१०० रावणों के बराबर हैं बाली – सुमीत कान्त कॉल

एजेंसी

सुमीत कान्त कॉल, दिल्ली के एक मंझे हुए थिएटर आर्टिस्ट हैं, जिनकी अपनी एक शानदार लिगेसी हैं. इनके नाना, येशवंत पेठकर, जो हमारी इंडस्ट्री के जानेमाने डायरेक्टर-प्रोडूसर रहे हैं, जिन्होंने देव आनंद और प्राण जैसे बड़े कलाकारों को ‘आगे-बढ़ो’ और ‘अपराध’ जैसी फिल्मो में ब्रेक दिया था, यहाँ तक की मधुबाला, गीता बाली,  आशा भोसले, लता मंगेशकर जैसे बड़े कलाकारों के साथ भी काम किया हैं. और अब सुमीत इसी लिगेसी को आगे बढ़ा रहे हैं, और अपनी आने वाली फिल्म में एक नेगेटिव किरदार में नजर आने वाले हैं.

बॉलीवुड में यहाँ जल्दी से कोई नेगेटिव रोल नहीं करता, वही सुमीत अपनी आगामी फिल्म पाखी में एक ऐसे इंसान की भूमिका निभाते नजर आयेगे, जो चाइल्ड ट्रैफिकिंग जैसे मुद्दे पर आधारित हैं, यह फिल्म 10 अगस्त 2018 को रिलीज़ होगी.

सुमीत एक एक्टर हैं, स्पिरिचुअल हीलर हैं और कर्मयोगी भी हैं. अपनी डेब्यू फिल्म के बारे में बात करते हुए सुमीत बोले, “हर आठ मिनट में एक बच्चा किडनैप होता हैं. हमारे देश में हर एक घंटे में एक बच्चे की तस्करी होती हैं. यह बच्चा आपका या मेरा भी हो सकता हैं. यह मुद्दा मेरे दिल और दिमाग दोनों को हिला कर रख देता हैं”

सुमीत कई सालो से थिएटर कर रहे है, और इन्होने हर तरह का रोल किया हैं. एक लवर बॉय से लेकर 65 साल के बुजुर्ग तक का रोल किया हैं, और अब एक नेगेटिव किरदार करने जा रहे हैं, जो बच्चो को किडनैप करके उन्हें बाल-विवाह या वेश्यावृति में धकेल देता हैं.

सुमीत बताते हैं की यह रोल उनके लिए काफी चेलेंजिंग रहा, “मैं एक कर्मयोगी हूँ, तो मेरा काम पॉजिटिविटी फैलाना हैं. फिल्म पाखी में, मैं बिलकुल ही उल्टा किरदार कर रहा हूँ. मैं इस फिल्म में एक सूत्रधार हूँ, जो समाज की बुराइयों का आइना हैं, मैं एक डॉन का रोल कर रहा हूँ जो फ्लेश ट्रैफिकिंग का काम करता हैं”

पाखी फिल्म में सुमीत के किरदार का नाम बाली हैं, “मैं एक मेथड एक्टर हूँ, तो मैंने अपने किरदार बाली को जीना शुरू कर दिया, इस सोच के साथ की यह बाली 100 रावणों के बराबर हैं. बाली को यकीन था की डार्क फोर्सेज उसको बचा कर रखेगी, और किसी को दिखाई नहीं देगा. मैं भी उसी जोन में जीने लगा, उसी तरह के इमोशन आने लगे और वही मैंने स्क्रीन पर दिखाए हैं”

बता दे, एक्टर सुमीत, बड़े कलाकार जैसे अमिताभ बच्चन, अन्थोनी होपकिंस और रणवीर सिंह से काफी प्रभावित हैं. सुमीत ने असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर भी काम किया हैं.

सुमीत अपनी फिल्म और ट्रेलर को लेकर बोले, “मुझे बड़ी ख़ुशी हैं की मेरी फिल्म पाखी का ट्रेलर इतना पसंद किया जा रहा हैं. यह सच में आंखे खोलने वाला हैं. हमारी जिम्मेदारी हैं की हम ऐसी कहानियो को कहे ताकि लोग इसके बारे में सोचे और कोई बदलाव आ सके”

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।