ड्रंकन ड्राइविंग और भ्रष्टाचार पर आधारित है कबीर बेदी की आगामी फिल्म 'जाने क्यों दे यारो'

ड्रंकन ड्राइविंग और भ्रष्टाचार पर आधारित है कबीर बेदी की आगामी फिल्म 'जाने क्यों दे यारो'...

अभिनेता कबीर बेदी जल्द ही अपनी आगामी फिल्म 'जाने क्यों दें यारों' में नज़र आएंगे।

अभिनेता कबीर बेदी को अभिनेता-निर्देशक अक्षय आनंद की फिल्म 'जाने क्यों दे यारों'  के संगीत और ट्रेलर लॉन्च पर देखा गया।

मीडिया परस्पर संवाद के दौरान निर्देशक अक्षय ने कहा कि फिल्म का व्यंग्यपूर्ण विषय शराबी ड्राइविंग और भ्रष्टाचार से सम्बंधित है।

कबीर जो फिल्म में प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं, उन्हें परिवहन कंपनी के मालिक के रूप में देखा जाएगा। जबकि ट्रेलर यह भी सुझाव देता है कि वह जेल सेटिंग में भी दिखाई देंगे।

फिल्म के बारे में बात करते हुए, अक्षय ने कहा, "सच कहूँ तो, कबीर-सर मेरी फिल्म में तीसरे नायक की तरह हैं, जिसमें दो नए चेहरे नायक के रूप में दिखाई देंगे। फिल्म का व्यंग्यपूर्ण विषय शराबी ड्राइविंग पर आधारित है; चालकों को कैसे तैयार किया जाता है और कैसे कानून प्रवर्तन एजेंसियां भोले-भाले आम आदमी को बेवकूफ बना देती हैं।"

कलाकारों के चयन के बारे में बात करते हुए अक्षय ने बताया

"फिल्म भ्रष्टाचार का भी पर्दाफाश करती है। चूंकि मुझे ऐसे कलाकारों की जरूरत थी जो बिलकुल आम आदमी की तरह लगें, मैंने स्टार के चेहरों की बजाय प्रतिभावान आगामी सितारों को रखा है।"

निर्देशक अक्षय आनंद फिल्म के निर्देशक के अलावा एक अहम् भूमिका में भी दिखाई देंगे। अक्षय बॉलीवुड की कई जानी मानी फिल्में, जैसे कि 'जखाम', 'तमन्ना' और आमिर खान की फिल्म 'गुलाम' में अभिनय कर चुके हैं।

अक्षय आनंद फिल्म ने कहा, "यह मेरा सम्मान और विशेषाधिकार है कि मुझे कबीर जैसे एक शानदार वैश्विक अभिनेता को निर्देशित करने का मौका मिला"l

'जाने क्यों दे यारो' में कबीर बेदी के अलावा मुख्य भूमिका में नज़र आएंगे जबकि फिल्म में रघु राजा, अभिषेक शर्मा, दया पांडे, चेतना पांडे और मॉडल नर्तक हेना पांचाल भी नज़ आएंगी।

'थियेटर किंग' द्वारा पेश की गयी और 'नील ऋषि फिल्म्स' द्वारा निर्मित, 'जाने क्यों दे यारों' 1 9 जनवरी, 2018 को रिलीज होने वाली है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।