“टॉयलेट- एक प्रेम कथा” विवाहित महिला पर, तो काशी है एक लड़की की कहानी - तुषार त्यागी

तुषार ने न्यू यॉर्क फ़िल्म स्कूल से डिग्री प्राप्त की है ,और उनका मानना है कि वे हमेशा सामाजिक मुद्दों पर फिल्म बनाने की कोशिश करते हैं और इस वजह से उन्होंने आज इस मुकाम को हासिल किया है।...

एजेंसी
हाइलाइट्स

मुम्बई, 23 सितंबर 2017 (न्यूज़ हेल्पलाइन)  फ़िल्म 'गुलाबी' के बाद फ़िल्म निर्माता तुषार त्यागी की अगली फिल्म 'काशी' होगी। यह फ़िल्म खुले में शौच के बारे में है, आपको बता दे कि इसी आधार पर फ़िल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा भी थी पर दोनों फिल्मों की कहानी अलग है।

फ़िल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा में अक्षय कुमार और भूमि पेंडेकर ने अभिनय किया था, जिसमें वो दोनों एक दूसरे के पति पत्नी का किरदार निभा रहे हैं। तुषार त्यागी ने बताया कि, उनकी फ़िल्म काशी किसी एक नवजवान लड़की पर आधारित है ना कि किसी कपल पर।

"मैं आपको सच बताऊं तो मैं काशी की शूटिंग में इतना व्यस्त था कि फ़िल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा को देख नहीं पाया पर मैंने पढ़ा जरूर है। फ़िल्म में महिला अपने पति को शादी के पहले दिन छोड़कर चली जाती है, क्योंकि उसके पति के घर में शौचालय नहीं था।

तुषार त्यागी ने अपनी फिल्म काशी के बारे में आगे बताते हुए कहा,

Kashi"इस फ़िल्म में एक नवजवान लड़की को खुले खेतो में शौच के लिए जाना पड़ता है। लड़की की मां गरीब होने के कारण घर में शौचालय नही बना पाती, पिता की मृत्यु कुछ वर्ष पहले हो गई होती है। ऐसी हालत में लड़की जिम्मा उठाती है कि वो अपने घर में शौचालय बनवाकर रहेगी।

Kashiफ़िल्म एक गरीब लड़की पर है जो घर में शौच बनाना चाहती है, और उस नवजवान लड़की का किरदार उर्वशी सिंह और इसरत खान ने निभाया है इन नन्हे कलाकारों के साथ काम करने के बारे में निर्देशक ने बताया, की दोनों के साथ काम करने का अनुभव बहुत अच्छा रहा, दोनों भी बहुत मेहनती है। उर्वशी की उम्र महज 13 वर्ष है और इसके पहले वो कभी गांव जैसे क्षेत्र में नही गई थी। जब उन्होंने खुले में शौच की समस्या को देखा तो मुझसे वादा किया कि मैं अपना 100 प्रतिशत दूंगी।

तुषार ने न्यू यॉर्क फ़िल्म स्कूल से डिग्री प्राप्त की है ,और उनका मानना है कि वे हमेशा सामाजिक मुद्दों पर फिल्म बनाने की कोशिश करते हैं और इस वजह से उन्होंने आज इस मुकाम को हासिल किया है।

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।