लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरना कठिन- जुबिन नौटियाल

अपने करियर की शुरुआत वर्ष 2012 में की उसके बाद जुबिन कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। जुबिन मिर्ची अवार्ड से लेकर कई पुरस्कारों से सम्मानित किये गए...

एजेंसी

मुंबई। देहरादून उत्तराखंड से आये गायक जुबिन नौटियाल ने 4वर्ष की उम्र से संगीत में अपनी रूचि दिखाना शुरू कर दी थी। 18 वर्ष की उम्र में न सिर्फ देहरादून, बल्कि पूरे उत्तराखंड में प्रसिद्ध हो गए। अपने करियर की शुरुआत वर्ष 2012 में की उसके बाद जुबिन कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। जुबिन मिर्ची अवार्ड से लेकर कई पुरस्कारों से सम्मानित किये गए। फिल्म इत्तेफाक में बप्पी दा के गाने 'रात बाकी' के लिए उन्होंने कहा, "लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरना थोड़ा कठिन होता है।"

अपने इस नए रीमेक गीत के बारे में बात करते हुए जुबिन कहते हैं,

"पहले तो मैं कहना चाहूंगा कि मुझे फिल्म इत्तेफ़ाक़ का हिस्सा बनकर बहुत अच्छा लगा। मैंने कई गानो के रमिक्स बनाये, कई गानों को एक नए तरीके से पेश कर चुका हूँ और यह इतना आसान काम नहीं हैं, क्यूंकि जब लोगों की सोच और उनकी उम्मीद पर खरा उतरना होता है तो वह थोड़ा कठिन जरूर हो जाता है। जब किसी पुराने गाने को पुनर्निर्मित किया जाता हैं तो उसमें दो ही बाते सामने आती हैं या तो वो बहुत अद्भुत हो सकता है या फिर पूरी तरह से ख़राब। इसलिए मैं अधिकतर रिमिक्स करने के लिए गानों का चुनाव करता हूँ।“

बप्पी लाहिड़ी और आशा भोसले के इस गाने को जुबिन नौटियाल और निकिता गांधी ने मिलकर गाया है। इस गाने को सुनते हुए आप आसानी से पकड़ पाएंगे कि गाने में 'प्यार से' शब्द की जगह इत्तेफाक से का इस्तेमाल किया गया है। इस गाने को तनिष्क बागची ने बनाया है। तनिष्क के साथ काम करने के बारे में बात करते हुए ज़ुबिन कहते हैं,

"जब आप तनिष्क बागची जैसे कलाकार निर्माता के साथ काम करते हों तो वह मज़ा अलग होता है। वो हमेशा अपने नज़रिये से कुछ नया करने का प्रयास करते हैं। और जब निर्माता ही कुछ नया करने में विश्वास रखता है तो गायक को भी वैसा कुछ करने की स्वतंत्रता होती है। हम दोनों ने साथ में जितने भी रिमिक्स गाने बनाये हैं उसे लोगो ने खूब सराहा है।"

"तनिष्क और मैंने अपने करियर की शुरुआत लगभग साथ में ही किये थे। और उनके साथ काम करने का मौक़ा मिलना मेरे लिए सौभाग्य की बात हैं। मैं पहली बार उनसे तब मिला था जब वो मुंबई आये ही थे। और हमने तुरंत साथ में काम करना शुरू कर दिया। इनके साथ काम करने का माहौल बहुत अच्छा होता हैं, हम दोनों कई गानो पर साथ काम कर चुके हैं। उनके बारे में जितने शब्द बोले जाए उतने कम हैं"।

ज़ुबिन नौटीयाल ने कई गानो के रिमिक्स बनाये 'हम्मा' से लेकर बादशाहो फिल्म का सोचा है तक और इसी के साथ रिमिक्स गानो के लिए वो जो महारथ हासिल किये वह सराहनीय हैं। उनकी कला और प्रतिभा के साथ रिमिक्स बादशाह बन गए।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।
hastakshep
>