कटघरे में भाजपा : एक सुर में बोले राहुल और हार्दिक - गुजरात की जनता इतनी भी सस्ती नहीं कि भाजपा ख़रीद ले

हार्दिक पटेल ने कहा गुजरात की जनता इतनी भी सस्ती नहीं है कि भाजपा ख़रीद लेगी !! गुजरात की जनता का अपमान किया जा रहा है। गुजरात की जनता अपमान का बदला लेगी !...

हाइलाइट्स

भाजपा पर तंज कसते हुए हार्दिक पटेल ने ट्वीट किया कि गुजरात की जनता इतनी भी सस्ती नहीं है कि भाजपा ख़रीद लेंगी !! गुजरात की जनता का अपमान किया जा रहा है। गुजरात की जनता अपमान का बदला लेगी !

गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के करीबी पाटीदार नेता नरेंद्र पटेल ने मीडिया के सामने आकर भाजपा पर बड़ा आरोप लगाया। नरेंद्र पटेल का दावा है कि भाजपा में शामिल होने के लिए उन्हें एक करोड़ रुपये देने की पेशकश की गई थी, जिसमें से दस लाख रुपये उन्हें मिल चुके हैं।

एक मीडिया चैनल से बातचीत में नरेद्र पटेल ने कहा कि भाजपा के खिलाफ उनके पास सबूत भी हैं। नरेंद्र पटेल ने कहा कि भाजपा चाहे मुझे कितना भी पैसा क्यों ना दें दे लेकिन मैं बिकने वालों में से नहीं हूँ वो मुझे पूरा रिजर्व बैंक भी दे दें तब भी मुझे खरीद नहीं पाएंगे। उन्होंने कहा कि मैं अपने समुदाय के हक के लिए लड़ता रहूंगा। यह पैसा मुझे नहीं चाहिए। मैं सिर्फ पाटीदार समाज के लिए आंदोलन में आया हूं। यह 10 लाख रुपये मेहनत का पैसा नहीं है, भ्रष्टाचार का पैसा है।

वहीं दूसरी तरफ पार्टीदार नेता हार्दिक पटेल ने मीडिया के हवाले से कहा कि नरेंद्र भाई ने ईमानदारी दिखाई है और आशा करता हूं ऐसी ही आगे भी ईमानदारी दिखाई जाएगी।

भाजपा पर तंज कसते हुए हार्दिक पटेल ने ट्वीट किया कि गुजरात की जनता इतनी भी सस्ती नहीं है कि भाजपा ख़रीद लेंगी !! गुजरात की जनता का अपमान किया जा रहा है। गुजरात की जनता अपमान का बदला लेगी !

उन्होंने कहा –

सत्ता के सामने चला रहे आंदोलनकारी को ख़रीदने किए BJP ने 500करोड़ का बजट लगाया है। मुझे समझ नहीं आ रहा कि विकास किया है तो ख़रीददारी क्यों !

एक अन्य ट्वीट में हार्दिक ने कहा –

भाजपा के सामने मैं नहीं गुजरात की 6 करोड़ जनता लड़ रही है। व्यापारी, किसान, सभी समुदाय और मज़दूर भाजपा की तानाशाही से परेशान हैं।

दूसरी तरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी नरेंद्र पटेल के इस कदम की सरहाना करते हुए ट्वीट किया कि गुजरात अमूल्य है। इसे कभी नहीं खरीदा जा सकता।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।