शिवपाल के मोर्चे का अखिलेश पर प्रहार, जनता द्वारा बुरी तरह नकार दिए गए लोगों की अहंकार भरी बातों पर ध्यान देने की जरूरत नहीं

शिवपाल के मोर्चे का अखिलेश पर प्रहार, जनता द्वारा बुरी तरह नकार दिए गए लोगों की अहंकार भरी बातों ध्यान देने की जरूरत नहीं...

शिवपाल के मोर्चे का अखिलेश पर प्रहार, जनता द्वारा बुरी तरह नकार दिए गए लोगों की अहंकार भरी बातों पर ध्यान देने की जरूरत नहीं

लखनऊ, 24 सितंबर। शिवपाल सिंह यादव के सेक्युलर मोर्चा ने अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी पर करारा प्रहार किया है।

मोर्चा के नवनियुक्त प्रवक्ता पूर्व पत्रकार अरविंद विद्रोही ने कहा है कि जनता द्वारा चुनाव में पूरी तरह से बुरी तरह से नकार दिए गए लोगों की अहंकार भरी बातों और मिथ्या दावों पर हमें कतई ध्यान देने की जरूरत नहीं है।

यह भी पढ़ें - अखिलेश से इतना अपमानित होने के बावजूद सपा के मंच पर मुलायम ! भाजपा का काम बनाने साथ आए हैं अखिलेश-मुलायम ?

लोहिया-जेपी का स्वघोषित शिष्य अरविंद विद्रोही ने कहा कि शिवपाल सिंह यादव के नेतृत्व में आम जनता की लड़ाई लड़ने के लिए समाजवादी सेक्युलर मोर्चा संगठन तैयार हो रहा है, अति शीघ्र विभिन्न इकाइयों की घोषणा की जाएगी।

उन्होंने कहा कि शिवपाल यादव का यह फैसला संघर्ष का नूतन पथ है। नई डगर है समाजवादी सेक्युलर मोर्चा। हमें हर षड्यंत्र पता है और हम किसी भी गलतफहमी में, किसी भी अहंकार में डूबे नहीं हैं। निश्चित रूप से प्रत्येक रिश्ते से छले गए व्यक्ति का हृदय दुःखी होता है, जार-जार रोता है लेकिन इस वक़्त तो उस व्यक्ति का इम्तिहान भी होता है। और तमाम इम्तिहानों में खरे उतरने वाले हमारे अगुआ श्री शिवपाल सिंह यादव जी एक बार फिर व्यक्तिगत आत्मिक पीड़ा और दुःख को सहन करते हुए संघर्ष के नूतन पथ पर अग्रसर हैं।

यह भी पढ़ें -क्या अमर सिंह को सच साबित कर दिया मुलायम ने ? अखिलेश-रामगोपाल की शरण (!) में पहुंचे

श्री विद्रोही ने कहा कि अपनों के ही द्वारा अन्याय और छल के शिकार हुए हैं शिवपाल सिंह यादव। उपेक्षित किये गए थे शिवपाल जी इसीलिए मैंने दृढ़ निश्चय किया था कि मैं लोहिया-जेपी का स्वघोषित शिष्य जिसने समाजवादी योद्धा जार्ज फर्नांडीज के राजनैतिक नेतृत्व में अपनी राजनैतिक सेवाएं संगठन और समाज को दी थी करीब 16 वर्ष पश्चात पुनः सक्रिय राजनीति में उतरूंगा।

उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि जनता द्वारा नकार दिए गए और नकारा लोगों को नकारते हुए अपने अगुआ के साथ आगे बढ़ते रहिये, जनता के बीच रहिये। लोकतन्त्र में आम जनता का मत रूपी आशीर्वाद ही सर्वोच्च होता है।

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।