आरुषि मर्डर केस पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले पर कोंकणा सेन शर्मा ने जाहिर की ख़ुशी 

विशाल भारद्वाज ने भी अपनी ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा, "सिनेमा के इतिहास में यह बहुत बड़ी जीत है, हम जो चाहते थे वही हुआ। दुखद कही  न कही यह है कि हम उस परिवार के 9 साल वापस नहीं ला सकते...

एजेंसी
हाइलाइट्स

विशाल भारद्वाज ने भी अपनी ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा, "सिनेमा के इतिहास में यह बहुत बड़ी जीत है, हम जो चाहते थे वही हुआ। दुखद कही  न कही यह है कि हम उस परिवार के 9 साल वापस नहीं ला सकते, पर न्याय मिला देर ही सही  इस बात की ख़ुशी है।"

न्यूज़ हेल्पलाइन, मुंबई, 13 अक्टूबर, 2017 

अभिनेत्री कोंकणा सेन शर्मा और लेखक तथा फिल्म निर्माता विशाल भरद्वाज, गुरुवार को 19 वे मामी महोत्सव के ओपनिंग समारोह में शामिल हुए। मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने आरुषि हत्याकांड पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर ख़ुशी जाहिर की और कहा यह लोकतंत्र का बहुत बड़ा फैसला न्याय के पक्ष में गया है ,

आपको बता दे कि वर्ष 2008 में आरुषि तलवार का मर्डर हो गया था,  आरुषि की लाश मिलने के कुछ ही घंटो के बाद उनके उनके नौकर की भी लाश तलवार के घर में से बरामद की गई थी। जिसके बाद यह केश  दिल्ली पुलिस को दे दिया गया था लेकिन दिल्ली पुलिस सबूत इकठ्ठा करने में नाकाम रही थी।  जिसके बाद केश सीबीआई को सौंप दिया गया और सीबीआई ने भी आरुषि के माता पिता को ही दोषी ठहरा दिया, लेकिन इस मामले में जांच की  कोई न कोई कमी ज़रूर रह गई। क्यूंकि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीबीआई द्वारा दिए गए सबूतों में पुख्ता जानकारी ना होने की बात कही है और इसी के साथ आरुषि के माता पिता राजेश तलवार और नूपुर तलवार को बरी कर दिया है। 

वर्ष 2015 में इस अपराध की वास्तविकता पर कोंकणा सेन शर्मा अभिनीत 'तलवार' फिल्म बनाई गई थी। अदालत के फैसले के बाद जब पत्रकारों ने अभिनेत्री से पूछा कि अदालत के फैसले का आप किस तरह से स्वागत करेंगी तो उन्होंने कहा, "यह बहुत ही अच्छी न्यूज़ है,कुछ दुर्भाग्यपूर्ण जरूर है क्योंकि 9 वर्ष किसी मासूम व्यक्ति को परेशान किया जाता है और असली कातिल का पता नहीं चला। पर मैं खुश हूँ की तलवार परिवार को न्याय मिला। 

फिल्म के लेखक विशाल भारद्वाज ने भी अपनी ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा, "सिनेमा के इतिहास में यह बहुत बड़ी जीत है, हम जो चाहते थे वही हुआ। दुखद कही  न कही यह है कि हम उस परिवार के 9 साल वापस नहीं ला सकते, पर न्याय मिला देर ही सही  इस बात की ख़ुशी है।"

फिल्म बनाने का मकसद लोगो में इस के के बारे में जागरूकता लाना था, और जब यही सवाल भरद्वाज  से पूछा गया कि क्या इस फिल्म से केश पर कोई फर्क पड़ा तो उन्होंने कहा, "जरूर क्यूंकि इस बारे में लोगो को जानकारी हुई, केश बाहर आया और कार्यवाही तेज हुई। हम लोगो ने फिल्म किसी पक्ष के तौर पर नहीं बनाई थी।  जो जैसा हुआ था कहानी पूरी वैसे ही थी तो इससे सबकुछ साफ़ हो गया था। "

'तलवार' को जंगली पिक्चर्स द्वारा वितरित किया गया और विनीत जैन और विशाल भारद्वाज द्वारा निर्मित किया गया। फिल्म मेघना गुलजार द्वारा निर्देशित थी और विशाल भारद्वाज ने लिखी थी।

फिल्म कोकणा सेन शर्मा, नीरज कबि और इरफ़ान खान द्वारा अभिनीत थी। 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>