भारत बंद : भाकपा (माले) ने सोनभद्र में पार्टी कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी की निंदा की

केंद्र सरकार के खिलाफ गुस्सा आज सड़कों पर फूटा. सरकार उसे बलपूर्वक दबाना चाहती है. लेकिन यह दबेगा नहीं, बल्कि यही सूरतेहाल रहा, तो और बढ़ेगा.

हस्तक्षेप डेस्क
Updated on : 2018-09-10 18:25:56

भारत बंद : भाकपा (माले) ने सोनभद्र में पार्टी कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी की निंदा की

लखनऊ, 10 सितम्बर. भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने पेट्रो पदार्थों की मूल्यवृद्धि समेत मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ आज राबर्ट्सगंज (सोनभद्र) में आम हड़ताल को सफल बनाने के लिए जुलूस निकाल रहे सैकड़ों पार्टी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिए जाने की निंदा की है.

पार्टी के राज्य स्थाई समिति सदस्य अरुण कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार के खिलाफ गुस्सा आज सड़कों पर फूटा. सरकार उसे बलपूर्वक दबाना चाहती है. लेकिन यह दबेगा नहीं, बल्कि यही सूरतेहाल रहा, तो और बढ़ेगा. गैस-पेट्रोल-डीजल की रोजाना बढ़ रही कीमतों और उसके चलते जरूरी वस्तुओं की बढ़ रही महंगाई ने आम आदमी का जीना मुहाल कर दिया है. अच्छे दिन लाने समेत सालाना दो करोड़ रोजगार देने जैसे खुशनुमा वादों के हवा हो जाने से जनता जुमले वाली सरकार से मुक्ति चाहती है. राफेल विमान सौदे में बताया कम, छुपाया ज्यादा जा रहा है. इससे इसमें भारी भ्रष्टाचार की बू आ रही है.

उन्होंने कहा कि वाम दलों और विपक्ष के आह्वान पर सोमवार को देशव्यापी हड़ताल को सफल बनाने के लिए माले कार्यकर्त्ता बलिया, गाजीपुर, आजमगढ़, मिर्जापुर, देवरिया, गोरखपुर, इलाहाबाद, लखनऊ, पीलीभीत समेत तमाम जिलों में आम हड़ताल में शरीक हुए. हड़ताल को जनता का समर्थन मिला.

ज़रा हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

rame>

संबंधित समाचार :