‘लोकतंत्र बचाओ, देश बचाओ‘ : लोकतंत्र के लिए खतरा है भाजपा – अखिलेश यादव

अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा लोकतंत्र के लिए खतरा है। वह जाति धर्म के आधार पर नफरत का विस्तार कर रही है। समाज में वैमनस्य फैलाना अपराध है। भाजपा विकास के बजाय झूठे वादों का व्यापार कर रही है...

लोकतंत्र के लिए खतरा है भाजपा – अखिलेश यादव

लखनऊ, 21 अगस्त। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा लोकतंत्र के लिए खतरा है। वह जाति धर्म के आधार पर नफरत का विस्तार कर रही है। समाज में वैमनस्य फैलाना अपराध है। भाजपा विकास के बजाय झूठे वादों का व्यापार कर रही है। हम विदेशों के मुकाबले पिछड़ते जा रहे हैं। नोटबंदी के कारण बैंक घाटे में हैं। भाजपा की आर्थिक नीतियों से व्यापार चौपट है। अर्थव्यवस्था में लगातार गिरावट होती जा रही है।

श्री यादव से आज आजमगढ़ से गोरखपुर तक ‘लोकतंत्र बचाओ, देश बचाओ‘ साइकिल यात्रा करके आए 130 नौजवानों से भेंट करने के बाद संबोधित कर रहे थे।।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि समाजवादी पार्टी गरीबों के पेट की लड़ाई लड़ती है जबकि दूसरे दिमाग की लड़ाई लड़ते हैं। भारत में कुछ लोग दिमाग से पेट की लड़ाई को कमजोर करने में लगे हैं।

उन्होंने कहा समाजवादी साइकिल चलाकर समाज को बांटने वाली ताकतों से निबटेंगे। देश के सामने सन् 2019 और 2022 का मौका है। इसमें चूकना नहीं है।

श्री यादव ने कहा कि दिल्ली में भाजपा ने ऐसा केन्द्र खोल रखा है जिसमें इस बात पर शोध होता है कि जनता को कैसे गुमराह किया जा सकता है, कौन से लुभावने सब्जबाग दिखाए जा सकते हैं और समाज को बांटने की साजिशों को कैसे परवान चढ़ाया जा सकता है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा सरकार ने एक दिन में 9 करोड़ वृ़क्षारोपण का झूठ फैलाया है। इसके लिए जितनी जमींन चाहिए वह कहां है? एक हजार एकड़ क्षेत्र में 1.34 लाख वृ़क्ष लगते हैं। लगता है कि कागज पर ही पेड़ लगाकर अपना नाम दर्ज कराने का कारनामा भाजपा ने कर दिखाया है। जबकि वास्तव में समाजवादी पार्टी सरकार में 5 करोड़ वृ़क्ष एक दिन में लगाने का रिकार्ड गिनीज बुक में दर्ज है। गंगा सहित सभी नदियां प्रदूषित हैं फिर 15 दिसम्बर तक वे साफ कैसे हो सकती हैं।

श्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार रागद्वेष से काम कर रही है। समाजवादी पार्टी के विरूद्ध भाजपा साजिश कर रही है। लेकिन समाजवादी सरकार के कामों का मुकाबला भाजपा सरकार कभी नहीं कर सकती है। समाजवादी सरकार के समय आगरा एक्सप्रेस-वे बना, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की योजना बनी, मेट्रो रेल चली। यूपी डायल 100, वूमेनपावर 1090 सेवा, समाजवादी एम्बूलेंस 108 जैसी सुविधाओं को भाजपा ने बर्बाद कर दिया है। किसानों की मदद के लिए मंडियों की स्थापना, नौजवानों के लिए रोजगार की व्यवस्था समाजवादी सरकार ने की थी। आज किसान निराश होकर आत्महत्या कर रहा है। शिक्षामित्र आत्मदाह कर रहे हैं। नौजवान कुंठित है। अल्पसंख्यक दहशत में हैं। इन तमाम परेशानियों से बाहर निकलने का रास्ता समाजवादी पार्टी की नीतियों और योजनाओं से ही निकल सकती है।

सुनील ठेकमा के संयोजकत्व में 6 अगस्त से 11 अगस्त 2018 तक चली साइकिल यात्रा को प्रख्यात साहित्यकार श्री राहुल सांस्कृत्यायन की धरती आजमगढ़ से पूर्वमंत्री बलराम यादव ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। यह साइकिल यात्रा पांच जनपदों के 100 गांवों तक पहुंची जहां लोगों से सम्पर्क कर समाजवादी नीतियों का प्रचार किया गया। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय ने साइकिल यात्रा का समापन गोरखपुर में किया।

श्री अखिलेश यादव ने साइकिल यात्रियों को बधाई दी और कहा कि नौजवानों की इस साइकिल यात्रा से प्रदेश की राजनीति में बदलाव आएगा। शीघ्र ही पूरे प्रदेश में साइकिल यात्राओं की बड़ी संख्या में शुरूआत होगी। उन्होंने पीड़ित महिलाओं को भरोसा दिलाया कि फिर समाजवादी सरकार बनने पर उनकी पेंशन दुगनी कर दी जाएगी। सीतापुर के गन्ना किसानों की समस्याओं को लेकर समाजवादी छात्रसभा के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव ने 23 अप्रैल 2018 से 29 अप्रैल 2018 तक तम्बौर से लखनऊ तक पैदल मार्च किया था। पूर्व मुख्यमंत्री ने गन्ना किसानों से बातचीत की।

सीतापुर से आए युवाओं ने बकाया गन्ना भुगतान करने में देरी और बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सरकार द्वारा राहत न पहुंचाने और इसके लिए पदयात्रा करने पर लाठीचार्ज होने की शिकायत की। कुछ महिलाएं भी मिलने आई जिनकी समाजवादी पेंशन बंद है। सैकड़ों नौजवानों एवं कार्यकर्त्ताओं ने भी राष्ट्रीय अध्यक्ष से भेंट की। इस मौके पर मुख्तार अनीस पूर्व मंत्री, नरेश उत्तम पटेल प्रदेश अध्यक्ष, बलराम यादव एवं राजेन्द्र चौधरी पूर्व मंत्री, एस.आर.एस. यादव एवं अरविन्द कुमार सिंह एम.एल.सी. उपस्थित थे।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।