योगीराज्य: लखनऊ के 43 थानों में नहीं एक भी मुस्लिम थानेदार, 77 प्रतिशत थानों में सवर्ण काबिज

​​​​​​​लखनऊ के 43 थानों में एक भी मुस्लिम थानेदार नहीं, 18 ब्राह्मण, 12 क्षत्रिय हैं थानेदार...

लखनऊ के 43 थानों में एक भी मुस्लिम थानेदार नहीं, 18 ब्राह्मण, 12 क्षत्रिय हैं थानेदार

लखनऊ, 20 मई। जब सूबे में समाजवादी पार्टी की सरकार थी तब भाजपा कहती थी कि सूबे में थाने “यादव” चलाते हैं, लेकिन अब भारतीय जनता पार्टी के राज्य में उसके 'सबके साथ, सबके विकास' नारे की पोल एक आरटीआई से खुली है। आबादी के लिहाज से देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में लगभग 19 प्रतिशत आबादी मुसलामानों की है, लेकिन राजधानी लखनऊ के 43 थानों में एक भी मुसलमान थानेदार को तैनात नहीं किया गया है। राजधानी के थानों में तैनात शत-प्रतिशत हिंदू थानेदारों में से 11.5 फीसदी अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और इतने ही प्रतिशत अनुसूचित जाति-जनजाति (एससी/एसटी) के हैं। वहीं राजधानी के 77 प्रतिशत थानों में सवर्ण काबिज हैं।

यह तथ्य एक आरटीआई अर्जी पर लखनऊ के अपर पुलिस अधीक्षक (विधानसभा) और जनसूचना अधिकारी द्वारा दिए जवाब से सामने आए हैं।

जनसूचना अधिकारी ने बताया है कि लखनऊ के 43 थानों में से 18 में ब्राह्मण, 12 में क्षत्रिय, 2 में कायस्थ, 1 में वैश्य, 2 में कुर्मी, 1 में मोराई, 1 में काछी, 1 में ओबीसी, 1 में धोबी, 1 में जाटव, 1 में खटिक और 2 में अनुसूचित जाति के थानेदार तैनात हैं।

संजय कहते हैं कि प्रदेश में लगभग 19 प्रतिशत आबादी मुसलामानों की हैं पर लखनऊ के 43 थानों में एक भी मुसलमान थानेदार नहीं तैनात किया गया है। वहीं 38 प्रतिशत आबादी वाले ओबीसी का लखनऊ के थानों में प्रतिनिधित्व मात्र 11.5 प्रतिशत है। इसी प्रकार कुल आबादी का 21 प्रतिशत हिस्सा अनुसूचित जाति का होने पर भी इस राजधानी के थानेदारों की नुमाइंदगी मात्र 11.5 प्रतिशत पर ही सिमट कर रह गई है। वहीं कुल आबादी के 22 प्रतिशत पर सिमटे अगड़े राजधानी के 77 प्रतिशत थानों पर काबिज हैं।

तहरीर नामक पंजीकृत संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय शर्मा को दी गई सूचना से खुलासा हुआ है कि लखनऊ के 43 थानों में से 18 में ब्राह्मण,12 में क्षत्रिय,02 में कायस्थ, 01 में वैश्य, 02 में कुर्मी,01 में मोराई, 01 में काछी, 01 में ओबीसी, 01 में धोबी,01 में जाटव,01 में खटिक और 02 में अनुसूचित जाति के थानेदार तैनात हैंl

देश के नामचीन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं में शुमार होने वाले संजय शर्मा का कहना है कि सरकारों से उम्मीद तो यह की जाती है कि वे जाति-वर्ग-धर्म से ऊपर उठकर काम करेंगी पर सूबे के पुलिस थानों में बसपा की सरकारों में अनुसूचित जाति का दबदबा कायम रहता है, सपा में यादवों का तो बीजेपी में ब्राह्मण ठाकुरों का दबदबा कायम होने की परंपरा सी कायम हो गई है जो लोकतंत्र के लिए घातक हैl

संजय के अनुसार सरकारों की ऐसी पक्षपाती कार्यप्रणाली की बजह से लोकसेवकों को न चाहते हुए भी राजनैतिक निष्ठाएं नियत करनी पड़ती है और उनकी निष्पक्षता भी प्रभावित होती है जिसके चलते वे कानून व्यवस्था पर प्रभावी नियंत्रण नहीं रख पाते हैंl

संजय ने बताया कि वे अपनी संस्था ‘तहरीर’ की ओर से सीएम योगी को पत्र लिखकर मांग करेंगे कि सरकारी पदों पर बिना किसी भेद-भाव के समाज के सभी वर्गों को उचित प्रतिनिधित्व दिया जाएl

संजय ने कहा कि सरकारों से उम्मीद तो यह की जाती है कि वे जाति-वर्ग-धर्म से ऊपर उठकर काम करेंगी, पर सच्चाई यह है कि सूबे के पुलिस थानों में बसपा की सरकारों में अनुसूचित जाति का दबदबा कायम रहता है तो सपा में यादवों का और भाजपा में ब्राह्मण-ठाकुरों का। उन्होंने कहा कि यह परंपरा सी कायम हो गई है जो लोकतंत्र के लिए घातक है।

संजय ने बताया कि वे अपनी संस्था 'तहरीर' की ओर से मुख्यमंत्री योगी को पत्र लिखकर मांग करेंगे कि सरकारी पदों पर बिना किसी भेद-भाव के समाज के सभी वर्गो को उचित प्रतिनिधित्व दिया जाए।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।