फिल्मों में संजय की वापसी में 'भूमि' की होगी महत्वपूर्ण भूमिका : प्रिया दत्त

संजय दत्त 3 सालों के बाद फिल्म 'भूमि' से अपनी वापसी कर रहे हैं, संजय दत्त को आखिरी बार 2014 में आई फिल्म "पी.के" में देखा गया था।...

एजेंसी
हाइलाइट्स

न्यूज़ हेल्पलाइन, मुंबई, 10 सितम्बर 2017

प्रिया दत्त गुरुनानक खालसा कॉलेज, बैचलर्स ऑफ़ मास मीडिया (BMM) के विद्यार्थिओं के बीच पहुंची, और अपनी माँ नरगिस दत्त को श्रद्धांजलि भी अर्पित की।

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा फिल्मों में 'संजय दत्त' की वापसी 3 साल बाद हो रही है, इसमें फिल्म की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।“

 फिल्म के बारे में बात करते हुए प्रिया दत्त ने कहा

"हम सभी फिल्म को लेकर नर्वस हैं, लेकिन मुझे पता है कि यह संजय के लिए एक अच्छी वापसी होगी। उनके जीवन में  बहुत से  उतार चढ़ाव आये। उनका जीवन  एक खुली किताब की तरह है।  वह हमेशा वापस आने और अपने पैरों पर खड़े होने में सफल रहे हैं। मैंने उन्हें  हमेशा आगे बढ़ते देखा है। उनकी फिल्म का  ट्रेलर अद्भुत है। मैंने उन्हें फिल्म के लिए काम करते हुए देखा है। मुझे यकीन है कि यह फिल्म दर्शको को बहुत पसंद आएगी।“

जब उनसे पूछा गया कि माँ को श्रद्धांजलि देने का ये मौका कैसे रहा, तो उन्होंने कहा,

"बहुत अच्छा लगा मुझे यहाँ आकर, माता पिता की बहुत सारी पुरानी यादें ताजा हो गई, मेरे पिताजी और मेरे भाई को एक साथ मुन्नाभाई एम्.बी.बीएस फिल्म में देखा गया था, वो फिल्म एक मात्र फिल्म है जिसमे दोनों ने साथ में काम किया था। उस समय मेरे पिताजी बहुत नर्वस थे क्यूंकि बहुत लम्बे समय के बाद वो फिल्मों में वापसी कर रहे थे।“

 संजय दत्त 3 सालो के बाद फिल्म 'भूमि' से अपनी वापसी कर रहे हैं, संजय दत्त को आखिरी बार 2014 में आई फिल्म "पी.के" में देखा गया था।

इस फिल्म की कहानी  एक पिता और एक बेटी के बीच संबंधों पर केंद्रित है। भूमि 4 अगस्त को रिलीज होने वाली थी, लेकिन निर्माताओं ने रिलीज की तारीख 22 सितंबर कर दी। इस फिल्म के कलाकारों में संजय दत्त, अदिति राव हाइडीरी और सिद्धांत गुप्ता शामिल हैं।

'भूमि' 22 सितंबर, 2017 से सिनेमा घरो में रिलीज़ हो रही है।

 

हस्तक्षेप से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें
facebook फेसबुक पर फॉलो करे.
और
facebook ट्विटर पर फॉलो करे.
"हस्तक्षेप"पाठकों-मित्रों के सहयोग से संचालित होता है। छोटी सी राशि से हस्तक्षेप के संचालन में योगदान दें।