राजा सिंह ने मंगल राम को धमकी दी है कि योगी कि सरकार है हम तुम्हें ठीक कर देंगे. जिसके बाद ठाकुरों ने हाकी, लाठी ,राड के साथ दलितों पर हमला कर दिया, जिसमें 6 लोग बुरी तरह घायल हो गए हैं. इनमें 3 की हालत गंभीर हो गई है. पुलिस पूरे मामले को दबाना चाहती है और वो हमलावरों के पक्ष में खड़ी है. फिलहाल अब तक एफआईआर नहीं दर्ज हुई है.

रिहाई मंच नेता मंगल राम ने कहा कि इस घटना का पुरज़ोर प्रतिरोध किया जाएगा. उन्होंने कहा कि अब समय आ गया पूरे देश के दलित और वंचित तबके के युवा इस मनुवादी सरकार के खिलाफ लड़ाई का बिगुल फूंक दें.

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
क्या मौजूदा किसान आंदोलन राजनीति से प्रेरित है ?