भीमसिंह ने 1966 के छात्र शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की

छात्र आंदोलन के दौरान 17/18 अक्टूबर 1966 को पुलिस की गोलियों का शिकार होना पड़ा था, जब वे जम्मू विश्वविद्यालय, मेडिकल, इंजीनियरिंग, आयुर्वेदिक एवं लॉ कालेज की मांग कर रहे थे।...

भीमसिंह ने 1966 के छात्र शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की

जम्मू, 17 अक्तूबर। नेशनल पैंथर्स पार्टी के मुख्य संरक्षक प्रो. भीमसिंह ने आज छात्र शहीदों के स्मारक स्थल, जम्मू के जीजीएम साइंस कालेज में पुष्पांजलि अर्पित की, जिन्हें छात्र आंदोलन के दौरान 17/18 अक्टूबर 1966 को पुलिस की गोलियों का शिकार होना पड़ा था, जब वे जम्मू विश्वविद्यालय, मेडिकल, इंजीनियरिंग, आयुर्वेदिक एवं लॉ कालेज की मांग कर रहे थे।

ज्ञातव्य है कि तीन छात्र, ब्रजमोहन शर्मा, सुभाष चन्द्र और गुलशन हांडा पुलिस फायरिंग में सांइस कालेज के प्रागंण में 17 अक्टूबर, 1966 शहीद हुए थे, जबकि एक अन्य छात्र स. गुरचरणसिंह (पिस्सू) 18 अक्टूबर, 1966 को सिटी चैक जम्मू में शहीद हुआ था।

इस छात्र आंदोलन का नेतृत्व तत्कालीन जम्मू-कश्मीर छात्र कांग्रेस के मुख्य आयोजक श्री भीमसिंह, एसपीएम राजपूत कालेज आफ काॅमर्स के महासचिव श्री पी.के. गंजू और अन्य कर रहे थे।

नेशनल पैंथर्स छात्रसंघ (एनपीएसयू) के राज्य अध्यक्ष ठाकुर वीरेंद्र सिंह ने युवाओं व छात्रों से जम्मूवासियों से अन्याय व भेदभाव के खिलाफ लड़ने के लिए कहा, ताकि बेरोजगार युवाओं को सरकारी नौकरियों और विकास कार्यक्रमों से वंचित न किया जा सके।

इस अवसर पर पैंथर्स पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में सर्वश्री पी.के. गंजू (वरिष्ठ राज्य उपाध्यक्ष), कु. अनीता ठाकुर (महासचिव), जगदेव सिंह, शंकर सिंह चिब, (राज्य सचिव), नरेश चिब, रविंदर जमवाल, नीरज गुप्ता, आशा रानी, निर्मल किशोर, शक्ति सिंह, मिथु राजपूत और अन्य ने भी छात्र शहीदों को पुष्पांजलि अपिर्त की।

तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के हस्तक्षेप पर इस प्रकरण में जांच आयोग गठित किया गया, जिसमें पुलिस पूर्णरूप से दोषी पायी गयी। इस आंदोलन ने जम्मू प्रदेश के युवाओं में जागृति पैदा की, जिनसे उन्हें राज्य के विकास तथा सभी शैक्षणिक, आर्थिक और राजनीतिक भागीदारी से वंचित कर दिया गया था।

युवाओं व छात्रों को संबोधित करते हुए प्रो. भीमसिंह ने नई पीढ़ी की वास्तविक मांगों को सभी स्तरों पर न्याय सुनिश्चित करने की शांतिपूर्ण लड़ाई जारी रखने को कहा। उन्होंने सभी पूर्व छात्र नेताओं, जो न्याय, समानता और भाईचारे के लिए संघर्ष कर रहे हैं, सहानुभूति प्रकट की।

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।